खाद्यान्न पात्रता सूची के पुनः सर्वे की मांग, तहसीलदार से मिला प्रतिनिधि मंडल

Advertisements

खाद्यान्न पात्रता सूची के पुनः सर्वे की मांग, तहसीलदार से मिला प्रतिनिधि मंडल


खेड़ली बाजार, (सचिन बिहारिया)। राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 के तहत नवीन पात्र हितग्राहियों को जोड़ने की कार्यवाही वर्तमान में प्रारंभ है इस योजना के तहत ग्राम या नगर के अनुपलब्ध परिवार के सदस्यों की सूची जारी की गई थी जिसमें बहुत से पात्र सदस्यों के नाम थे जिनको अपात्र घोषित कर नाम पोर्टल से काटा जाना था।ग्राम खेड़लीबाजार कार्यालय में प्राप्त सूची के अनुसार बहुत से गरीब, पिछड़े लोगों को इस सूची में पात्र होते हुए अपात्र बताया जा रहा है जिससे क्षेत्र में काफी आक्रोश उत्पन्न हो रहा है।अपात्र किए गए लोग धरना प्रदर्शन एवं आंदोलन की बात कर रहे हैं। मंगलवार को खेड़ली बाजार निवासी आधा सैकड़ा से अधिक ग्रामीण आमला पहुंचे तथा अपनी समस्या से तहसीलदार आमला को अवगत कराया।

इस समस्या के समाधान हेतु खेड़लीबाजार ग्राम पंचायत का एक प्रतिनिधिमंडल मंगलवार को माननीय तहसीलदार आमला एवं मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत आमला से मिला और समस्या के निराकरण हेतु ज्ञापन सौंपा जिसमें प्रतिनिधिमंडल के सदस्य योगेश रघुवंशी ने तहसीलदार महोदय आमला से निवेदन किया कि पात्र अपात्र सूची में दावा आपत्ति प्रस्तुत करने हेतु कम से कम 10 दिवस की अवधि और आगे बढ़ाई जानी चाहिए। उन्होंने आगे निवेदन किया कि 14 अगस्त 2020 तक दावा आपत्ति का जो समय दिया गया है वह काफी कम है क्षेत्र की गरीब जनता काफी परेशान हो रही है इसलिए यह अवधि कम से कम 10 कार्य दिवस आगे बढ़ाना आवश्यक है।

ग्राम पटेल अतुल पारखे, सचिन बिहारिया,आनंद पंडोले ने राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत अनुपलब्ध परिवार सदस्य की पात्रता सूची से जो अपात्र सदस्य हैं उनकी पंचायत स्तर पर दावा-आपत्ति स्वीकार किए जाने की मांग रखी साथ ही गरीब एवं पिछड़े लोगों के हित में सर्वे पुनः करने की मांग उठाई। जिस पर नायब तहसीलदार मेडम द्वारा कहा गया कि ग्राम पंचायत स्तर पर ही आप दावा आपत्ति के आवेदन जमा करें तथा एक साथ तहसीलदार कार्यालय आमला में जमा करें।

उल्लेखनीय है कि इस पात्रता सूची में अपात्र लोगों के जो नाम सामने आए हैं उसमें यह देखा गया है कि वास्तविक गरीब एवं पिछड़े तबके के लोगों के नाम अपात्र की श्रेणी में आ गए हैं जबकि ऐसे कई सक्षम एवं अपात्र की श्रेणी में आने वाले लोगों के नाम अपात्र नहीं किए गए जिनसे ग्रामीण एवं गरीब लोगों में काफी आक्रोश है। यदि समय रहते उच्च अधिकारियों द्वारा इस पर संज्ञान नहीं लिया जाता है तो बहुत से गरीब लोगों के के नाम अपात्र की श्रेणी में आने के कारण कट जाएंगे तथा वह शासन की मूलभूत योजनाओं से वंचित हो जाएंगे ,यह गरीबों के साथ अन्याय होगा। वर्तमान में अपात्र की श्रेणी में रखे गए सदस्यों का कहना है कि यह फर्जी सर्वे हमें स्वीकार नहीं है जिले के कलेक्टर महोदय से निवेदन है कि ग्राम पंचायत खेड़लीबाजार में यह सर्वे पुनः किया जाना चाहिए तथा पूर्व में गलत सर्वे करने वाले कर्मचारियों पर उचित कार्रवाई की जानी चाहिए।ज्ञापन सौंपने पहुंचे ग्रामीणों का कहना है कि यदि उनके साथ भेदभाव किया जाता है और पुनः सर्वे नहीं किया जाता है तो वह इसके लिए धरना प्रदर्शन एवं आंदोलन करने के लिए बाध्य रहेंगे।उन्होंने दावा आपत्ति हेतु कम से कम 10 दिन अवधि आगे बढ़ाई जाने का निवेदन भी किया है साथ ही पंचायत स्तर पर दावा आपत्ति स्वीकार करने के आदेश जारी करने की मांग की है।

ज्ञापन सौंपने योगेश रघुवंशी,अतुल पारखे,आनंद पंडोले,सचिन बिहारिया,पप्पू दरवाई,सोनू ठाकरे,नारायण गुरुजी, मकसूद कुरेशी,गुड्डी बाई मोरले, पूरन पंडोले, रवि पंडोले, सहित आधा सैकड़ा से अधिक ग्रामीण आमला पहुंचे थे।


इनका कहना है।

पात्रता सूची में यदि लापरवाही हुई है तो यह बर्दाश्त नहीं की जाएगी उच्च अधिकारियों से चर्चा कर समस्या का जल्द ही निराकरण किया जाएगा।

यशवंत यादव (अध्यक्ष), भाजपा ग्रामीण मंडल आमला


दावा आपत्ति के समय को बढ़ाने हेतु कलेक्टर से चर्चा करूंगा।किसी भी पात्र हितग्राही के साथ भेदभाव नहीं होने दिया जाएगा।

डॉ.योगेश पंडाग्रे (विधायक) आमला-सारणी विधानसभा


 

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error:
WhatsApp chat