PNB घोटाले के बाद RBI का बड़ा फैसला, LoU पर लगाया प्रतिबंध

Advertisements

NEWS IN HINDI

PNB घोटाले के बाद RBI का बड़ा फैसला, LoU पर लगाया प्रतिबंध

नई दिल्लीः पंजाब नैशनल बैंक (पी.एन.बी.) में हुए 11,400 करोड़ रुपए के घोटाले के बाद भारतीय रिजर्व बैंक (आर.बी.आई.) ने बड़ी कार्रवाई की है। आर.बी.आई. ने देश के सभी बैंकों पर आयात के लिए लेटर ऑफ अंडरटेकिंग (एल.ओ.यू.) जारी करने पर रोक लगा दी है। इसके अलावा लेटर ऑफ क्रेडिट और बैंक गारंटी भी कुछ शर्तों के साथ ही दी जा सकेगी। जानकारों के अनुसार रिजर्व बैंक के इस कदम से कई कारोबारियों को दिक्कत हो सकती है। ऑल इंडिया जेम्स एंड ज्वेलरी के चेयरमैन नितिन खंडेलवाल के मुताबिक बैंक के इस कदम से छोटे ज्वैलरों पर असर होगा।

क्या है एल.ओ.यू.?

लेटर ऑफ अंडरटेकिंग एक तरह की बैंक गारंटी होती है जो ओवरसीज इंपोर्ट पेमेंट के लिए जारी की जाती है। सीधे शब्दों में इसका अर्थ होता है कि अगर लोन लेने वाला (नीरव मोदी) इस लोन को नहीं चुकाता है तो बैंक पूरी रकम ब्याज समेत बिना शर्त चुकाता है। बैंक एक निश्चित समय के लिए जारी करता है। बाद में जिसको ये एल.ओ.यू. जारी किया गया उससे पूरा पैसा वसूला जाता है। एल.ओ.यू. को आधार बनाकर नीरव मोदी ने विदेश में दूसरी बैंकों की ब्रांच से पैसा लिया।

इस तरह पकड़ में आया PNB घोटाला

पी.एन.बी. के अधिकारियों ने सबसे पहले नीरव मोदी को 800 करोड़ की रकम का एल.ओ.यू. जारी किया। जब मोदी उसको नहीं चुका पाया तो बैंक ने पैसा वसूलने के बजाय नीरव मोदी को और एल.ओ.यू. जारी कर दिए। इन एल.ओ.यू. को आधार बनाकर नीरव मोदी ने नया लोन ले लिया। ये फर्जीवाड़ा जनवरी तक चलता रहा। जनवरी में जब इन एल.ओ.यू. की मैच्युरिटी पूरी हो गई तो दूसरे बैंकों ने पी.एन.बी. से लोन के रिपेमेंट की मांग की। यहां तक कि रिपोर्ट के मुताबिक 16 जनवरी 2018 को भी इस तरह एल.ओ.यू. मोदी की कंपनी के नाम पर जारी हुआ। जब बैंक के कर्मचारी ने नीरव मोदी की कंपनी से एल.ओ.यू. के लिए 100 फीसदी कैश मार्जिन जमा करने के लिए कहा तो कंपनी ने कहा कि उसने पहले भी इस तरह से लोन लिया है। इसके बाद जब बैंक ने अंदरुनी जांच की तो पता चला कि नीरव मोदी की कंपनी को फर्जी एल.ओ.यू. जारी किए गए थे। इसके बाद पी.एन.बी. ने जनवरी के आखिरी सप्ताह में सी.बी.आई. में इसकी शिकायत दर्ज करवाई।

 

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके https://www.facebook.com/samacharokiduniya/ पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

 

NEWS IN ENGLISH

RBI’s decision after PNB scam, ban imposed on LoU

New Delhi: After 11,400 crore rupees scam in Punjab National Bank (PNB), the Reserve Bank of India (RBI) has taken major action. R.B.I. Has banned the issuing Letter of Undertaking (LOO) for import on all the banks of the country. Apart from this, Letter of Credit and Bank Guarantee can also be provided with certain conditions. According to experts, this move by the Reserve Bank can cause many businessmen problems. According to Nitin Khandelwal, Chairman of All India James and Jewelery, this move of the bank will impact small jewelers.

What is L.O.U.?

Letter of undertaking is a type of bank guarantee which is issued for overseas import payments. In simple words this means that if the loan taker (Neerav Modi) does not pay the loan, then the bank pays the full amount unconditionally including interest. The bank issues it for a certain time. Later on to whom this L.O.U. Released, the whole money is charged from him. L.O.U. By making the basis, Neerav Modi took money from the branch of other banks abroad.

PNB scam caught in this way

P.N.B. Officials of Nirvai Modi, for the first time, spent Rs 800 crore on L.O.U. be released. When Modi failed to pay it, the bank instead of raising the money, Neerav Modi and L.O.U. Released. In L.O.U. By making the basis, Neerav Modi took a new loan. These forgery kept going till January. In January when these L.O.U. When the maturity was completed, the other banks had PNB Demanded repairs of loans from. Even according to the report, on 16 January 2018, LOO similar to that. Released on the name of Modi’s company When the employee of the bank took the loan from the company of Neerav Modi. Asked to deposit 100% cash margin, the company said that he had taken loan in such a way before. After this, when the bank investigated in-house investigation, it was found that Nirav Modi’s company was found guilty of fraudulent L.O.U. Were released. After this, PNB In the last week of January, the CBI Has lodged its complaint in

 

To get the latest updates, click on the link: https://www.facebook.com/samacharokiduniya/Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements

 

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.