सदस्यता सत्यापन में बीएमएस प्रथम स्थान पर बरकरार

Advertisements

सदस्यता सत्यापन में बीएमएस प्रथम स्थान पर बरकरार
नंबर


सारनी, (ब्यूरो)। भारतीय कोयला खदान मजूदर संघ को पाथाखेड़ा क्षेत्र के अध्यक्ष प्रकाशराव एवं महामंत्री बिजेन्द्र सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि पाथाखेड़ा क्षेत्र में 2021 के लिए सदस्यता सत्यापन में भारतीय कोयला खदान मजदूर संघ 1060 सदस्यों के साथ प्रथम स्थान पर बरकरार है, भारतीय कोयला खदान मजदूर संघ क्षेत्र में विगत तीन वर्षों से लगातार प्रथम स्थान का संगठन बना हुआ है।

एटक यूनियन 1008 सदस्यों के साथ द्वितीय स्थान, 808 सदस्यों के साथ एचएमएस तृतीय स्थान एवं 209 सदस्यों के साथ इंटक यूनियन चौथे स्थान की यूनियन बनी। क्षेत्र में एक यूनियन के टूटकर अन्य संगठन में समाहित होने के उपरांत भी क्षेत्र के कामगारों एवं कर्मचारियों ने भारतीय मजदूर संघ में अपना विश्वास जताया एवं भारतीय मजदूर संघ ने सदस्यता सत्यापन के प्रथम दिवस से ही क्षेत्र में अपनी बढ़त बनाये रखी।

वेकोलि त्रिपक्षीय सुरक्षा समिति सदस्य अशोक मालवीय, क्षेत्रीय जे.सी.सी. सदस्यों, संजय सिंह, रणधीर सिंह, सुदामा सिंह, क्षेत्रीय कल्याण समिति सदस्यों, देवेन्द्र कुमार भादे, विजय मिश्रा एवं क्षेत्रीय सुरक्षा समिति सदस्यों संतोष कुमार लाल, शेषराव बिंजवे एवं भारतीय मजदूर संघ के सभी क्षेत्रीय पदाधिकारियों ने सभी इकाईयों पर कार्यकर्ताओं, कामगारों एवं कर्मचारियों को इसके लिये बधाई देते हुए आभार व्यक्त किया हैं।

तवा वन इकाई के अध्यक्ष अवधेश सिन्हा, सचिव निर्दीशचन्द्र, तवा टू इकाई के अध्यक्ष ललित सिन्हा, सचिव किस्मतराव पारखे, छतरपुर वन के अध्यक्ष ओमकार शुक्ला, सचिव दिनेश मोहबे, छतरपुर टू के अध्यक्ष नरेन्द्र सिंह, सचिव कल्लू सूर्यवंशी, सारनी के अध्यक्ष नरेन्द्र मिश्रा, सचिव राकेश सिंह, शोभापुर के अध्यक्ष अंशुमान सिंह, सचिव प्रकाश नागले, क्षेत्रीय कर्मशाला के अध्यक्ष भिल्लू डोंगरे, सचिव काशीनाथ कापसे, एवं कामन के अध्यक्ष रवि बिहारे, सचिव अतीक कुरैशी एवं प्रमोद कुमार सिंह ने सभी कामगारों, कर्मचारियों को प्रथम स्थान का संगठन बनाने हेतु धन्यवाद दिया एवं अनुरोध किया कि आगे भी भारतीय मजदूर संघ को इसी तरह से सभी कामगारों, कर्मचारियों का सहयोग एवं समर्थन प्राप्त होते रहेगा।

Advertisements

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.