कृतिदेव,देवलिस सहित अन्य फॉन्ट पर प्रतिबंध, सिर्फ यूनिकोड में होगा पत्राचार – प्रमुख सचिव अरुण पांडे

Advertisements

NEWS IN HINDI

कृतिदेव,देवलिस सहित अन्य फॉन्ट पर प्रतिबंध, सिर्फ यूनिकोड में होगा पत्राचार – प्रमुख सचिव अरुण पांडे

भोपाल। राजस्व विभाग से कमिश्नर या कलेक्टर को कोई भी पत्राचार करना है तो वो सिर्फ यूनिकोड में होगा। इसके अलावा कोई भी फॉन्ट का उपयोग नहीं होगा। विभाग ने कृतिदेव, देवलिस सहित अन्य फॉन्ट पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया है।

प्रमुख सचिव अरुण पांडे ने सभी कमिश्नर और कलेक्टरों को आदेश दिए हैं कि यदि कोई लिपिक या कम्प्यूटर ऑपरेटर यूनिकोड फॉन्ट का इस्तेमाल नहीं करता है तो उसे 15 दिन की चेतावनी दी जाए। इसके बाद भी यदि काम में सुधार नहीं होता है तो अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाए।

सूत्रों के मुताबिक सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग ने शासकीय पत्र व्यवहार में यूनिकोड फॉन्ट का प्रयोग करने के लिए सभी विभागों को लिखा है। दरअसल, अलग-अलग फॉन्ट के इस्तेमाल से परेशानी होती है। मंत्रालय में ई-ऑफिस व्यवस्था लागू होने वाली है।

कार्यालयीन कार्य में एकरूपता रहे, इसके लिए एक ही फॉन्ट का प्रयोग करने का फैसला किया है। सूचना प्रौद्योगिकी विभाग के पत्र को मद्देनजर रखते हुए राजस्व विभाग ने सभी कमिश्नर और कलेक्टरों से कहा है कि वे पत्र व्यवहार में यूनिकोड फॉन्ट का ही उपयोग करें। बाकी सभी फॉन्ट पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया गया है।

 

NEWS IN English

Kritidev, Devalis, including restrictions on other fonts, will be in Unicode only Correspondence – Principal Secretary Arun Pandey

Bhopal. Any correspondence to the commissioner or collector from the revenue department is to be done only if it is in Unicode. Apart from this, no fonts will be used. The department has completely banned other fonts including Kritidov, Devalis.

Chief Secretary Arun Pandey has ordered all the commissioners and collectors that if a clerk or computer operator does not use Unicode fonts, then they should be given 15 days’ warning. After this, if the work does not improve then disciplinary action can be taken.

According to sources, the Department of Information and Technology has written to all the departments to use Unicode font in government letter dealing. Actually, using different fonts is a problem. The e-office system is going to be implemented in the ministry.

Having uniformity in official work, it has decided to use the same font. Keeping in view the letter of information technology department, the revenue department has asked all the commissioners and collectors to use Unicode fonts in their correspondence. All other fonts have been completely banned.

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.