संघ का दशहरा प्रबोधन: जनसंख्या असंतुलन पर तेज हो विमर्श – गुगनानी

संघ का दशहरा प्रबोधन: जनसंख्या असंतुलन पर तेज हो विमर्श – गुगनानी लेख – Praveen Gugnani विश्व के प्रसिद्ध कूटनीतिज्ञ, राजनयिक, व ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री विंस्टन चर्चिल ने कहा था कि “यदि अपने देश की दीर्घकालिक समस्याओं को सुलझाना है तो, इतिहास  पढ़िए ,इतिहास  पढ़िए, इतिहास पढ़िए; इतिहास  में  ही राज्य  चलाने  के सारे  रहस्य छिपे हैं”. भारत के संदर्भ में यह कहा जा सकता है कि यदि देश चलाना है, सुशासन करना है तो देश में जनसंख्या असंतुल का इतिहास पढ़ो.  हमें भारत की सबसे बड़ी व संवेदनशील…

Read More

पत्रकार ही घोंट रहें है पत्रकारों की आवाज का गला- जेसीआई

पत्रकार ही घोंट रहें है पत्रकारों की आवाज का गला- जेसीआई आज पत्रकार ही पत्रकारों की आवाज का गला घोंट रहे।अक्सर देखने मे आता है कि यदि किसी पीड़ित पत्रकार की कोई समस्या उनके संज्ञान में आती भी है तो उसे वह अपने समाचार पत्र पोर्टल पर चैनल में स्थान देने में संकोच करते है।समाज और सरकार के बीच की कड़ी कहलाने बाले पत्रकार आज अपने ही साथियों की आवाज को बुलंद करने में संकोच करते देखे जाते है। गैर मान्यताप्राप्त पत्रकारों के संगठन जर्नलिस्ट काउंसिल ऑफ इंड़िया (रजि0) के…

Read More

हर भारतवासी को पता होना चाहिए तिरंगे के सम्मान के ये नियम

हर भारतवासी को पता होना चाहिए तिरंगे के सम्मान के ये नियम राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे के सामने पूरा भारत देश नतमस्तक है, देश का हर नागरिक तिरंगे का दिल से सम्मान करता है। भारत के संविधान में तिरंगे का अपमान करना दंडनीय अपराध माना गया है, जिसे लेकर सजा का भी निर्धारण किया गया है। तीन रंगों से बना तिरंगा केसरिया, सफेद और हरा ये तीनों रंग देश के प्रतीक है, जिसमें केसरिया बलिदान का, सफेद शांति का और हरा रंग हरियाली यानी स्वतंत्रता का प्रतीक है। आज देश में…

Read More

समाचारों की विश्वसनीयता ही होती है पत्रकार की पहचान

समाचारों की विश्वसनीयता ही होती है पत्रकार की पहचान पत्रकार द्वारा लिखे गये या दिखाये गये समाचार की विश्वसनीयता ही उसकी पहचान होती है आज डिजिटल मीडिया के दौर मे समाचार को पहले दिखाने की होड़ मे पत्रकार समाचार की विश्वसनीयता पर ध्यान ही नही दे रहे जो पत्रकारिता के लिए चिंतनीय है।पत्रकार का मान- सम्मान भी उसके समाचार से जुड़ा होता है। आज देश मे तमाम वेव पोर्टल व यूट्यूब चैनल चल रहे है आये दिन इनके समाचारों पर प्रश्नचिन्ह लगते दिखते है जो पत्रकारिता के लिए घातक है।यह…

Read More

डॉ. कृष्णा मोदी जन्मदिन विशेष – कोयला मजदूरों के लिए लड़ते रहे है

डॉ. कृष्णा मोदी जन्मदिन विशेष – कोयला मजदूरों के लिए लड़ते रहे है कम्युनिस्ट पार्टी से जुड़ जाने के बाद 1953 से पार्टी के मजदूर यूनियन “एटक” के साथ कार्य प्रारंभ किया। 1954 में एटक यूनियन के राष्ट्रीय महासचिव कॉम. एस.ए .दांगे ने कॉम मोदी को मध्यप्रदेश कि मैग्नेसे और कोल माइन्स का सहप्रभारी बनाया था । 1958 में ही एटक कोल फेडरेशन (इंडियन माइन वर्कर्स फेडरेशन) की स्थापना हुई थी डॉ मोदी इसके संस्थापक सदस्य भी है। 1959 में कॉम मोदी ने इंटर कास्ट शादी कर भिलाई में बस…

Read More

डॉ. कृष्णा मोदी जन्मदिन विशेष – डॉ मोदी की कार्यशैली पर पूर्व राज्यसभा सांसद सिंह, डब्लूएफटीयू के डिप्टी महासचिव महादेवन, इंटक राष्ट्रीय नेता जामा के विचार

