वार्ड 22 में ट्रेचिंग ग्राउंड में कचरा फेंके जाने का पूर्व पार्षद ने किया विरोध

Advertisements

वार्ड 22 में ट्रेचिंग ग्राउंड में कचरा फेंके जाने का पूर्व पार्षद ने किया विरोध


सारनी, (ब्यूरो)। मध्य प्रदेश की दूसरी तथा जिले की पहली सबसे बड़ी नगर पालिका सारणी में नगर पालिका की तानाशाही के मामले को लेकर पूर्व पार्षद एवं समाजसेवी मुकेश डेहरिया ने मोर्चा खोला है।

पूर्व पार्षद डेहरिया ने बताया कि मध्य प्रदेश ही नहीं बल्कि पूरे भारत देश में शहर के बाहर गीला एवं सूखा कचरा फेंका जाता है। परंतु सारणी नगर पालिका के अंतर्गत अधिकारियों द्वारा 36 वार्डों का कचरा शहर के अंदर फेकवाया रहा है जिससे गंदगी एवं बदबू से वार्ड वासियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। पूर्व में भी वार्डवासियों द्वारा पूर्व में वार्ड में कचरा फेंकने को लेकर प्रदर्शन किया गया, जिस पर स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा कीटनाशक दवाई, ब्लीचिंग पाउडर डालकर 1-2 दिन कचरा गाड़ी को वार्ड में कचरा डालने से मना कर दिया गया था, फिर उसी जगह पर कचरा फेंकने का सिलसिला जारी हो गया है।

पूर्व पार्षद डेहरिया ने यह भी बताया कि नपा द्वारा वार्डों में कचरा गाड़ी से गली-गली में घूमता आपके घर के आसपास गड्ढों में पानी जमा होने न देना परंतु दुर्भाग्य है कि दूसरों को उपदेश देने वाली नगर पालिका के द्वारा शहर के अंदर ही कचरा फेंकवा रही है। इसके अलावा के ट्रेचिंग ग्राउंड नाम पर क्या नगर पालिका ने शासकीय संजय निकुंज नर्सरी सुभाष नगर वार्ड क्रमांक 22 को अधिकृत करते समय यह बताया था कि इस नर्सरी पर हम ट्रेचिंग ग्राउंड बनाएंगे। संबंधित अधिकारी ने यह भी नहीं सोचा कि शहरों का कचरा सर के अंदर फेंकने से मलेरिया, डेंगू, हैजा जैसी गंभीर बीमारी का सामना वार्ड वासियों को करना पड़ेगा।

पूर्व पार्षद डेहरिया ने कहा कि यह बहुत ही सोचनीय विषय है, इस पर उन्होंने जिला कलेक्टर से मांग की है कि नगर पालिका अधिकारी से पूछा जाए ताकि समय क्या प्रस्ताव बनाया गया था।

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.