जनजाति समाज के गौरव है टंटया मामा – बबला शुक्ला

Advertisements

जनजाति समाज के गौरव है टंटया मामा – बबला शुक्ला

बलिदान दिवस पर भाजपा ने किया याद


बैतूल। जनजातिय समाज के गौरव टंटया मामा के बलिदान दिवस पर भाजपा जिला कार्यालय विजय भवन में कार्यकर्ताओ ने उनके छायाचित्र पर श्रृद्वासुमन अर्पित कर उन्हे याद किया। भाजपा जिलाध्यक्ष आदित्य बबला शुक्ला ने कहा कि देष को स्वतंत्र करने में अनगिनत सपूतो ने अपने प्राणो का बलिदान दिया।

परंतू टंटया मामा जैसे योद्वाओ को वो सम्मान नही मिला जिसके वे हकदार थे। ऐसे गुमनाम जनजातिय समाज के योद्वाओ को सम्मान दिलाने का काम भाजपा और उसकी सरकारे कर रही है। टंटया मामा एक कुषल योद्वा और गरीबो के मसीहा थे। अंग्रेज उन्हे रोबिनहुड बुलाते थे। क्योंकि वे अंग्रेजो से लूटा माल गरीबो में बांट देते थे।

श्री शुक्ला ने कहा कि टंटया मामा ने अंग्रेजो के शोषण के खिलाफ आवाज उठाई थी। वे गुरिल्ला युद्व में पारंगत थे। आखिर में अंग्रेज सरकार ने उन्हे पकड लिया और 4 दिसंबर 1889 को फांसी दे दी। अंग्रेजो की क्रुरता और असंवेदनषीलता का पता इस बात से चलता है कि फांसी देने के बाद टंटया भील का शव इंदौर के निकट खंडवा रेल मार्ग पर स्थित पातालपानी रेल्वे स्टेषन के पास फेंक दिया। श्री शुक्ल ने टंटया मामा को श्रृद्वासुमन अर्पित करते हुए कहा कि ऐेसे महापुरूषो का हम सभी को अनुसरण करना चाहिए।

इस अवसर पर प्रदेष कार्यसमिति सदस्य वसंत बाबा माकोडे, जिला महामंत्री सुधाकर पंवार, कार्यालय मंत्री कृष्णा गायकी, मीडिया प्रभारी शैलेन्द्र आर्य, जनजाति मोर्चा के प्रदेष मंत्री दीपक उइके, गंज मंडल अध्यक्ष विकास मिश्रा, बडोरा मंडल अध्यक्ष नीतू पटेल, जनजाति मोर्चा जिलाध्यक्ष सीताराम चढोकार, पिछडावर्ग मोर्चा जिलाध्यक्ष संजू सोलंकी, युवा मोर्चा जिलाध्यक्ष भास्कर मगरदे, किसान मोर्चा जिलाध्यक्ष महेष्वर सिंह चंदेल, भोला खंडेलवाल, राजेष सरियाम, पवन यादव, सावन्या शेषकर, अंषुल राजपुत, योगेष उइके, प्रवीण वराठे, अनिल पंवार, तारेन साकरे सहित पार्टी कार्यकर्ता मौजूद थें।

Advertisements

Related posts

One Thought to “जनजाति समाज के गौरव है टंटया मामा – बबला शुक्ला

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.