क्या आप जानते हैं बारकोड क्या हैं? कैसे करता हैं काम, अगर नहीं तो यहां जाने

Advertisements

क्या आप जानते हैं बारकोड क्या हैं? कैसे करता हैं काम, अगर नहीं तो यहां जाने


अक्सर आपने शॉपिंग करने के दौरान देखा होगा कि प्रोडक्ट में एक के बाद एक कुछ काली लाइनें बनी होती हैं। दुकानदार जब एक स्कैनर इस पर ले जाता है, तो प्रोडक्ट का नाम और उसकी कीमत अपने आप कंप्यूटर में दिखने लगती है। मगर, क्या आपने कभी सोचा है कि ये बार कोड आखिर में होता क्या है और यह काम कैसे करता है।

अगर नहीं, तो हम आपको बता दें कि ये प्रोडक्ट पर आंकड़े या सूचना को लिखने का एक तरीका है। इन सीधी लाइनों में उस प्रोडक्ट के बारे में पूरी जानकारी दी होती है। जैसे उसकी कीमत, मात्रा, किस देश में बना, किस कंपनी ने बनाया, कब बनाया आदि। इसी के साथ ही बार कोड की मदद से कंपनियों और स्टोरों के बारे में भी पता लगाया जा सकता है।

अब तो स्मार्टफोन के लिए बारकोड रीडर भी ऐप के जरिये उपलब्ध है, जिससे आप ये सारी जानकारी खुद ही हासिल कर सकते हैं। आइए जानते हैं कि बार कोड में कौन सी लाइन में क्या जानकारी दर्ज होती है।

बारकोड को दो भागों में बांटा गया है। इसमें से एक है लीनियर बारकोड या 1 डायमेंशनल (1D) बारकोड। वहीं, दूसरा टू डायमेंशनल बारकोड या 2डी (2D) बारकोड होता है। 1D बारकोड का प्रयोग साबुन, पेन और मोबाइल आदि में किया जाता है जबकि 2D बारकोड को आपने PAYTM APP में देखा होगा।

2D बारकोड में 1D की तुलना में ज्यादा डाटा यानी जानकारी दर्ज होती है। यदि 2D बारकोड में कोई काट-छांट हो जाती है, तो भी स्कैनर उसे रीड कर लेता है, जबकि 1D में ऐसा नहीं हो पाता है। आप जानते ही होंगे कि कंप्यूटर केवल 0 और 1 की भाषा को ही समझता है। इसीलिए बारकोड को 95 खानों में केवल 0 और 1 के रूप में बांटा जाता है। इन्हीं नंबरों के आधार पर प्रोडक्ट की पूरी जानकारी दर्ज होती है।

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error:
WhatsApp chat