फिक्स्ड डिपॉजिट के मामले में RBI ने बदल दिया ये एक नियम, ग्राहक देवें ध्यान

Advertisements

फिक्स्ड डिपॉजिट के मामले में RBI ने बदल दिया ये एक नियम, ग्राहक देवें ध्यान


भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने शुक्रवार को बैंकों में सावधि जमा (Fixed Deposit/TermDeposit) की मियाद (Maturity period) पूरी होने के बाद बिना दावे वाली राशि पर ब्याज के नियमों में बदलाव किया। फिलहाल, अगर फिक्स्ड डिपॉजिट की अवधि पूरी हो जाती है व राशि का भुगतान नहीं हो पाता और बैंक के पास रकम बिना दावे के पड़ी रहती है तो उस पर बचत जमा पर देय ब्याज के हिसाब से ब्याज दिया जाता है।

RBI ने सर्कुलर में कहा, ‘‘इसकी समीक्षा पर…यह निर्णय किया गया है कि अगर फिक्स्ड डिपॉजिट परिपक्व होती है व राशि का भुगतान नहीं हो पाता है और वह बिना दावा के बैंक में पड़ी रहती है तो उस पर ब्याज दर बचत खाता के हिसाब से या सावधि जमा की परिपक्वता पर ब्याज की अनुबंधित दर, जो भी कम हो, देय होगी।’’

नया नियम सभी वाणिज्यिक बैंकों, स्मॉल फाइनेंस बैंक, सहकारी बैंक, स्थानीय क्षेत्रीय बैंकों में जमा पर लागू होगा। फिक्स्ड डिपॉजिट, वह जमा राशि है जो बैंकों में एक निश्चित अवधि के लिए तय ब्याज पर रखी जाती है। इसमें रिकरिंग, संचयी, पुनर्निवेश जमा और नकद प्रमाण पत्र जैसी जमा भी शामिल हैं।

Advertisements

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.