कहीं आपकी इन गलतियां के कारण स्मार्टफोन में लग ना जाये आग, जानें कैसे करे इन गलतियों से बचाव…

Advertisements

कहीं आपकी इन गलतियां के कारण स्मार्टफोन में लग ना जाये आग, जानें कैसे करे इन गलतियों से बचाव…


स्मार्टफोन में आग लगने के बाद हाल ही में अमेरिका में एक फ्लाइट को खाली करना पड़ा था. हालांकि स्मार्टफोन में आग लगने की संभावना बहुत कम होती है, लेकिन ये संभावना इस बात पर भी निर्भर करती है कि हम अपने डिवाइस का कैसे इस्तेमाल करते हैं.

चूंकि ज़्यादा स्मार्टफोन में 4,500mAh या उससे ज़्यादा पॉवर की बैटरी होती है. साथ ही साथ फास्ट चार्जिंग फीचर्स भी मौजूद होते हैं, इसलिए अपने फोन को ठीक से इस्तेमाल करना बहुत ज़रूरी है. ज्यादातर मामलों में, स्मार्टफोन ब्रांड ने इसे यूज़र्स की गलती होने का दावा किया है. फोन में आग लगने के पीछे 10 गलतियां बताई जा रही हैं जिनसे आपको बचना चाहिए…

डैमेज होने पर भी अपने फोन का इस्तेमाल करना

अगर आप स्मार्टफोन आपके द्वारा गलती से गिर कर डैमेज हो जाता है तो, इसे इस्तेमाल ना करें और तुरंत सर्विस सेंटर पर डिवाइस की जांच करवाएं. ऐसा इसलिए है क्योंकि एक टूटा हुआ डिस्प्ले या बॉडी फ्रेम पानी या पसीने की वजह से फोन की बैटरी या अन्य पार्ट्स को खराब कर सकता है. डैमेज फोन का इस्तेमाल करना जोखिम भरा हो सकता है.

नकली या डुप्लीकेट चार्जर का इस्तेमाल करना

फास्ट चार्जिंग एडेप्टर का इस्तेमाल करते समय बहुत सावधान रहें. हमेशा उसी चार्जर का इस्तेमाल करें जो आपके स्मार्टफ़ोन के साथ आया है. ज़्यादा पावर रेटिंग वाले चार्जर का इस्तेमाल करने से आपके फोन की बैटरी पर दबाव पड़ सकता है. साथ ही डुप्लीकेट चार्जर का इस्तेमाल न करें.

थर्ड पार्टी या नकली बैटरी का इस्तेमाल करना

कभी भी थर्ड पार्टी या नकली बैटरी का इस्तेमाल न करें. ऐसी बैटरियों का इस्तेमाल करने से सुरक्षा संबंधी गंभीर समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं. खराब लिथियम-आयन बैटरी आपके फोन को ज़्यादा गरम कर सकती है, आग पकड़ सकती है और फट सकती है.

गर्म होने पर भी अपने फ़ोन का इस्तेमाल करना

अगर आप देखते हैं कि आपका स्मार्टफोन असामान्य रूप से गर्म हो रहा है तो इसे एक तरफ रख दें, चार्जिंग से अनप्लग करें और इससे दूर रहें.

अपने मोबाइल को चार्ज करने के लिए कार चार्जिंग एडेप्टर का इस्तेमाल करना ड्राइविंग करते समय कार चार्जिंग एडेप्टर की जगह पावर बैंक का इस्तेमाल करें. ऐसा इसलिए है, क्योंकि भारत में, कार मालिक थर्ड पार्टी वेंडर से एक्सेसरीज़ इंस्टॉल करवाते हैं, जिसमें वायरिंग की क्वालिटी के साथ अकसर समझौता किया जाता है. कार चार्जिंग एडेप्टर से चार्ज करते समय पॉवर अचानक से बढ़ सकती है, जिससे आपके फोन में आग लग सकती है.

अपने फोन को ओवरचार्ज करना

अपने फोन को रात भर चार्ज करने के लिए न रखें और अपने फोन को 100% तक चार्ज करना हमेशा ज़रूरी नहीं है. 90% के बाद बैटरी चार्ज करना बंद कर देना एक अच्छी आदत है क्योंकि ये बैटरी की लाइफ को बढ़ाता है. ओवरचार्ज करने से आपके फोन की बैटरी एक्सपैंड होती है, जिससे बैटरी फट सकती है.

चार्ज करते समय फोन को सूरज की रौशनी से दूर रखें

फोन को चार्ज करते समय इस बात का ध्यान रखें कि आपके फोन पर कहीं और से हीट नहीं आ रही हो. इसलिए, इसे सीधे धूप या अन्य गर्म चीजों से दूर रखें, खासकर जब ये चार्ज हो रहा हो.

अपने स्मार्टफोन पर अनावश्यक दबाव डालना

अपने स्मार्टफोन पर अनावश्यक दबाव न डालें, खासकर चार्ज करते समय, उसके ऊपर कुछ ना रखें.

अपने स्मार्टफोन को पावर स्ट्रिप या एक्सटेंशन कॉर्ड पर प्लग करके चार्ज करना

पावर स्ट्रिप या एक्सटेंशन कॉर्ड का उपयोग करने से शॉर्ट सर्किट का खतरा बढ़ जाता है, इसलिए हमेशा फोन को चार्ज करते समय इस बात का ध्यान रखें.

लोकल दूकानदारों से फोन को ठीक ना कराएं

अपने घर के आस पास की लोकल दूकानदारों से फोन को ठीक ना कराएं. हमेशा अपने स्मार्टफोन को अधिकृत सर्विस सेंटर से ही ठीक करवाएं. स्थानीय दुकानों में किसी विशेष उपकरण की मरम्मत के लिए सही प्रकार के उपकरण नहीं हो सकते हैं, जिससे फोन के सर्किट में गड़बड़ी हो सकती है. 

Advertisements

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.