बसंत पंचमी 2019 : ये है सरस्वती पूजन का शुभ मुहूर्त और विधि

Advertisements

NEWS IN HINDI

बसंत पंचमी 2019 : ये है सरस्वती पूजन का शुभ मुहूर्त और विधि

माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को सरस्वती की पूजा के दिन के रूप में भी मनाया जाता है. धार्मिक ग्रंथों में ऐसी मान्यता है कि इसी दिन शब्दों की शक्ति ने मनुष्य के जीवन में प्रवेश किया था. पुराणों में लिखा है सृष्टि को वाणी देने के लिए ब्रह्मा जी ने कमंडल से जल लेकर चारों दिशाओं में छिड़का था. इस जल से हाथ में वीणा धारण कर जो शक्ति प्रकट हुई वह सरस्वती देवी कहलाई. उनके वीणा का तार छेड़ते ही तीनों लोकों में ऊर्जा का संचार हुआ और सबको शब्दों में वाणी मिल गई. वह दिन बसंत पंचमी का दिन था इसलिए बसंत पंचमी को सरस्वती देवी का दिन भी माना जाता है.

शास्त्रों में बसंत पंचमी के दिन कई नियम बनाए गए हैं, जिसका पालन करने से मां सरस्वती प्रसन्न होती हैं. बसंत पंचमी के दिन पीले वस्त्र पहनने चाहिए और मां सरस्वती की पीले और सफेद रंग के फूलों से ही पूजा करनी चाहिए.

बसंत पंचमी पर पूजा का शुभ मुहूर्त-

बसंत पंचमी पूजा मुहूर्त: सुबह 7.15 बजे से दोपहर 12.52 बजे तक.

पंचमी तिथि प्रारंभ: मघ शुक्ल पंचमी शनिवार 9 फरवरी की दोपहर 12.25 बजे से शुरू.

पंचमी तिथि समाप्त: रविवार 10 फरवरी को दोपहर 2.08 बजे तक.

मां सरस्वती की पूजा विधि-

– सुबह स्नान करके पीले या सफेद वस्त्र धारण करें.

– मां सरस्वती की मूर्ति या चित्र उत्तर-पूर्व दिशा में स्थापित करें.

– मां सरस्वती को सफेद चंदन, पीले और सफेद फूल अर्पित करें.

– उनका ध्यान कर ऊं ऐं सरस्वत्यै नम: मंत्र का 108 बार जाप करें.

– मां सरस्वती की आरती करें और दूध, दही, तुलसी, शहद मिलाकर पंचामृत का प्रसाद बनाकर मां को भोग लगाएं.

मां सरस्वती को कैसे करें प्रसन्न-

– सरस्वती माता पीले फल, मालपुए और खीर का भोग लगाने से माता सरस्वती शीघ्र प्रसन्न होती हैं.

– बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती को बेसन के लड्डू अथवा बेसन की बर्फी, बूंदी के लड्डू अथवा बूंदी का प्रशाद चढ़ाएं.

– श्रेष्ठ सफलता प्राप्ति के लिए देवी सरस्वती पर हल्दी चढ़ाकर उस हल्दी से अपनी पुस्तक पर “ऐं” लिखें.

– बसंत पंचमी के दिन कटु वाणी से मुक्ति हेतु, वाणी में मधुरता लाने के लिए देवी सरस्वती पर चढ़ी शहद को नित्य प्रात: सबसे पहले थोड़ा से अवश्य चखें.

– बसंत पंचमी के दिन गहनें, कपड़ें, वाहन आदि की खरीदारी आदि भी अति शुभ मानी जाती है.

क्या करें अगर एकाग्रता की समस्या है?

– जिन लोगों को एकाग्रता की समस्या हो.

– आज से नित्य प्रातः सरस्वती वंदना का पाठ करें.

– बुधवार को मां सरस्वती को सफ़ेद फूल अर्पित किया करें.

अगर सुनने या बोलने की समस्या होती है?

– सोने या पीतल के चौकोर टुकड़े पर मां सरस्वती के बीज मंत्र को लिखकर धारण कर सकते हैं.

– बीज मंत्र है “ऐं”

– इसको धारण करने पर मांस मदिरा का प्रयोग न करें.

