40 दिवसीय गायत्री साधना पूर्णाहुति के साथ संपन्न

Advertisements

40 दिवसीय गायत्री साधना पूर्णाहुति के साथ संपन्न

नंदन दमुआ गायत्री शक्तिपीठ क्षेत्र के 35 साधकों ने छोड़ी दिव्य यज्ञ अनुष्ठान में आहुतियां


दमुआ, (दुर्गेश डेहरिया)। गायत्री महामन्त्र की चालीस दिवसीय सफल साधना की पूर्णाहुति देने गायत्री शक्ति पीठ परिसर में उमड़े। पूर्णाहुति यज्ञ अनुष्ठान संपादन वरिष्ठ गायत्री साधिका राधिका दवंडे ने कराया। साधको ने अपने साधना काल के जप मन्त्रो के दशांश गायत्री महामन्त्र से पूर्णाहुति यज्ञ में आहुतियां छोड़ी। इस मौके पर शक्तिपीठ में सात माह की बिटिया खुशी दिनेश चौरकर का अन्न प्रासन संस्कार भी कराया गया। यज्ञानुष्ठान संचालिका राधिका दवंडे ने इस अवसर पर साधना का महत्व बताते हुए कहा कि पूज्य गुरुसत्ता की अनमोल कृपा का पात्र बनने का यह सुयोग है। वर्ष 2017 से वर्ष 2026 तक प्रतिवर्ष 40 दिवसीय साधना अनुष्ठान की योजना है। वर्ष 2026 में पूज्य गुरुदेव द्वारा आँवलखेड़ा मे प्रज्वलित अखण्ड ज्योत तथा वन्दनीया माताजी के सौ वर्ष पूर्ण होंगे ।वर्ष 2026 के शताब्दी महोत्सव की दिव्यता भव्यतापूर्ण सफलता के लिए गायत्री साधक 40 दिवसीय साधना कर रहे है।

इसी क्रम में शक्तिपीठ में इस साधना के लिए बसंत पंचमी गुरु पर्व के समय संकल्प दिलाया गया था। क्षेत्र के 35 गायत्री साधको ने शांतिकुंज हरिद्वार के साधना कार्यक्रम में क्षेत्र से सहभागिता देकर घर मे जप अनुष्ठान का प्रण लिया था। 18 मार्च को साधना के 40 दिवस पूरे हुए। साधको ने इस जप साधना रोजाना एक माला, दो माला और तीन माला जप से की। अनेक परिजनों ने घर पर ही पूर्णाहुति अनुष्ठान भी किया। इसके बावजूद शक्तिपीठ संचालन समिति ने अपने तत्वाधान में रविवार पूर्णाहुति यज्ञानुष्ठान कराया। प्रातः 11 बजे से यज्ञानुष्ठान शुरू हुआ।

मालूम हो कि शांतिकुंज हरिद्वार के निर्देश पर पहली बार 30 जनवरी 2020 बसंत पंचमी से साधकों ने 40 दिनों का अनुष्ठान प्रारंभ किया था। साधना के तहत साधको, परिजनों ने प्रतिदिन 27 माला गायत्री महामंत्र का जाप किया। इसी अवधि में दमुआ, नंदन, करैया, घोड़वाडी, मांडई नवेगांव, चुरनी चौगान, कोलवाशरी आदि क्षेत्रो में साधको ने अपने अपने घरों में गायत्री महामन्त्र का 12 घंटे का सामूहिकअखंड जाप भी कराया।

पूर्णाहुति यज्ञानुष्ठान उपरांत शक्तिपीठ संयोजक मण्डल ने कामठी में आरंभ हुए 108 कुंडीय गायत्री यज्ञानुष्ठान तथा जिले के सांवरी बाजार में 22 मार्च से शुरू होने वाले गायत्री परिवार के तीन दिवसीय युवा प्रशिक्षण शिविर तथा गुरुकुल विद्यालय शुभारम्भ सम्बन्धी जानकारी भी दी। दोनों ही जगहों पर आयोजित अनुष्ठानों में शांतिकुंज हरिद्वार प्रमुख डॉ चिन्मय पंड्या उपस्थित रहेंगे।साधको परिजनों को उन्हें सुनने का अवसर मिलेगा।

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.