समाचारों की विश्वसनीयता ही होती है पत्रकार की पहचान

Advertisements

समाचारों की विश्वसनीयता ही होती है पत्रकार की पहचान


पत्रकार द्वारा लिखे गये या दिखाये गये समाचार की विश्वसनीयता ही उसकी पहचान होती है आज डिजिटल मीडिया के दौर मे समाचार को पहले दिखाने की होड़ मे पत्रकार समाचार की विश्वसनीयता पर ध्यान ही नही दे रहे जो पत्रकारिता के लिए चिंतनीय है।पत्रकार का मान- सम्मान भी उसके समाचार से जुड़ा होता है।

आज देश मे तमाम वेव पोर्टल व यूट्यूब चैनल चल रहे है आये दिन इनके समाचारों पर प्रश्नचिन्ह लगते दिखते है जो पत्रकारिता के लिए घातक है।यह बात एक वेवीनार के दौरान पत्रकारों की संस्था जर्नलिस्ट काउंसिल ऑफ इंड़िया (रजि0) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनुराग सक्सेना ने कही।

उन्होने कहा कि पत्रकारिता का पहला नियम है कि कभी भी एकपक्षीय पत्रकारिता न करे पत्रकार को चाहिए कि समाचार लिखने या दिखाने से पूर्व दूसरे पक्ष को भी जाने।इससे समाचार की विश्वसनीयता बनी रहती है और पत्रकार मान-हानि के दावे से भी बचे रहते है।कभी भी पत्रकार एकपक्षीय पत्रकारिता न करे हमेशा दूसरा पक्ष भी रखे।

उन्होने एक प्रश्न के जवाब मे कहा कि आज देश मे पत्रकारों पर बढ़ रहे हमले भी पत्रकारिता के लिए चिंतनीय है और सरकार का इस ओर ध्यान न देना निष्पक्ष और निर्भीक पत्रकारिता के लिए घातक है अब केवल पत्रकारों की एकजुटता ही उन्हे सुरक्षित कर सकती है इसके लिए यदि किसी पीड़ित पत्रकार की समस्या उनके संज्ञान मे आती है तो पत्रकार साथी प्रमुखता से उसे अपने समाचार पत्र पोर्टल व चैनल मे स्थान दे और अन्य पत्रकार साथियों को भी इसके लिए प्रेरित करे।

इससे पीडित पत्रकार की समस्या जल्द ही उच्च अधिकारियों के संज्ञान मे आ जायेगी और उसका निराकरण भी हो जायेगा।आज निष्पक्ष और निर्भीक पत्रकारिता के लिए पत्रकारों का एकजुट होना आवश्यक है।

Advertisements

Advertisements
Advertisements

Related posts

One Thought to “समाचारों की विश्वसनीयता ही होती है पत्रकार की पहचान

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.