7 Mar 2021

प्रजापिता ब्रह्मकुमारी सेवाकेंद्र के नवीन भवन का लोकार्पण

Advertisements

प्रजापिता ब्रह्मकुमारी सेवाकेंद्र के नवीन भवन का लोकार्पण

आंतरिक ऊर्जा और आत्मशक्ति से संचारित होगा तन और मन


जुन्नारदेव, (दुर्गेश डेहरिया)। योग और अध्यात्म मानव जीवन के आत्मिक सौंदर्य और आत्म शक्ति के प्रमुख प्रदाता है, इसीलिए हमें जीवन में योग और अध्यात्म के प्रति सदैव ही समर्पित रहना चाहिए। योग और अध्यात्म को आत्मसात किए जाने से हमारी आंतरिक उर्जा में नवसंचार होता है, जिससे हमारा जीवन सरल और सुघड़ हो जाता है।

उक्त आशय के उद्गार नगर में प्रजापिता ब्रह्माकुमारी के नवनिर्मित नवीन सेवा केंद्र भवन के लोकार्पण समारोह में नपा अध्यक्ष पुष्पा रमेश साहू के द्वारा व्यक्त किए गए। इस दौरान यहां उपस्थित महिला एवं बाल विकास परियोजना अधिकारी सुश्री प्रेरणा मर्सकोले ने कहा कि राजयोग मानव जीवन के प्रमुख दोष मसलन अनिद्रा, तनाव, अवसाद से विमुक्त करा हमारी आंतरिक मन:स्थिति को सुघड़ता एवं शुद्धता प्रदान करता है। यही अध्यात्म और योग हमारे मानव जीवन का प्रमुख आधार केंद्र है।

बीते दिवस नगर के वार्ड क्रमांक 03 में नवनिर्मित इस सेवा केंद्र के भव्य लोकार्पण समारोह में बतौर मुख्य अतिथि के रूप में ब्रम्हाकुमारी भावना बहनजी (प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय, जबलपुर केंद्र) की अहम उपस्थिति रही।

इस अवसर पर जुन्नारदेव के अतिरिक्त पांढुर्णा, सौसर, अमरवाड़ा, छिंदवाड़ा, तामिया एवं परासिया के समस्त ब्रह्म कुमार भाई/बहनों सहित अधिवक्ता प्रशांत सोनी ने भी इस कार्यक्रम में हिस्सा लिया।

उक्त नवनिर्मित भवन का लोकार्पण ध्वजारोहण उपरांत दीप प्रज्वलन एवं केक काटकर भगवान शिव के अवतार दिवस को जन्मदिन के रूप में मनाया गया। कार्यक्रम के अंत में भोजन प्रसादी का वितरण किया गया।

उक्त समारोह का संचालन प्रजापिता ब्रह्मकुमारी ईश्वरी ईश्वरीय विश्वविद्यालय की जुन्नारदेव केंद्र की ब्रह्म कुमारी रजनी बहनजी के द्वारा किया गया।

नवनिर्मित सेवा केंद्र में राजयोग की मिलेगी निःशुल्क सुविधा

बीते 7 वर्षों से लगातार किराए के भवन में चल रहे इस सेवा केंद्र के अब नवनिर्मित भवन में स्थानांतरण के बाद आमजन के लिए अब अधिक सुविधा प्राप्त होगी। अब इस नवीन सेवा केंद्र के भवन में 7 दिन का नियमित निशुल्क राजयोग का अभ्यास किया जा सकेगा। प्रातः कालीन सत्र प्रति दिवस 8 से 12 बजे तक जबकि सायकालीन सत्र दोपहर 4 से 8 बजे के दौरान होगा।

प्रजापिता ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय की सेवा केंद्र प्रमुख बहनजी ने आम जनों से इस सुविधा का लाभ उठाने का आग्रह किया है।

Advertisements
No tags for this post.

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error:
WhatsApp chat