विश्व रेबीज दिवस पर जागरूकता कार्यशाला आयोजित

Advertisements

विश्व रेबीज दिवस पर जागरूकता कार्यशाला आयोजित


बैतूल। स्वास्थ्य विभाग द्वारा मंगलवार 28 सितम्बर को विश्व रेबीज दिवस पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय में जागरूकता कार्यशाला आयोजित की गई। कार्यशाला में प्रस्तुतिकरण के माध्यम से रेबीज रोग की जानकारी सहित बचाव के उपाय एवं उपचार संबंधी विस्तृत जानकारी प्रदाय की गई।

कार्यशाला में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. ए. के. तिवारी ने बताया कि रेबीज एक जानलेवा बीमारी है जो कि रेबीज नामक विषाणु से होती है। सही समय पर सही उपचार से इसे रोका जा सकता है। यदि किसी जानवर कुत्ता, बिल्ली या सियार ने काट लिया हो तो जानवर के द्वारा चाटने, खरोंच, घाव को अनदेखा न करें।

काटने के तुरंत बाद घाव को साबुन और पानी से धो लें एवं नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र में सम्पर्क करें। डॉक्टर की सलाह के अनुसार टीकाकरण करवायें। शासकीय स्वास्थ्य केन्द्रों पर रेबीज टीकाकरण नि:शुल्क उपलब्ध है। अविश्वास से दूर रहें घाव को ढक़ें नहीं, टांके न लगायें। हर साल अपने पालतू जानवरों को रेबीज बीमारी से सुरक्षित रखने के लिये टीकाकरण करवायें अधिक जानकारी के लिये नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्रों पर सम्पर्क करें।

कार्यशाला में जिला मलेरिया अधिकारी द्वारा बताया गया कि रेबीज रोग के लक्षण जैसे-दर्द होना, थकावट महसूस करना, सिरदर्द होना, बुखार आना, मांसपेशियों में जकडऩ होना, चिड़चिड़ा होना या उग्र स्वाभाव होना, व्याकुल होना, अजोबो-गरीब विचार आना, कमजोरी होना तथा लकवा होना, लार व आंसुओं का बनना ज्यादा होना, तेज रौशनी, आवाज से चिढऩ होना, बोलने में तकलीफ होना, अचानक आक्रमण या धावा बोलना आदि दिखाई देने लगते हैं। बहुत सारे पशु ऐसे होते हैं जिनसे रेबीज मनुष्यों में फैल सकता है। पालतू पशुओं को रेबीज से बचाने के उपायों में अपने पालतू पशुओं का टीकाकरण सही समय पर कराते रहना चाहिए।

टीकाकरण केवल अपने पशुओं के लिए ही लाभदायक नहीं होता बल्कि हम स्वयं भी सुरक्षित रहते हैं।
कार्यशाला में जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. अरविन्द कुमार भट्ट, जिला स्वास्थ्य एपं परिवार कल्याण अधिकारी डॉ. एन.के. चौधरी सहित स्वास्थ्य विभाग के अन्य अधिकारी, कर्मचारी उपस्थित रहे।

Advertisements

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.