August 1, 2021

क्या आप जानते हैं, 3 डिजिट का CVV नंबर- बदल देता है पेमेंट का पूरा ‘खेल’- जानिए कितना कुछ छुपा है इसमें…

Advertisements

क्या आप जानते हैं, 3 डिजिट का CVV नंबर- बदल देता है पेमेंट का पूरा ‘खेल’- जानिए कितना कुछ छुपा है इसमें…

Advertisements

आपने अक्सर टेलीविजन पर देखा होगा कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (Reserve Bank Of India) की ओर से कई तरह के एड्स (Ads) चलाए जाते हैं, जिसमें लोगों को अपना सीवीवी (CVV) या ओटीपी (OTP) शेयर ना करने की सलाह दी जाती है लेकिन, कई बार देखा गया है कि लोग इसे हल्के में लेते हैं और अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ सबसे जरूरी और गोपनीय नंबर शेयर कर देते हैं. आइए जानते हैं कि कैसे तीन डिजिट वाला एक मात्र नंबर यानी आपका सीवीवी (CVV) आपके पूरे पेमेंट खेल को बदल सकता है…

क्या होता है सीवीवी (CVV)?

सीवीवी (CVV) की फुल फॉर्म होती है कार्ड वेरिफिकेशन वैल्यू. ये एक ऐसा नंबर है जो डिजिटल ट्रांजैक्शन के समय इस बात की पुष्टि करता है कार्डधारक ही इस पेमेंट के लिए जिम्मेदार है. आरबीआई (RBI) की ओर से हमेशा सीवीवी ना शेयर करने की सलाह दी जाती है. ये नंबर आपके डेबिट या क्रेडिट कार्ड के पीछे एक मैग्नेटिक स्ट्रिप पर लिखा होता है, जिसे बाद में मिटाने की भी सलाह दी जाती है. 

अगर आप कोई ऑनलाइन पेमेंट कर रहे हैं तो आपको सीवीवी (CVV) की जरूरत पड़ती है. सीवीवी (CVV), ओटीपी की तरह ही (OTP) एक सिक्योरिटी लेयर है, जो आपकी पेमेंट को सुरक्षित रखता है. हर वित्तीय संस्थान अपने की तरफ से ग्राहकों को सीवीवी (CVV) कोड दिया जाता है.

सीवीवी (CVV) की खासियत

जब भी आप अपने कार्ड से कोई ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करते हैं तो उस पेमेंट प्लेटफॉर्म पर आपके कार्ड की डिटेल सेव हो जाती है लेकिन यहां खास बात यह है कि किसी भी प्लेटफॉर्म पर आपके सीवीवी (CVV) की डिटेल सेव नहीं होती. इसका मतलब यह हुआ कि वेंडर के पास भले ही आपके कार्ड की पूरी जानकारी हो लेकिन आपके सीवीवी (CVV) का एक्सेस नहीं होगा. यही वजह से आरबीआई (RBI) हमेशा सीवीवी (CVV) और ओटीपी (OTP) को शेयर ना करने की सलाह देता है.

एक चूक से खाली हो सकता है अकाउंट

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) और तमाम वित्तीय संस्थाओं की तरफ से यही सलाह दी जाती  है कि किसी भी परिचित शख्स को इस गोपनीय नंबर के बारे में ना बताया जाए. अगर गलती से फ्रॉड करने वाले को आपके सीवीवी (CVV) की जानकारी मिल जाती है तो आपका अकाउंट खाली होने में ज्यादा समय नहीं लगेगा. 

याद करने के बाद मिटा दें सीवीवी (CVV)

आरबीआई (RBI) कहता है कि डेबिट या क्रेडिट कार्ड मिलते ही सबसे पहले अपने सीवीवी (CVV) नंबर को याद कर लें. अगर हो सके तो याद करके सीवीवी नंबर को कार्ड से मिटा दें. ऐसा करने से फ्रॉड करने की संभावनाएं कम हो जाती हैं.

Brajkishore Bhardwaj

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error:
WhatsApp chat