कैसे पता करें इम्यूनिटी कमजोर है या ठीक?

Advertisements

कैसे पता करें इम्यूनिटी कमजोर है या ठीक?


जब भी शरीर पर कोई बाहरी बैक्टीरिया, वायरस या रोगजनक हमला करता है तो हमारा इम्यून सिस्टम सक्रिय हो जाता है और इन वायरस से बचाव की प्रक्रिया शुरू कर देता है। आसान शब्दों में कहें तो इम्यून सिस्टम शरीर की आंतरिक प्रतिरक्षा प्रणाली होती है जो शरीर की बाहरी खतरों से सुरक्षा करती है। कोरोना से बचाव के लिए सभी देशों की सरकारें वैक्सीनेशन की प्रक्रिया को अंजाम दे रही हैं ताकि इम्यूनिटी को इंप्रूव किया जा सके।

इम्यूनिटी में बदलाव का कैसे पता करें:

उम्र के साथ-साथ इम्यून सिस्टम में बदलाव आता रहता है। जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है बॉडी में प्रोटीन की मात्रा कम होती जाती है और इम्यून सिस्टम कमजोर होता जाता है। 18 साल तक सबसे अच्छा इम्यून सिस्टम रहता है। अब सवाल यह है कि हम कैसे पहचाने की हमारी इम्यूनिटी इंप्रूव है या कम है। आइए जानते हैं कि कैसे पता लगाएं और इसे बढ़ाने के उपाय कौन-कौन से हैं।

कैसे पता चलेगा इम्यूनिटी कमजोर होने का:

जिनका इम्यून सिस्टम कमजोर होता है, वे जरा सी एलर्जी भी बर्दाश्त नहीं कर पाते और ऐसी स्थितियों में बीमार पड़ जाते हैं। यूं तो अक्सर ब्लड रिपोर्ट से पता किया जाता है कि व्यक्ति की इम्यूनिटी कैसी है, लेकिन इम्यून सिस्टम के कमजोर पड़ने पर हमारा शरीर भी कई तरह के संकेत देने लगता है।

क्या आप अक्सर बीमार रहते हैं, या दूसरों की अपेक्षा जल्दी बीमार हो जाते है? अगर ऐसा है तो आपकी इम्यूनिटी कमजोर है।

कमजोर इम्यूनिटी के संकेत है जैसे

अक्सर सर्दी-जुकाम रहना 

खांसी या गला खराब होना 

लगातार थकान, आलस होना

लंबे समय तक किसी घाव का न भरना आदि

इम्यूनिटी इंप्रूव करने का तरीका

संतुलित आहार लेने से इम्यूनिटी नॉर्मल रहती है। विटामिन सी एंटीबॉडी बनाने में काम करता है। आयरन इसमें सपोर्ट करता है। खाने में विटामिन सी और आयरन लेने से इम्यूनिटी की ऑटोरिकवरी हो जाती है।

नाश्ते में प्रोटीन डायट लें। प्रोटीन से हमारे शरीर को L-Arginine अमीनो एसिड मिलता है, जो हमारे शरीर में हेल्पर टी-सेल्स को जनरेट करने में मदद करता है। ये टी-सेल्स हमारी इम्यूनिटी बढ़ाने वाले सेल्स को एनर्जी देता हैं। आप नाश्ते में दलिया, उबली हुई दालों की सलाद, साबुत अनाज और स्प्राउट्स खा सकते हैं।

घर की छत या बालकनी में धूप के वक्त कुछ समय जरूर बिताएं। इस दौरान आप अपनी पंसद की किताबे पढ़ सकते हैं या चहलकदमी कर सकते हैं। धूप हमारे शरीर में मौजूद इंफेक्शन से फाइट में मदद करनेवाली टी-सेल्स को एनर्जी देने का काम करती है। 

Advertisements

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.