राम मंदिर के लिए कुंभ में आज से होगी परम धर्म संसद, देश-विदेश से जुटेंगे प्रतिनिधि

Advertisements

NEWS IN HINDI

राम मंदिर के लिए कुंभ में आज से होगी परम धर्म संसद, देश-विदेश से जुटेंगे प्रतिनिधि

नई दिल्‍ली/प्रयागराज। अयोध्‍या में राम मंदिर निर्माण के लिए मांग कर रहे साधु-संत आज से अगले तीन तक प्रयागराज में चल रहे कुंभ मेले में परम धर्म संसद का आयोजन कर रहे हैं. यह परम धर्म संसद शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती की ओर से किया जा रहा है. साधु और संतों ने इस संबंध में बड़ा ऐलान भी किया हुआ है. उनका कहना है कि राम मंदिर सविनय अवज्ञा आंदोलन के जरिये बनाया जाएगा.

प्रयागराज में चल रहे कुंभ मेले में इस समय साधु और संतों का जमावड़ा लगा हुआ है. यहां विश्‍व हिंदू परिषद (विहिप) की धर्म संसद से पहले शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती परम धर्म संसद का आयोजन कर रहे हैं. यह परम धर्म संसद कुंभ में 28, 29 और 30 जनवरी तक चलेगी. इसमें राम मंदिर निर्माण के लिए चर्चा और रणनीति बनेगी.

इस परम धर्म संसद के बाद शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती के नेतृत्व में बड़ी संख्‍या में साधु और संत अयोध्या कूच करेंगे. परम धर्म संसद में सविनय अवज्ञा आंदोलन की शुरुआत होगी. शंकराचार्य सविनय अवज्ञा आंदोलन के माध्यम से राम मंदिर शिलान्यास के लिए निकलेंगे. इस परम घर्म संसद में 1008 प्रतिनिधि मौजूद रहेंगे. इसमें सभी 4 पीठों के प्रतिनिधि, कई देशों के प्रतिनिधि, 13 अखाड़ों के प्रतिनिधि, 7 पुरियों के प्रतिनिधि, 12 ज्योतिर्लिंगों के प्रतिनिधि, सभी संसदीय क्षेत्र से एक-एक प्रतिनिधि इस परम घर्म संसद में रहेंगे.

बता दें कि अयोध्‍या मसले पर सुनवाई एक बार फिर टल गई. इस मामले में मंगलवार 29 जनवरी को सुनवाई होनी थी, लेकिन इसके लिए बनाई गई बैंच में शामिल जस्‍ट‍िस बोबड़े के उपलब्‍ध न होने पर अब ये सुनवाई आगे के लिए टल गई है. अभी इस मामले में सुनवाई के लिए तारीख भी तय नहीं हुई है. इससे पहले पीठ के गठन और जस्‍ट‍िस यूयू ललित के हटने के कारण भी सुनवाई में देरी हुई थी.

इससे पहले 25 जनवरी को अयोध्या मामले की सुनवाई के लिए चीफ जस्‍ट‍िस रंजन गोगोई ने नई बेंच का गठन कर दि‍या था. इस बैंच में CJI रंजन गोगोई के अलावा एसए बोबडे, जस्टिस चंद्रचूड़, अशोक भूषण और अब्दुल नज़ीर शामि‍ल हैं. पिछली बैंच में कि‍सी मुस्‍ल‍िम जस्‍ट‍िस के न होने से कई पक्षों ने सवाल भी उठाए थे.

इससे पहले बनी पांच जजों की पीठ में जस्‍ट‍िस यूयू ललित शामि‍ल थे, लेक‍िन उन पर मुस्‍लि‍म पक्ष के वकील राजीव धवन ने सवाल उठाए थे. इसके बाद वह उस पीठ से अलग हो गए थे. इसके बाद चीफ जस्‍ट‍िस ने नई पीठ गे गठन का फैसला किया था.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके facebook page पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

NEWS IN ENGLISH

Representative will be gathered from Kumbh to Ram temple for today

New Delhi / Prayagraj Saints and saints seeking Ayodhya Ram temple construction are organizing Param Dharma Parishad from today to Kumbh Mela in Prayagraj till today. This supreme religion is being done by Sansad Shankaracharya Swarananand Saraswati. Saints and saints have made a big announcement in this regard too. They say that Ram temple will be built through civil disobedience movement.

At this time, there is a gathering of saints and saints in the Kumbh Mela running in Prayagraj. Here before the Vishwa Hindu Parishad (VHP) religion Parliament, Shankaracharya Saratwana Saraswati is organizing Param Dharma Parishad. This ultimate religion will run in Parliament Kumbha 28, 29 and 30 January. There will be discussion and strategy for building Ram temple in this.

After this supreme religion, a large number of sadhus and saints will travel to Ayodhya under the leadership of Shankaracharya Swarupananda Saraswati. The Civil Disobedience Movement will begin in the Parliament of the Ultimate Religion. Shankaracharya will go for Ram temple fundraising through the Civil Disobedience Movement. 1008 representatives will be present in this ultimate proud parliament. In this, representatives of all the four benches, representatives from many countries, representatives of 13 akhandas, representatives of 7 elders, representatives of 12 Jyotirlingas, and one representative from all parliamentary constituencies will be in this ultimate proud parliament.

Let us hear that the hearing on the Ayodhya issue once again has been postponed. The case was to be heard on Tuesday, 29th January, but the hearing is now on for further hearing if Justice Bobde is not available in the bench created for this. The date for the hearing is not yet fixed in this case. Earlier, the hearing was delayed due to the formation of the bench and the withdrawal of Justice Uu Lalit.

Earlier on January 25, Chief Justice Ranjan Gogoi had constituted a new bench to hear the Ayodhya case. Apart from CJI Ranjan Gogoi, this batch includes SA Bobde, Justice Chandrachud, Ashok Bhushan and Abdul Nazir. Many parties had raised questions because of the absence of any Muslim justice in the previous bench.

Justice Yu Lalit was included in the bench of five judges before that, but he was questioned by the Muslim party’s advocate Rajiv Dhawan. After that he was separated from that back. After this the Chief Justice had decided to form a new back gay.

To get the latest updates, click on the link: facebook page Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error:
WhatsApp chat
%d bloggers like this: