हवन पूजन और फीता काटकर किया गया श्री श्री 1008 बाबा मठारदेव मेले का शुभारंभ

Advertisements

हवन पूजन और फीता काटकर किया गया श्री श्री 1008 बाबा मठारदेव मेले का शुभारंभ


सारनी, (ब्यूरो)। 10 दिवसीय श्री श्री 1008 बाबा मठारदेव मेले का शुभारंभ मंगलवार को किया गया जिसमें हवन पूजन के बाद ध्वजारोहण के साथ हुआ।

श्री श्री 1008 बाबा मठारदेव मेले के शुभारंभ के अवसर पर आमला-सारनी विधायक डॉ योगेश पंडाग्रे, नगरपालिका अध्यक्ष आशा भारती, नपा उपाध्यक्ष भीम बहादुर थापा, सीएमओ सीके मेश्राम, एसडीओपी अभयराम चौधरी, तहसीलदार मोनिका विश्वकर्मा, थाना प्रभारी महेंद्र सिंह चौहान, भाजपा मंडल अध्यक्ष नागेंद्र निगम, रंजीत सिंह, कमलेश सिंह, सुधा चंद्रा, भगवान जावरे, मोहम्मद इलियास, योगिता डोईफोड़े, विनय मालवीय सहित गणमान्य लोग उपस्थित रहे। इस दौरान हवन पूजन के बाद प्रतीक ध्वज को फहराकर मेले का शुभारंभ किया गया।

 

 

कार्यक्रम में शामिल सभी लोगों ने संबोधन दिया। जहां विधायक पंडाग्रे ने संबोधित करते हुए कहा कि सारनी वासियों के लिए 2021 नया सवेरा लेकर आएगा विधायक योगेश पंडाग्रे, नपाध्यक्ष आशा भारती ने फीता काटकर मेले का शुभारंभ किया।

ज्ञात हो कि पिछले कई सालो से चली आ रही परंपरा इस साल कोरोना महामारी के कारण लगभग टूटने वाली थी। कोरोना वायरस का असर रहेगा हालांकि इस बार कोविड-19 महामारी को देखते हुए भंडारों का आयोजन नहीं होगा।

हाल फिलहाल में ही जनप्रतिनिधियों की मांग पर नपा द्वारा मेला लगाने की अनुमति दी गई थी, जिसके पश्चात दुकानदारों को दुकानें लगाने की अनुमति नहीं मिली थी, ऐसी स्थिति में दुकानदार असमंजस में थे।

जिस पर जनप्रतिनिधियों ने मांग उठाई तो आनन-फानन में नपा ने इसकी अनुमति तो दे दी। परंतु असमंजस में फसे व्यापारियों ने दुकान लगाने का मौका ना मिलने पर और जैसे ही नपा ने दुकान लगाने की अनुमति दी वैसे ही दुकानदारों ने अपनी आधी अधूरी दुकान शुभारंभ के दिन ही लगाना शुरू कर दी।

हालांकि बीते वर्षो में मेले के शुभारंभ के पूर्व में अपनी दुकानें मेले लगाकर दुकानदार शुरू कर देते हैं। वही इस वर्ष मेले में झूले लगाने की अनुमति भी दी जा चुकी है और नपा द्वारा सभी दुकानदारों को आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए गए हैं कि वे कोविड-19 के उचित निर्देशों का पालन करते हुए दुकान का संचालन करें।

Advertisements
No tags for this post.

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error:
WhatsApp chat