जिम्मेदारों की लापरवाही के कारण पहली ही बरसात में फूटकर बहा 46 लाख 19 हजार का तालाब

Advertisements

जिम्मेदारों की लापरवाही के कारण पहली ही बरसात में फूटकर बहा 46 लाख 19 हजार का तालाब


सारनी, (ब्रजकिशोर भारद्वाज)। ग्राम पंचायत सलैया अंतर्गत ग्रामीण यांत्रिकी सेवा विभाग द्वारा निर्माणाधीन 46 लाख 19 हजार की लागत से तालाब की गुणवत्ता की पोल पहली बरसात में ही खुल गई। जिम्मेदार अधिकारी एवं जनप्रतिनिधि इस मामले में टाला मटोली करते हुए नजर आ रहे हैं। बताया जाता है कि ग्राम पंचायत सलैया में ग्रामीण यांत्रिकी सेवा विभाग द्वारा तालाब का निर्माण किया जा रहा है जो की पहली बरसात में ही पानी के तेज बहाव के कारण इस तालाब की मेड बह गई साथ ही तालाब के आसपास खेतों में पानी भर गया। इसके एक और बांध में करीब 50 मीटर तक दरारें पड़ने लगी यह दरार 12 स्टांप पर नहीं बल्कि कई स्थानों पर आई है। इस मामले में जब हमने ग्राम सरपंच मदन वरकडे से कहा तो उन्होंने हमसे कहते हुए टाला मटोली करी की पहली बार तालाब निर्माण में दरारे आती है अभी तालाब का कार्य पूर्ण नहीं हुआ है जिस ओर से पानी बाहर वहां किसान के द्वारा लेवल किया गया। इस मामले में ग्रामीणों का आरोप है कि जिम्मेदार अधिकारी एवं जनप्रतिनिधियों ने तालाब निर्माण को लेकर बेवजह लापरवाही बरती जिसका परिणाम अब हमें भुगतना पड़ रहा है।

वही दूसरी ओर देखने में मिला कि बांध पर दरारे आने की जानकारी जांच अधिकारी को पहुंचती इससे पहले ही सरपंच, उपसरपंच और निर्माण कार्य में जुड़े ग्रामीण यांत्रिकी सेवा के अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर मजदूरों से दरारों को भरवाने का कार्य कराया ताकि जांच अधिकारियों को यह दरारे नहीं दिखे इसके साथ ही तालाब की फीलिंग करने के लिए काले पत्थर स्थान पर खेतों और जंगलों के पत्थरों का उपयोग किया गया जिससे कि तालाब निर्माण में हो रही गुणवत्ता पर भी सवाल उठाए जा रहे हैं। इस मामले में अपने बचाव के लिए सरपंच, सचिव और ग्रामीण यांत्रिकी सेवा विभाग के अधिकारी अपनी लीपापोती करने में जुटे हुए हैं।

तालाब फूटने से पुलिया हुई ओवरफ्लो

इस निर्माणाधीन तालाब के फुटने से जहां किसानों को नुकसान उठाना पड़ा वहीं दूसरी ओर ग्राम पंचायत सलैया को मढ़काढाना, छुरी, कोलगांव समेत दर्जनों गांव से जोड़ने वाली मगरमोर पुलिया ओवरफ्लो पर है, जहां पर सुरक्षा के इंतजाम नहीं किए गए। यहां देखने में आया कि आगमन करने वाले लोग जान जोखिम में डालकर पुलिया पार करने को मजबूर है।


इनका कहना हैं।

सलैया में आरईएस द्वारा तालाब निर्माण किया गया है। तालाब फूटने की नहीं। दरार पडऩे की सूचना मिली थी। एक जांच टीम मौके पर भेजी गई है। मैं स्वयं भी मौके का निरीक्षण करूंगा।

दानिश अहमद खान, सीईओ, जनपद पंचायत, घोड़ाडोंगरी


ग्राम पंचायत सलैया में 46 लाख 19 हजार रुपए का तालाब मार्च माह में सेंशन हुआ था। मई माह में कार्य प्रारंभ हुआ। अभी कार्य चल रहा है। तालाब का पानी खेत की मेढ़ की ओर से बह गया है। इसे हम फूटना नहीं कहेंगे। गर्मी के दिनों में तालाब का पानी खत्म होने पर पीचिंग करेंगे। अभी वहीं के पत्थरों से पीचिंग का कार्य किया गया है।

सीएस अलावा, एसडीओ, आरईएस, घोड़ाडोंगरी


 

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error:
WhatsApp chat