नाबालिग के हत्या के मामले की सूचना मिलने के 4 दिन में पुलिस ने सुलझाई गुत्थी

Advertisements

नाबालिग के हत्या के मामले की सूचना मिलने के 4 दिन में पुलिस ने सुलझाई गुत्थी


बैतूल। 28 नवम्बर को सूचना का निवासी नाम कुटीव्दारा रिपोर्ट किया कि 22 नवम्बर से उसका नबालिक पुत्र ग्राम कुही से दीवाली मनाने गया था जो आज तक वापस नही आया। रिपोर्ट पर मामला नाबालिक के अपहरण कापाया जाने से अपराधक्र 125/20 धारा 363 भादवि का कायमकर विवेचना में लिया गया तथा घटना के संबंध मे पुलिस अधीक्षक बैतूल सिमाला प्रसाद, अति पुलिस अधीक्षक श्रद्धा जोशी एवं एस.डी.ओ.पी सारणी अभयराम चौधरी को घटना से अवगत कराया।

सभी अधिकारीयो व्दारा प्रकरण नाबालिक का होने से गंभीरता से प्रकरण मे पतासाजी करने एवं टीम बनाने के निर्देश थाना प्रभारी रानीपुर रमेश पिपोलोदिया को दिये जिनके व्दारा प्रकरण में अधिकारियो के निर्देशानुसार टीम का गठन किया गया।

जिसमे सउनि बी.एल.बौरासी, प्र.आर 51 रवि पटेल,
प्र.आर473 कोमल खेडले, आर.363 शिवकुमार उइके, आर 112 अजीतमवासे, आर 351 संदीप को पतासाजी हेतु लगाया गया।

जिसमें विवेचना के दौरान टीम व्दारा ज्ञात किया कि दिनांक 23 नवम्बर को ग्राम घुन्नी मे दीवाली का कार्यक्रम था जिसमे प्रकरण का नाबालिक अपहत अपने दोस्तो के साथ गया था एवं वहाँ डांस का कार्यक्रम किया। जहाँ घुम्भी मे आरोपी अमित परते, कमल धुर्वे, धीरन मर्सकोले के साथ नाबालिक अपहत खा पी रहा था जो नाबालिक अपहत द्वारा वर्ष 2019 में इसी प्रकार की दीवाली उत्सव के दौरान नाबालिक अपहत एवं अमित परते का झगडा हो गया था।

जिस पर अमित परते की रिपोर्ट पर नाबालिक अपहत एवं उसके तीन चार साथियो के द्वारा आरोपी अमित के घर जाकर मारपीट करने पर थाना रानीपुर मे अपराध क्र 154/19 धारा 452, 294, 323, 506, 34 भादवि का कायम किया गया था। इसी बात को घटना दिनांक को नाबालिक द्वारा दोहराने पर आरोपी अमित परते को उक्त बात बुरी लगी और उसने उसी समय अपने साथियो कमल एवं धीरन के साथ मिलकर नाबालिक को मारने की योजना बनाई और नाबालिक को अपनी मोटरसाइकिल पर बैठाकर घोडाडोंगरी क्षेत्र में सीताखेडा रोड किनारे बने घास में ले जाकर कुल्हाडी से मारना कबूल किया।

उक्त तीनो संदेही की निशानदेही से 1 दिसंबर को नाबालिक का शव उनके बताये स्थान से बरामद किया गया तथा प्रकरण में धारा 302, 34 भादवि का ईजाफा किया तथा उक्त तीनो आरोपीयो की निशादेही से घटना में प्रयुक्त आलाजर्जर जप्त किया गया।

इस प्रकार पुलिस को सूचना मिलने के चार दिन के भीतर नाबालिक के अपहरण मे उसकी हत्या के आरोपी को तलाश कर अभिरक्षा मे लिया गया।

उक्त कार्य मे थाना प्रभारी उनि रमेश पिपलोदिया एवं सउनि बी.एल.बौरासी, प्र.आर 51 रवि पटेल, प्र.आर 473 कोमल खेडले, आर.363 शिवकुमार उइके, आर 112 अजीत मवासे, आर 351 संदीप की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

Advertisements
No tags for this post.

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error:
WhatsApp chat