बैतूल : प्रत्याशियों का भाग्य हुआ ईवीएम में कैद, 11 दिसंबर को होंगे परिणाम घोषित, कुछ मतदान केंद्र पर 5 बजे के बाद भी जारी रहा मतदान

Advertisements

बैतूल : प्रत्याशियों का भाग्य हुआ ईवीएम में कैद, 11 दिसंबर को होंगे परिणाम घोषित, कुछ मतदान केंद्र पर 5 बजे के बाद भी जारी रहा मतदान


ब्रजकिशोर भारद्वाज
बैतूल। विधानसभा चुनाव 2018 में पूरे विधानसभा क्षेत्र से 56 प्रत्याशियों के पक्ष में मतदाताओं ने अपना अपना मत दिया। 28 नवंबर बुधवार की सुबह की पहली किरण से ही मतदाताओं की भीड़ प्रातः 8:00 बजे से बूथों पर पहुंचने लगी थी। पूर्व में हुए चुनावो से इस विधानसभा चुनाव में मतदाताओं में मत देने हेतु काफी जोश दिखाई दिया। इस लोकतंत्र के महापर्व में काफी युवाओं जो कि पहली बार मतदान कर रहे थे उन्होंने ने भी बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया। प्रातः 8:00 बजे से ही जहां प्रत्येक बूथों पर मतदाताओं ने अपने मत का प्रयोग करते हुए अपने अपने पसंदीदा प्रत्याशी को मत दिया। वहीं कई बूथों पर प्रातः 8:00 बजे के बाद 8:15 या फिर 8:30 बजे तक मशीनें चालू हुई। जिसके बाद मतदाताओं ने अपना मत दिया परंतु मतदाताओं में मत देने का जोश कुछ इस प्रकार था कि वे इस बात को भूल कर की मशीन भले ही लेट चालू होवे परंतु मतदाता अपने मत का प्रयोग पूर्णता रूप से करेगा। आपको बता दें कि बैतूल जिले कि प्रशासन के द्वारा मतदाताओं को अधिक से अधिक मत प्रतिशत बढ़ाने हेतु कई तरह के उपाय करके जागरूक भी किया गया है। जिसका सीधा सीधा प्रभाव विधानसभा चुनाव में देखने को मिला जहां की मतदाताओं में काफी जोश हर्षोल्लास के साथ अपना मत देने का दिखाई दिया। 28 नवंबर को प्रत्येक घंटे में निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार मतदान की जानकारी दी गयी। जिसमें की सुबह 8:00 बजे से 10:00 बजे तक 5 विधानसभा क्षेत्रों में मतदान का प्रतिशत बताया गया है, जिसमें मुलताई विधानसभा से 10.01% के लगभग, आमला विधानसभा से 9. 10% लगभग, बैतूल विधानसभा से 9% लगभग, घोड़ाडोंगरी विधानसभा से 8% लगभग, भैंसदेही विधानसभा से 8.5% लगभग मतदान हुए हैं। 12 बजे जारी की गई अपडेट में मुलताई विधानसभा से 28.4%, आमला विधानसभा से 26.6%, बैतूल विधानसभा से 25.2%, घोड़ाडोंगरी विधानसभा से 22.2%, भैसदेही विधानसभा से 20.8% जिसमे कुल 12 बजे तक पूरे विधानसभा क्षेत्र में 24.5% मत डाले गए है। 2 बजे तक जारी हुए अपडेट में मुलताई विधानसभा में 50.2%, आमला विधानसभामें 51.9%, बैतूल विधानसभा में 49.4%, घोड़ाडोंगरी विधानसभा में 49.1%, भैसदेही विधानसभा में 46.9% मत डाले गए। जिसमे 2 बजे तक पूरे विधानसभा क्षेत्र में 49.4% मत डाले गए। 4 बजे जारी हुए अपडेट में मुलताई विधानसभा में 70.6%, आमला विधानसभा में 69.3%, बैतूल विधानसभा में 68.4%, घोड़ाडोंगरी विधानसभा में 71.3%, भैसदेही विधानसभा में 71.3% मत डाले गए। जिसमे 4 बजे तक पूरे विधानसभा क्षेत्र में 70.2% मत डाले गए। वही अभी 5 बजे के बाद तक मतदान चालू रहा। संभावना जताई जा रही है, की रात्रि 8 बजे तक सभी बचे क्षेत्र में चुनाव जारी रहेंगे।


