9 अगस्त को श्रमिक वर्ग देंगे देश बचाओ, उद्योग बचाओ एवं मजदूर बचाओ का नारा लेकर सरकार को चेतावनी – डॉ. मोदी

Advertisements

9 अगस्त को श्रमिक वर्ग देंगे देश बचाओ, उद्योग बचाओ एवं मजदूर बचाओ का नारा लेकर सरकार को चेतावनी – डॉ. मोदी


सारनी, (ब्यूरो)। सम्पूर्ण श्रमिक वर्ग ने 9 अगस्त को देश बचाओ, उद्योग बचाओ एवं मजदूर बचाओ का नारा देकर सड़क पर सरकार को चेतावनी देने का निर्णय लिया है। जानकारी देते हुए स्वतंत्रता संग्राम सेनानी डॉ. कृष्णा मोदी ने बताया कि करीब 4 माह पहले (कोविड-19) की शुरूआत केरल राज्य से शुरू हुई तथा धीरे-धीरे सम्पूर्ण भारत में फैली। जिसकी वजह से आज तक करीब 15 लाख से ज्यादा भारतीय नागरिक ग्रसित हुए तथा आज तक 34 हजार से अधिक लोगों की मृत्यु हो चुकी है तथा करोड़ो लोग देश के अन्दर लॉकडाउन लगाकर रेल, बस यातायात को अग्रिम चेतावनी न देते हुए बंद कर दिया। उससे लोगों के रोजगार एकाएक बंद हो गये। बेरोजगारी बढ़ी लोग घरों की ओर आने में जो जहां था वहां फंस गये। जिससे उनके अन्दर भी कोरोना बीमारी ने अभी तक डेरा जमा लिया। साधन न होने से लोग पैदल, सायकल मनमाने किराये देकर टैक्सी से हजारों रूपया खर्च करके आना पड़ा। जिसके बाद में राज्य सरकारों की नींद खुली जिसकी वजह से कुछ स्पेशल ट्रेने चलाई गयी। आज स्थिति इतनी गम्भीर हो गयी है कि कोरोना बीमारी दिन पर दिन बढ़ती चली जा रही है। सरकार की ओर से कानून कायदे दफा 144, 188 आदि लगाये गये आपसी दूरी, मास्क लगाने एवं बिना वजह बाहर निकलने पर पाबंदी लगायी गयी। इसी बीच सरकार द्वारा देश की आर्थिक हालत को मजबुत करने के लिए जो 300 सरकारी उद्योग चल रहे थे। करीब 4-5 उद्योगों को जिन्दा रखाने की बातें रखाकर सबको निजी मालिकों के हवाले देने जा रही है। डॉ. मोदी ने बताया कि यदि श्रमिकगण अपनी आवाज सरकार तक पहुंचाने की कोशिश कर रहे है जिसको सरकार दफा 144, 188 आदि का डर बताकर मायुस किया जा रहा हैं। मेहनत करने वाले लोग उक्त निजीकरण के खिलाफ एक होकर आगे बढ़ रहे है तथा अभी कोयला उद्योग में 3 दिन की सफल हड़ताल की तथा जिस दिन खदानें नीलामी होगी 18 अगस्त को 1 दिन की हड़ताल करने जा रहे है। जिसको लेकर स्वतंत्रता संग्राम सेनानी डॉ. मोदी ने अपील करी कि जिस प्रकार अंग्रेजों को भगाने के लिए महात्मा गांधी ने 9 अगस्त 1942 को भारत छोड़ो आंदोलन में करो या मरो का नारा दिया था उसी रास्ते पर देश के समस्त श्रमिकगण 9 अगस्त को एक दिवसीय सरकार को जागने के प्रयास कार्यक्रम को सफल बनाये।


News In English

On August 9, the working class will save the country, save the industry and warn the government with the slogan of ‘Save the laborers’ – Dr. Modi

Sarni. The whole working class has decided to warn the government on the road on August 9 by giving the slogan “Save the country, save industry and save labor”. Giving information, freedom fighter fighter Dr. Krishna Modi said that about 4 months ago (covid-19) started from the state of Kerala and gradually spread all over India. Due to which more than 15 lakh Indian citizens have been affected till date and more than 34 thousand people have died till date and millions of people have been locked in the country by putting a lockdown and not giving advance warning to rail and bus traffic. Due to this, the employment of the people was suddenly stopped. Unemployment increased people got stuck in coming to the houses wherever they were. Due to which, corona disease has encamped in them as well. Due to lack of means, people had to spend thousands of rupees by taxi by paying arbitrary fares on foot. After which the state governments woke up due to which some special trains were run. Today the situation has become so severe that corona disease is increasing day by day. Due to the law, 144, 188 etc. were imposed by the government, mutual distance, masking and exiting without reason were banned. Meanwhile, 300 government industries were running by the government to strengthen the economic condition of the country. Keeping the talk of keeping about 4-5 industries alive, they are going to hand over all to the private owners. Dr. Modi said that if the workers are trying to convey their voice to the government, the government is being disappointed by the fear of 144, 188 etc. The hard working people are moving together against the above privatization and have just done a 3-day successful strike in the coal industry and are going to go on strike for 1 day on August 18, the day the mines will be auctioned. To which freedom fighter fighter Dr. Modi appealed, just as Mahatma Gandhi gave a slogan of do or die in the Quit India Movement on 9 August 1942 to drive away the British, all the workers of the country on the same path on 9 August, one day government Attempts to wake up made the program a success.

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error:
WhatsApp chat