डॉ. कृष्णा मोदी जन्मदिन विशेष – डॉ मोदी की कार्यशैली पर पूर्व राज्यसभा सांसद सिंह, डब्लूएफटीयू के डिप्टी महासचिव महादेवन, इंटक राष्ट्रीय नेता जामा के विचार 1976 से डॉ मोदी के साथ कोयला उद्योग में काम कर रहे पूर्व राज्यसभा सांसद एटक के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष कॉम. आर.सी. सिंह बताते है की मै हमेशा से मोदी जी का प्रशंसक रहा हूं वे अपनी बात स्पष्ट तरीके से रखने वाले सीधे साधे और दृढ़ प्राकृतिक के व्यक्तित्व के धनी है। उन्होंने हमेशा से आपने आपको जमीनी स्तर का रखा है। आज भी…

Read More

जन्मदिन विशेष – पाथाखेडा क्षेत्र की त्रिमूर्ति के आधार स्तंभ है डॉ. कृष्णा मोदी

जन्मदिन विशेष – पाथाखेडा क्षेत्र की त्रिमूर्ति के आधार स्तंभ है डॉ. कृष्णा मोदी डॉ कृष्णा मोदी प्रमुख एटक 92 वर्ष, बाबू बेचनराम प्रमुख इंटक 78 वर्ष , डॉ बसंत कुमार राय प्रमुख बीएमएस 76 वर्ष तीनों पाथाखेड़ा क्षेत्र के लोकप्रिय मजदूर नेता रहे हैं तीनों ने मज़दूरों की लड़ाई लड़ते हुए दशको से इस क्षेत्र में अपना दबदबा बनाए रखा है।इंटक नेता बाबू बेचनराम जहां डब्ल्यू.सी.एल नागपुर तक अपनी पहचान बनने मे सफल हुए । वहीं उनके प्रतिद्वंदी डॉ कृष्णा मोदी और डॉ बसंत कुमार राय ने कोल इंडिया…

Read More

डॉ. कृष्णा मोदी जन्मदिन पर विशेष, कार्य के प्रति कोई समझौता नहीं किया

डॉ. कृष्णा मोदी जन्मदिन पर विशेष, कार्य के प्रति कोई समझौता नहीं किया डाॅ मोदी को पढने में इतनी रुचि थी कि उन्होंने शादी होने के बाद नौकरी करते हुए{बी.ए/एम.ए/एल एल बी सागर विश्वविद्यालय} {बनारस विश्वविद्यालय से वैध विशाराद/ डॉक्टरी पास की थी} {नेशनल लेबर इंस्टीट्यूट दिल्ली से डेवलपमेंट कोर्स किया}। आज भी वे मध्य प्रदेश स्टेट बार काउंसिल ( अधिवक्ता) के मेंबर है। डाॅ मोदी कहते है की करीब 7 दशक से कोयला उद्योग में काम करते उन्हें यही महसूस हुआ है कि मजदूर हमारे समाज का वह तबका…

Read More

जन्मदिन विशेष – कोल इंडिया लिमिटेड से लेकर मध्यप्रदेश सरकार में कई कमेटी के सदस्य रहे मोदी

जन्मदिन विशेष – कोल इंडिया लिमिटेड से लेकर मध्यप्रदेश सरकार में कई कमेटी के सदस्य रहे मोदी शिवम् बताते है आपने जमाने के जाने माने कम्युनिस्ट एवम् लोकप्रिय श्रमिक नेता रहे दादाजी डॉ मोदी डब्लू.सी.एल से एटक यूनियन का प्रतिनिधित्व करते आ रहे है। वहीं मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ एटक यूनियन के प्रमुख रहे चुके है। उस समय (एस.ई.सी.एल और एम.सी.एल) डब्ल्यूसीएल का हिस्सा हुआ करता था। मोदी जी कोल इंडिया लिमिटेड की जेबीसीसीआई कमेटी 4/5/6/7 के 20 वर्षों तक और कोल इंडिया वेल्फेयर बोर्ड कमेटी के 5 वर्षों तक सदस्य…

Read More

डॉ. मोदी जन्मदिन विशेष – डॉ. कृष्णा मोदी के 92 वे जन्मदिवस से पूर्व उनके जीवन के कुछ अहम पहलू

डॉ. मोदी जन्मदिन विशेष – डॉ. कृष्णा मोदी के 92 वे जन्मदिवस से पूर्व उनके जीवन के कुछ अहम पहलू डाॅ मोदी के जीवन में ऐसे क्षण भी आए जब वर्ष 1986 में उनकी धर्मपत्नी शैल नेल्सन मोदी का कैंसर से निधन होगया था। उसके बाद पार्टी की जिम्मेदारी बढ़ती जाती रही । 1987 में भारतीय कम्यूनिस्ट पार्टी के प्रतिनिधित्व करते हुए कॉम मोदी तीन माह के लिए लिए (यूएसएसआर) मॉस्को जाना पड़ा था। पार्टी ट्रेनिंग खत्म कर वापस होते समय नागपुर एयरपोर्ट पर बीएमएस यूनियन के राष्ट्रीय नेता डॉ…

Read More