June 22, 2021

मदर डे विशेष- माँ की ममता और कार्यक्षमता का कभी लॉक डाउन नही होता – पंकज डोंगरे

Advertisements

मदर डे विशेष- माँ की ममता और कार्यक्षमता का कभी लॉक डाउन नही होता – पंकज डोंगरे


बैतूल। स्वास्थ्य कर्मचारी पंकज डोंगरे ने मदर दिवस पर अपने विचार रखते हुए बताया कि रविवार वैसे भी परिवार दिवस होता है और ऐसे में परिवार की मुख्य आधार स्तम्भ माँ का दिवस हो तो सही मायने में परिवार दिवस हो जाता है।

माँ परिवार की सबसे मजबूत स्तम्भ होती है जिससे परिवार मजबूती पाता है माँ की ममता और माँ की कार्य क्षमता का कभी लॉक डाउन नही लगता। लॉक डाउन के दौर में जँहा सभी चीजों पर बैन है वँहा माँ की ममता जो बच्चों की ऑक्सीजन है का ऑक्सीजन लेवल 100% है वही लॉक डाउन हो या सामान्य दिन हो मां की रसोई का कभी लॉक डाउन नही लगता।

जहां सबको पानी पीने की चिंता होती वही मां को मटका भरने की ताकि सभी बच्चे पानी पी सके। ऐसी ही स्वास्थ्य विभाग की माताएं है जो स्वास्थ्य जननी की भूमिका में है वे परिवार में भी माँ की भूमिका में है और सेवा क्षेत्र में स्वास्थ्य लाभ देकर स्वास्थ्य जननी की भूमिका में है। माँ के लिए जितना कहा जाए लिखा जाए कम है क्योंकि माँ ने हमे लिखा है।

कोरोना महामारी के दौर में जँहा दूरियां और मजबूरियां स्थापित हुई है पर माँ और बच्चों का ऐसा रिश्ता है जिसने कभी दूरी या मजबूरी स्थापित नही होती क्योंकि माँ बच्चों के लिए दिल से ऑनलाइन होती है। नीरजा वरवडे ने सारणी, शैलजा खातरकर ने बैतूल, तनुजा श्रवनकर ने भोपाल से, स्थानों की दूरी को दूर करते हुए दुरभाष से दिलो को कनेक्ट कर अपनी मम्मी नर्मदा डोंगरे को वीडियोकॉल कर बधाई देते हुए हमेशा केयर करने के लिए कृतज्ञता व्यक्त की।

ओजस(आर्ची) ,लिटिल मास्टर अथर्व(गर्व),आरोही(गार्गी) अद्विता(रुही) ने भी मातृ दिवस मनाते हुए माताओं के चरण स्पर्श कर आशीर्वाद लिया।

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error:
WhatsApp chat