छोटे कारोबारियों को 50 लाख रुपये तक का लोन दे रहा है फेसबुक, सिर्फ 5 दिन में खाते में आएगा पैसा

Advertisements

छोटे कारोबारियों को 50 लाख रुपये तक का लोन दे रहा है फेसबुक, सिर्फ 5 दिन में खाते में आएगा पैसा


देश में छोटे कारोबारियों का व्यवसाय बड़ा करने के लिए फेसबुक ने लोन की पेशकश शुरू की है। अपनी इस पहल के तहत फेसबुक इंडिफी के साथ साझेदारी करके देश को छोटे कारोबारियों को 50 लाख तक का लोन दे रहा है। सबसे खास बात तो यह है कि लोन का पैसा 5 दिन के अंदर आपके खाते में आ जाएगा।

इससे आपको जरूरत के समय ही पैसा मिलेगा, जिसकी वजह से आप आसानी से किसी भी मौके का फायदा उठाकर अच्छी कमाी कर सकते हैं। इस लोन पर आपको ब्याज में भी छूट दी जाएगी।

लोन सेक्टर में फेसबुक का पहला कदम

सोशल मीडिया सेक्टर में राज करने के बाद फेसबुक अब लोन सेक्टर में भी अपना दबदबा बनाना चाहती है। इसके लिए कंपनी ने पहली बार भारत के लिए ‘स्मॉल बिजनेस लोन इनिशिएटिव’ स्कीम की घोषणा की है।

इससे पहले फेसबुक ने दुनिया के किसी अन्य देश में ऐसी स्कीम नहीं शुरू की है। फेसबुक ने इस स्कीम के लिए वित्तीय कंपनी इंडिफी के साथ साझेदारी की है। इसका मतलब है कि आपको पैसा इंडिफी की तरफ से दिया जाएगा, लेकिन फेसबुक भी इसमें अपना किरदार अदा करेगी।

50 लाख रुपये तक का लोन मिलेगा

फेसबुक इंडिया के उपाध्यक्ष और प्रबंध निदेशक अजीत मोहन के अनुसार इस स्कीम के जरिए कंपनी बिना कोई चीज गिरवी रखे छोटे कारोबारियों को पूंजी उपलब्ध कराना चाहती है।

हालांकि इस योजना के तहत लोन लेने के लिए छोटे व्यापारियों को पहले फेसबुक में अपने व्यवसाय का विज्ञापन देना पड़ेगा। इसके बाद वो 5 लाख से लेकर 50 लाख रुपये तक का लोन ले सकेंगे। इस लोन पर 17 से 20 प्रतिशत की दर से ब्याज लगेगा। इस लोन के लिए अप्लाई करने वाले लोगों से इंडिफि लोन एप्लीकेशन पर कोई प्रोसेसिंग फीस भी नहीं लेगा।

5 दिन के अंदर मिलेगा लोन

अजीत मोहन के अनुसार सभी जरूरी दस्तावेज मिलने के 5 दिन के अंदर इंडिफी आवेदक को लोन दे देगा। इसके लिए छोटे कारोबारियों को कोई जमानत भी नहीं देनी पड़ेगी। साथ ही महिला कारोबारियों को ब्याज दर में 0.2 प्रतिशत की छूट मिलेगी। यह स्कीम फिलहाल देश के 200 शहरों में शुरू की गई है।

हालांकि इस कार्यक्रम में फेसबुक की तरफ से कोई पैसा नहीं दिया जाएगा। लोन की पूरी रकम इंडिफी कि तरफ से दी जाएगी और कारोबारियों को लोन का पैसा भी इंडिफी को ही चुकाना होगा।

Advertisements

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.