मनसंगी पत्रिका ग्यारवा अंक

Advertisements

हताश करते लोग” का सफल प्रकाशन

मनसंगी साहित्य संगम की ओर से मासिक पत्रिका की कड़ी में ग्यारहवें अंक -“हताश,करते लोग ” का सफल प्रकाशन किया गया, जिसे संपादक आ. निहारिका पाटीदार जी के द्वारा सुंदर चित्रों द्वारा सुसज्जित करके पत्रिका को आकर्षक बनाया व संकलन का कार्य आ. जागृति शर्मा ने किया।

मनसंगी परिवार की ओर से संस्थापक अमन राठौर “मन” और सह संस्थापिका मनीषा कौशल के सानिध्य में, सत्यम द्विवेदी की अध्यक्षता में मनसंगी परिवार की समाज की वर्तमान स्थिति को दर्शाते हुए व जीवन व लक्ष्यों के प्रति जागरूक करती इस पत्रिका का बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति किया गया।सरस्वती वंदना से शुरुवात सत्यम द्विवेदी ने दिया।

पत्रिका को सफल बनाने में ज्ञानेश्वरी व्यास, डां.राम शरण सेठ, रचना सिंह, रश्मि श्रीवास्तव, सुरंजना पांडेय, डां.संजू त्रिपाठी “एक सोच”, काजल सोनी, आंकाक्षा वर्मा, देवेश दीक्षित, निधी बोथरा जैन, त्रिभुवन गौतम, रामकुमारी, वीरेंद्र बहादुर सिंह, अंजू भाटिया, नम्रता नाग, डां. सरला सिंह, विनीत श्रीवास्तव, अनामिका संजय अग्रवाल, नीलोफ़र फ़ारक़ी तोसीफ़, माला पहल, प्रियंका लालवानी, तलत एजाज, सुफिया सुलताना, प्रीति सक्सेना, वेद प्रकाश दिवाकर, शिक्षा दीक्षित, एकता श्रीवास्तव, हरि प्रकाश गुप्ता सरल, डां. चन्द्रेश कुमार, आरती श्रीवास्तव, ज़ीनत मोहसिन, गुरुदयाल झारिया, ज्योति भावनानी, प्रवीण कुमार शर्मा, खैरून निशा नकवी, डां. शशिकला अवस्थी, मिती प्रियंका, कल्पना रामनारायण, एस पी मिश्रा “हिन्दुस्तानी “, रविशंकर निषाद, निहारिका पाटीदार, नैन्सी बंसल, आंचल त्रिपाठी, लता सिंघई, सुनीता यादव, माही मंसूरी, नवनीत कुमार ने अपनी रचना देकर योगदान दिया।

पत्रिका के बारे में संकलक जागृति शर्मा ने बताया कि पत्रिका के ग्यारहवें अंक “हताश करते लोग” जीवन में उम्मीदों पर खरे ना उतरते लोग, जीवन में निराशा से उत्पन्न समस्या,निराशा से उभरने के उपाय पर आधारित पत्रिका हैं। जिससे समाज और पाठक इस विषय के बारे में जान सके और जीवन में अपनाकर अपने जीवन में सकारात्मक बदलाव ला सके।

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

One Thought to “मनसंगी पत्रिका ग्यारवा अंक

  1. Abhishek soni

    मैं भी कविताएं और लेख लिखता हु मुझे भी आपके वाट्स अप ग्रुप ने एड करे महोदय जी ताकि मैं भी अपनी कला को और निखार सकू और आप सभी से बहोत कुछ सीख सकू मेरा no 7725058019 है

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.