अगर संगीत या कला के क्षेत्र में सफलता पानी है?

– आज केसर अभिमंत्रित करके जीभ पर “ऐं” लिखवाएं.

– किसी धार्मिक व्यक्ति या माता से लिखवाना अच्छा होगा.

आज के दिन सामान्य रूप से क्या-क्या करना बहुत अच्छा होगा?

– आज के दिन मां सरस्वती को कलम अवश्य अर्पित करें और वर्ष भर उसी कलम का प्रयोग करें.

– पीले या सफ़ेद वस्त्र जरूर धारण करें और काले रंग से बचाव करें.

– केवल सात्विक भोजन करें तथा प्रसन्न रहें और स्वस्थ रहें.

– आज के दिन पुखराज और मोती धारण करना बहुत लाभकारी होता है.

– आज के दिन स्फटिक की माला को अभिमंत्रित करके धारण करना भी श्रेष्ठ परिणाम देता है.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके facebook page पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

NEWS IN ENGLISH

Basant Panchami 2019: This is the auspicious time and method of Saraswati worship

Panchami date of the Shukla Paksha of Magh Mass is celebrated as the day of worship of Saraswati. Religious texts have such belief that on this day the power of words entered the life of man. In the Puranas, Brahma ji sprinkled water from the kamandal in four directions to give voice to the creation. The power which was revealed by wearing a harp in the hand with this water is called Saraswati Devi. After the telegram of his harps spread, energy was transmitted in all the three places and everyone received a voice in the words. That day was the day of Basant Panchami so Basant Panchami is also considered the day of Saraswati Devi.

In the scriptures many rules have been made on the day of Basant Panchami, which is followed by mother Saraswati. On the day of Basant Panchami, we should wear yellow clothes and worship the mother Saraswati only with yellow and white flowers.

 

An auspicious time for worship of Basant Panchami

Basant Panchami Puja Muhurat: From 7.15 am to 12.52 pm.

Panchami date starts: Magh Shukla Panchami starting from 12.25 noon on Saturday 9 February.

Panchami date expires: Sunday, February 10, 2.08 pm

 

Pooja Method of Mother Saraswati-

– Shake in the morning to wear yellow or white clothes.

– Install the statue of Mother Saraswati in north-east direction.

– Offer white sandalwood, yellow and white flowers to mother Saraswati.

– He meditated and said, Saraswatiya Namah: chant the mantra 108 times.

– Make aarti of mother Saraswati and mix milk, curd, basil, honey and make offerings of Panchamrta to the mother.

How To Make Mother Saraswati happy-

– Mother Saraswati is very pleased with Saraswati Mata Pale fruits, Malpua and Kheer’s indulgence.

– On the day of Basant Panchami, offer Mother of Goddess Saraswati the gram flour or gram flour, Bundi of Ladoo or Bundi.

– To achieve the best success, add turmeric to the Goddess Saraswati and write “Ai” on your book with that turmeric.

– On the day of Basant Panchami, for the liberation of bitter words, to bring sweetness to the voice, the Goddess Saraswati on honey, always at least pray first.

– On the day of Basant Panchami, shopping of jewelery, clothes, vehicles etc. is also considered to be very auspicious.

What to do if there is a problem of concentration?

– Those who have a concentration problem

– From today onwards, recite Saraswati Vandana regularly.

– On Wednesday, Mother Saraswati offered white flowers.

If there is a problem of listening or speaking?

– On a square piece of gold or brass, the mother can write saraswati’s seed mantra and write it.

– Seed mantra is “Ai”

– Do not use meat on this for wearing.

If there is water in the field of music or art?

– Today, by burning kesar, write “ane” on the tongue.

It would be nice to write to a religious person or mother.

What would be a good day to day in general?

– Today, present the pen to mother Saraswati and use the same pen throughout the year.

– Be sure to wear yellow or white clothes and avoid black color.

– Only eat savory food and be happy and stay healthy.

– It is very beneficial to wear topaz and pearl on today.

– It is also possible to hold the rhinestone garland today and give the best result.

To get the latest updates, click on the link: facebook page Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!
WhatsApp chat
%d bloggers like this: