पुलिस ने सुलझाई वलनी ग्राम हत्याकांड मामले की गुत्थी, छोटे भाई ने की थी बड़े भाई की हत्या

Advertisements

पुलिस ने सुलझाई वलनी ग्राम हत्याकांड मामले की गुत्थी, छोटे भाई ने की थी बड़े भाई की हत्या

शराब का आदि होकर मारता, पीटता था मृतक, जिससे परेशान था छोटा भाई


आठनेर, ( विजय गायकवाड़)। थाना क्षेत्र अंतर्गत आने वाले ग्राम वलनी में 4 जुलाई को हुई हत्या की पुलिस ने गुत्थी सुलझा ली है। मृतक का छोटा भाई ही निकला कातिल पुलिस थाना आठनेर द्वारा दिनांक 4 जुलाई को हुई हत्या की घटना को लेकर गुरुवार की शाम एसडीओपी भैंसदेही की उपस्थिति में पत्रकार वार्ता करते हुए एक प्रेस नोट जारी किया। जिसमें पुलिस ने बताया कि मृतक राजेश पिता वामनराव डोंगरे अत्यधिक शराब का आदी होकर अपने छोटे भाई आरोपी अलकेश को आए दिन मारता पीटता था, जिससे परेशान होकर उसने 4 जुलाई को जब बड़ा भाई राजेश डोंगरे मृतक खटिया पर सो रहा था उसी समय उसने अपने भाई के हाथ पर खटिया पर बांधकर उसमे ताले लगाकर और गले में तार से लपेटकर खटिया से बांध दिया और मिट्टी का तेल डालकर उसे जला दिया जिससे उसकी मृत्यु हो गयी। यह सभी कथन पुलिस के पूछताछ पर मृतक के छोटे भाई आरोपी अलकेश डोंगरे ने आरोप स्वीकार कर पुलिस के सामने सब कबूला है।

ज्ञात हो कि बीते दिनों 4 जुलाई को हुई ग्राम वलनी में हुई निर्मम हत्या में पुलिस को मृतक के भाई पर पूर्व से ही संदेह कर संकेत दे दिए थे। क्योंकि बताया जाता है कि अल्केश डोंगरे मानसिक रूप से विक्षित है। यह जानकारी थाने से हत्या के तुरंत बाद बताई गई थी। आरोपी सहित उसका एक और छोटा भाई था जो कि अपनी मां के साथ आठनेर में निवासरत था जब घर में कोई नहीं था तो मृतक राजेश डोंगरे को उसी के भाई अल्केश ने जो कि उससे बहुत परेशान था पुलिस ने अपने प्रेस विज्ञप्ति में यह भी बताया है कि राजेश ने शराब के नशे में छोटे भाई आरोपी अल्केश को बुरी तरह मारा पीटा था जिससे क्रोधित और गुस्से में आकर उसने घटना को अंजाम दिया है। घटना की सूचना मिलने पर पुलिस थाना प्रभारी दादू सिंह टेकाम ने अपनी टीम औऱ पुलिस अधीक्षक के साथ घटनास्थल पर पहुंचकर मामले जांच की थी। जिसके पश्चात अज्ञात आरोपी के खिलाफ अपराध क्रमांक 177/2020 भादवि की धारा 302 पंजीबद्ध किया गया था। जिसके उपरांत पुलिस अधीक्षक बैतुल अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक एवं एसडीओपी भैसदेही के मार्गदर्शन और निर्देशन में एक पुलिस टीम का गठन किया गया था। जिसमे थाना प्रभारी आठनेर दादूसिंग टेकाम, निरीक्षक विजय सिंह ठाकुर, उप निरीक्षक संदीप कुमार परतेती, संतोष सिंह नागवे, कमलेश सिंह रघुवंशी, प्रधान आरक्षक नरेश रघुवंशी, आरक्षक सुभाष मंडलोई, मनीष पटेल, ओमप्रकाश वर्मा, संग्राम सिंह सिकरवार शामिल थे, जिन्होंने बड़ी सजगता से आरोपी को धर दबोचने में सफलता पाई है।

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error:
WhatsApp chat