खोए हुए अपने फोन का डाटा पाये आसानी से, ये तरीका आयेगा काम…

Advertisements

खोए हुए अपने फोन का डाटा पाये आसानी से, ये तरीका आयेगा काम…


कई बार आपकी लापरवाही आपका फोन खो जाने या चोरी हो जाने की वजह बन जाती है. ऐसे में आइए कुछ बातों पर गौर करते हैं जो ये सुनिश्चित करने के लिए कर सकते हैं कि अगर आपका फोन चोरी हो गया है या गुम हो गया है तो आप आसानी से अपने पर्सनल और प्रोफेशनल डेटा को दोबारा से प्राप्त कर सकते हैं.

फाइंड माई डिवाइस को एक्टिवेट करें

सैमसंग डिवाइस पर फाइंड माई डिवाइस या फाइंड माई मोबाइल नाम का इन-बिल्ट फीचर होता है. चोरी होने की स्थिति में इस फीचर का इस्तेमाल आपके स्मार्टफोन को दूर से ट्रैक करने, रिंग करने, लॉक करने या इरेस करने के लिए किया जा सकता है. ये फीचर यूज़र्स को सेट्टिंग टैब पर मिल जाएगा, जहां सिर्फ टॉगल करके इस फीचर का इस्तेमाल किया जा सकता है.

यदि आप अकसर अपने स्मार्टफोन को घर के आसपास खो देते हैं, तो आप इसे खोजने के लिए एक स्मार्ट स्पीकर का इस्तेमाल कर सकते हैं, इसके लिए आपका डिवाइस और स्पीकर एक ही अकाउंट में साइन इन होना चाहिए.

लॉक स्क्रीन मैसेज

यदि आपका फोन चोरी हो जाता है तो आप कई तरह के लॉक स्क्रीन मैसेज सेट कर सकते हैं. पासवर्ड के बिना, कोई भी आपके डिवाइस से छेड़-छाड़ नहीं कर सकता. इसलिए, आप लोगों को यह बताने के लिए मैसेज सेट कर सकते हैं कि आप डिवाइस की तलाश कर रहे हैं.

अपने अकाउंट की सुरक्षा आपके फ़ोन में कई सोशल मीडिया, ईमेल और अन्य जरूरी एकाउंट्स के लॉग इन होने की संभावना काफी अधिक है, इसलिए उनमें से साइन आउट करना आपके डेटा की सुरक्षा के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है. फिर चाहें वो आपका जीमेल अकाउंट हो या अमेज़न अकाउंट, आपको सभी अकाउंट से लॉग-आउट करना जरूरी हो जाता है. आप फाइंड माई डिवाइस का इस्तेमाल करके अपने पूरे डिवाइस को इरेस करने का विकल्प चुन सकते हैं, हालांकि ऐसा करने के बाद आप इसे ट्रैक नहीं कर पाएंगे.

ब्लूटूथ ट्रैकर, स्मार्ट स्पीकर

ब्लूटूथ ट्रैकर आपके फोन के गुम होने पर उसे ट्रैक करने का एक और तरीका है. हालांकि ये सिर्फ एक तय सीमा के अंदर ही काम करता है. एक बार जब आप ब्लूटूथ ट्रैकर खरीद लेते हैं, तो बस इसे अपने फोन से कनेक्ट करें, और आप ट्रैकर के बटन को दबाकर इसका पता लगा पाएंगे, जो आपके फोन पर अलार्म को सक्रिय करेगा.

चोरी की रिपोर्ट करें

भारत में, आप किसी डिवाइस की चोरी की रिपोर्ट करने के लिए हमेशा FIR (First Information Report) दर्ज कर सकते हैं. यह ऑनलाइन या अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन में जाकर किया जा सकता है.

Advertisements

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.