जन्मदिन विशेष – पाथाखेडा क्षेत्र की त्रिमूर्ति के आधार स्तंभ है डॉ. कृष्णा मोदी

Advertisements

जन्मदिन विशेष – पाथाखेडा क्षेत्र की त्रिमूर्ति के आधार स्तंभ है डॉ. कृष्णा मोदी


डॉ कृष्णा मोदी प्रमुख एटक 92 वर्ष, बाबू बेचनराम प्रमुख इंटक 78 वर्ष , डॉ बसंत कुमार राय प्रमुख बीएमएस 76 वर्ष तीनों पाथाखेड़ा क्षेत्र के लोकप्रिय मजदूर नेता रहे हैं तीनों ने मज़दूरों की लड़ाई लड़ते हुए दशको से इस क्षेत्र में अपना दबदबा बनाए रखा है।इंटक नेता बाबू बेचनराम जहां डब्ल्यू.सी.एल नागपुर तक अपनी पहचान बनने मे सफल हुए ।

वहीं उनके प्रतिद्वंदी डॉ कृष्णा मोदी और डॉ बसंत कुमार राय ने कोल इंडिया स्तर पर अपनी पहचान बनाई। डॉ राय और डॉ मोदी कोल इंडिया की जेबीसीसीआई सदस्य भी रहे और अपने अपने यूनियन के राष्ट्रीय पदाधिकारी भी बने*। बाबू बेचनराम कहते है श्री कृष्णा मोदी जी मेरे राजनैतिक गुरु है और पाथाखेड़ा क्षेत्र के सर्वमान्य मजदूर नेता के रूप में हमेशा अमर रहेंगे।


1973 में कोयला राष्ट्रीयकरण होने के बाद पाथाखेड़ा में मजदूर आमसभा को संबोधित करते हुए डॉ मोदी

उन्होंने इस क्षेत्र को बसाने में अपना जीवन गुजार दिया है और आज भी क्षेत्र की उन्नति में आपने सहयोग दे रहे है 1972-73 कोयला खदानों के राष्ट्रीयकरण में डॉ मोदी का अमूल्य योगदान रहा है, मोदी जी सबसे पहले छिंदवाड़ा जिले के दमुआ की निजी हाथो की कोयला खदान के राष्ट्रीयकरण के लिए संघर्ष में हिस्सा लेकर कोल इंडिया में पहली छिंदवाड़ा जिले की दमुआ कोयला खदान के विलयकरण के बाद एक एक करके सभी निजी क्षेत्र् की कोयला खदानों का राष्ट्रीयकरण करवाने में योगदान दिया। आज श्री कृष्णा मोदी जी भारतीय कोयला उद्योग में कार्य कर रहे सबसे दिग्गज़ ट्रेड यूनियन नेता है।

बीएमएस यूनियन के कोल /नॉन कोल प्रभारी रहे डॉ. बसंत राय ने बताया कि मोदीजी कम्युनिस्ट पार्टी और एटक यूनियन बड़े नेता के रूप में जाने जाते है उनकी सबसे बड़ी खूबी हैं की वे हमेशा से जमीनें स्तर पर कार्य करते हुए राष्ट्रीय प्रसिद्धि प्राप्त की है। मै मोदी जी को करीब 51 वर्षों से जानता हूं। मोदी जी ने कोयला मजदूरों के लिए इस क्षेत्र में सबसे ज्यादा आंदोलन कर उनका हक दिलाने में हमेशा महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

लेख – शिवम मोदी

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.