पिंक मतदान केन्द्र पर मिली सुविधा


मध्यप्रदेश विधानसभा निर्वाचन 2018 में दिव्यांगजनों के अलावा गर्भवती एवं धात्री महिलाओं का भी सुगम्य वेब पोर्टल पर पंजीयन कराकर मतदान हेतु आवश्यक सहायता प्रदान करने की व्यवस्था प्रदान की गई थी। बुधवार 28 नवंबर को मतदान के दिन मतदान केन्द्रों पर गर्भवती एवं धात्री महिलाओं के लिए कुछ मतदान केन्द्रों पर आंचल केन्द्र बनाए भी गए, जहां वे अपने शिशुओं को मर्यादित व्यवस्था में स्तनपान करा सकती थीं। इसके अलावा इन महिलाओं को बिना लाइन में लगे मतदान करने की सुविधा भी प्रदान की गई। मत देने आई महिलाओ को उनके बच्चे को इस मतदान केन्द्र पर खिलौने उपलब्ध कराए गए थे। साथ ही आंचल केन्द्र में स्तनपान की व्यवस्था भी थी। ऐसी व्यवस्थाएं हर चुनाव में होना चाहिए। उल्लेखनीय है कि निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार सुगम एवं समावेशी मतदान योजना का विस्तार करते हुए इस पोर्टल पर दिव्यांगजनों के अलावा गर्भवती एवं धात्री महिलाओं के पंजीयन की सुविधा भी प्रदान की गई थी। सुगम्य पोर्टल एवं मोबाइल एप में पंजीकृत होने पर गर्भवती व धात्री महिलाओं को सुगम्य पास प्रदान किए गए थे, जिससे उन्हें बिना कतार में लगे मतदान की सुविधा दी गई।


आमला विधानसभा में में धात्री एवं बुजुर्गों को गाड़ी से छोड़ा


चुनाव आयोग के निर्देश के अनुसार जिले में शत-प्रतिशत मतदान करने हेतु आमला विधानसभा क्षेत्र में सामाजिक संगठन में अपनी जिम्मेदारी को निभाते हुए अपने संगठन के 72 लोग जो कि मतदान करने वाले धात्री एवं बुजुर्गों को गाड़ी से लाना ले जाना करते हुए उन्हें मतदान की प्रक्रिया में शामिल कराया। वही सामाजिक संगठन ग्राम भारती महिला मंडल की योग माया शर्मा ने बताया कि हमें निर्वाचन आयोग के द्वारा निर्देश प्राप्त हुए थे जिसके अनुसार हमारे संगठन के 72 सदस्य जो कि प्रत्येक वार्ड में दो-दो अपनी ड्यूटी निभा रहे हैं, उनके द्वारा आंगनवाड़ी केंद्रों के माध्यम से प्राप्त सूची के अनुसार धात्री एवं बुजुर्गों को मतदान केंद्र तक गाड़ी से लेकर आना जाना किया गया जिससे कि धात्री एवं बुजुर्गों ने अपना मतदान दे सके। वहीं धातु एवं बुजुर्गों ने निर्वाचन आयोग की इस पहल की काफी सहारना की।


चप्पे-चप्पे पर रही पुलिस प्रशासन एवं बाहर से आए सुरक्षा प्रहरियों की नजर


विधानसभा चुनाव में पुलिस प्रशासन एवं बाहर से आए सुरक्षा प्रहरीओं की काफी सख्ती से नजर रखी थी। बाहरी राज्य से आए सुरक्षा प्रहरियों एवं जिले की पूरी पुलिस टीम के द्वारा विधानसभा चुनाव को लेकर काफी सख्त दिखाई दे रही थी। और आचार संहिता लागू होने के साथ ही जगह-जगह गाड़ियों की चेकिंग अभियान भी शुरू हो गए थे। जिसके बाद 28 नवंबर चुनाव के 48 घंटे पहले धारा 144 लागू और एवं जिला साइलेंस जोन घोषित हुआ। जिसके बाद नगरों में भी पुलिस एवं बाहर राज्य से आई सुरक्षा प्रहरियों ने शांति पूर्वक माहौल बनाये रखा। सभी विधानसभा में चुनाव में लगे कर्मचारियों ने अपनी जिम्मेदारी को बहुत ही अच्छे से निभाते हुए चुनाव को शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न कराया।

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error:
WhatsApp chat
%d bloggers like this: