खबर का असर : बैतूल से सटे दर्जन भर गांवों में बड़े पैमाने पर बन रही कालोनिया

Advertisements

NEWS IN HINDI

खबर का असर : बैतूल से सटे दर्जन भर गांवों में बड़े पैमाने पर बन रही कालोनिया

कलेक्टर के निर्देश पर एक बार फिर आनन-फानन कराया जा रहा सर्वे

बैतूल। शहर से सटे दर्जन भर गांवों की कृषि भूमि औने-पौने दामों पर खरीदकर भू-माफिया के द्वारा अवैध कालोनियों का निर्माण किया जा रहा है। राजस्व विभाग की अनदेखी के कारण तेजी से हो रहे अवैध कालोनियों के निर्माण पर अब कलेक्टर ने संज्ञान लिया है। कलेक्टर के निर्देश पर तहसीलदार बैतूल के द्वारा 4 टीमें बनाकर 14 लोगों को 24 घंटे के भीतर 13 गांवों का निरीक्षण कर प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के आदेश दिए हैं। इस आदेश का पालन करने के लिए मंगलवार की सुबह से ही राजस्व निरीक्षकों के साथ पटवारियों की टीमें गांव-गांव भ्रमण कर अवैध कालोनियों की जानकारी जुटा रही हैं। बैतूल शहर से सटे ग्राम बडोरा, हनोत्या, आरूल, बटामा, भरकावाड़ी, भड़ूस, दनोरा, सोनाघाटी, जामठी, मरामझिरी, गौठाना, टिकारी, सोमवारी पेठ, बदनूरढाना और हमलापुर में कृषि भूमि खरीदकर छोटे-छोटे प्लाट काटकर बेचने का गोरखधंधा तेजी से बढ़ रहा है। कालोनी बनाने का झांसा देकर लोगों को मंहगे दामों पर प्लाट बेचने के बाद भू-माफिया के द्वारा न तो कालोनी की विधिवत अनुमति ली जा रही है। और न ही विकास के कार्य किए जा रहे हैं। ऐसी दशा में प्लाट खरीदने वालों को मकान बनाने के लिए बैंक से कर्ज तक नहीं मिल पा रहा है। शहर से सटे गांवों में भू-माफिया के चंगुल में फंसने के बाद परेशान हो रहे लोगों की कई शिकायतें जब कलेक्टर के पास पहुंची तो उन्होंने इस ओर गंभीरता से कार्य करने के लिए आदेश दिए हैं।

आधा एकड़ में भी काटे जा रहे प्लाट
शहर से सटे बडोरा, भरकावाड़ी और जामठी क्षेत्र में मात्र आधा एकड़ कृषि भूमि खरीदकर प्लाट बेचने का कारोबार किया जा रहा है। शहर में मकान बनाने की मंशा रखने वाले लोग इनके झांसे में आकर प्लाट तो खरीद रहे हैं लेकिन बाद में उन्हें अपने साथ हुई ठगी का अहसास हो रहा है। नियम कायदों को ताक पर रखकर हो रहे कालोनियों के निर्माण की ओर राजस्व विभाग का अमला आंख उठाकर देखने की जहमत भी नहीं उठा रहा है। राजस्व अमले की बेपरवाही के कारण ही शहर से सटे गांवों में तेजी से कृषि भूमि पर प्लाट काटे जा रहे हैं।

सरकारी जमीन निगल रहे कालोनाईजर
बैतूल से सटे गांवों में खुलेआम करोड़ों की सरकारी जमीन पर कालोनाईजरों के द्वारा कब्जा कर मुनाफा कमाया जा रहा है लेकिन न तो जिम्मेदार विभाग कोई कार्रवाई कर रहा है और न ही जिला प्रशासन ने आज तक इस ओर ध्यान देने की जहमत उठाई है। बटामा क्षेत्र में 200 करोड़ की सरकारी जमीन भू-माफिया निगल रहा है और जल संसाधन विभाग चुप्पी साधे बैठा हुआ है। कई बार क्षेत्र के लोगों ने शिकायत भी की लेकिन जांच पड़ताल के नाम पर खानापूर्ति कर दी जाती है।

जांच में मिली 2 दर्जन अवैध कालोनियां
मंगलवार को राजस्व विभाग के अमले द्वारा दर्जन भर गांवों में की गई पड़ताल में 2 दर्जन से अधिक अवैध कालोनियों का निर्माण उजागर हुआ है। तहसीलदार द्वारा बनाए गए 4 दलों के निरीक्षण में यह सामने आया है कि भू स्वामियों के द्वारा अपनी कृषि भूमि में बिना अनुमति छोटे-छोटे भूखंड बेचे जा रहे हैं और मौके पर प्लाटिंग कर लोगों को गुमराह किया जा रहा है। कई स्थानों पर तो नहर से सटी सरकारी भूमि पर कालोनी का रास्ता बनाने का दावा किया जाकर प्लाट बेचे जा रहे हैं।

प्रशासन की कार्रवाई से मची खलबली
मंगलवार की सुबह जैसे ही राजस्व विभाग का अमला अवैध कालोनियों का निरीक्षण करने के लिए निकला वैसे ही कालोनाईजरों में खलबली मच गई। बिना अनुमति के प्लाट बेचने वालों के द्वारा राजस्व अमले से ही बचाव का रास्ता पूछने का सिलसिला शुरू हो गया। हालांकि कई लोगों का यह मानना है कि पूर्व में भी कई बार निरीक्षण कराने के बाद रिपोर्ट मांगी गई थी लेकिन कोई कार्रवाई आज तक नही की जा सकी है। यही कारण है कि इस बार की जा रही कवायद को भी आम लोग महज खानापूर्ति ही मान रहे हैं।

इनका क्या कहना है।
सभी दलों के द्वारा उनके क्षेत्रों में निरीक्षण कर रिपोर्ट दी जा रही है। कार्रवाई का प्रतिवेदन कलेक्टर के समक्ष प्रस्तुत करने के बाद जो भी निर्देश मिलेंगे उसके अनुसार कार्रवाई की जाएगी।
बीएन वासनिक, तहसीलदार बैतूल

 

NEWS IN English

The impact of the news: Large scale colonies in dozens of villages adjacent to Betul

Once again on the collector’s instructions, the survey being conducted.

Betul The illegal colonies are being constructed by land mafia by purchasing agricultural land of more than a dozen villages adjacent to the city. Now the collector has taken cognizance on the creation of illegal colonies due to the ignorance of revenue department. On the instructions of the collector, 4 teams have been constituted by Tehsildar Betul, and 14 people have been ordered to submit report after inspection of 13 villages within 24 hours. To follow this order, on Tuesday morning, the team of tourists along with revenue inspectors have been visiting villages and villages and collecting information about the illegal colonies. The sale of small and small plot by buying agricultural land in village Badora, Hanoi, Arul, Batamah, Bhakawadi, Bhadus, Danora, Sonaghati, Jamthi, Marmaziri, Gothana, Tikari, Somrai Peth, Badnodhana and Amlapur adjacent to Betul city increased rapidly Used to be. Due to the bluff of colony making, people have been receiving duly permission from colonies by the land mafia after selling the plot at a cost of prices. Nor are the works of development going on. In such a situation, the people who bought the plot are not able to get the loan from the bank to build a house. Many people complained after being trapped in the clutches of land mafia in the villages adjacent to the city, when they reached the collector, they ordered them to act seriously on this side.

Half-acre bite plot
The business is being sold by buying only half acre agricultural land in Badora, Bhekawadi and Jamthi area adjacent to the city. Those who are interested in building a house in the city are coming in their laughter and they are buying the plot but later they are feeling a thief with them. The staff of the revenue department is not even bothered to see the construction of the colonies keeping the rules and regulations in mind. Due to the negligence of the revenue administration, the plot is being set up on fast agricultural land in villages adjacent to the city.

Coloniser swallowing government land
In villages adjacent to Betul, openly millions of government land is being made by the residents of Kalonaijars, but neither the responsible department is taking any action nor the district administration has raised the issue of paying attention to it till date. In the Batamah area, the official land of 200 crore is swallowing the land mafia and the water resources department is sitting silently. Many times the people of the area also complained but after scrutiny, they were made to eat.

2 dozen illegal colonies found in investigation
On Tuesday, the investigation of the dozens of illegal colonies in the dozen villages of the revenue department was revealed. Inspection of the 4 parties made by the Tehsildar, it has been revealed that the small owners of small land are being sold without permission in their agricultural land by the land owners and people are being misled by placing them on the spot. In many places, plots are being sold by claiming to make way for colony on government land adjacent to canal.

Baffle with the administration’s action
On Tuesday morning, as soon as the staff of the revenue department came out to inspect the illegal colonies, there was a panic among the colonizers. The process of asking for a safeguard from the owners of the plot without permission was started. Although many people believe that the report was sought after several inspections in the past but no action can be made to this day. This is the reason that the common man is being considered as the only Khapha this time.

What they have to say
All the parties are being inspected by their inspection in their areas. Action will be taken as per the instructions given after submission of the action to the collector.
BN Wasnik, Tehsildar Betul

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.