अफजल गुरु की फांसी की बरसी पर आज रात बड़े हमले की फिराक में आतंकी, कश्मरी में अलर्ट

Advertisements

NEWS IN HINDI

अफजल गुरु की फांसी की बरसी पर आज रात बड़े हमले की फिराक में आतंकी, कश्मरी में अलर्ट

नई दिल्ली। संसद भवन पर हमले के दोषी अफजल गुरु और जेकेएलएफ के संस्थापक मोहम्मद मकबूल भट्ट की फांसी की बरसी पर आतंकियों ने हमले का प्लान बनाया है. खुफिया एजेंसियों ने एक बड़ा अलर्ट जारी करते हुए कहा कि आतंकी, जम्मू कश्मीर में सुरक्षा बलों के डिप्लॉयमेन्ट और उनके आने जाने के रास्ते पर IED से हमला कर सकते हैं. वहीं, अलगाववादियों ने सोमवार को कश्मीर में प्रदर्शन और बंद का आह्वान किया है.

‘आजतक’ के मौजूद खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट में कहा गया है कि 9 फरवरी यानी आज की रात और सुबह (तड़के) सभी CAPF के कैम्प और पुलिस के कैम्प पर आतंकी बड़ा हमला कर सकते हैं, इसलिए सभी सुरक्षा बल सावधान रहें. इसके साथ ही एरिया को बिना सेंसिटाइज किए उस एरिया में ड्यूटी पर न जाएं.

पहले ग्रेनेड हमले का था अलर्ट

बता दें, इससे पहले भी खुफिया एजेंसियों ने सेना के कैंप पर आतंकी हमले का अलर्ट जारी किया गया था. इस अलर्ट में कहा गया था कि आतंकी सेना के कैंपों को ग्रेनेड हमले के जरिए निशाना बना सकते हैं. इस अलर्ट के बाद जम्मू और कश्मीर में कई सेना कैंपों पर ग्रेनेड हमले भी हुए थे, जिसमें आधा दर्जन जवान घायल हुए. हालांकि, अलर्ट के कारण जवान मुस्तैद थे. इस वजह से आतंकी किसी बड़े हादसे को अंजाम देने में सफल नहीं हो पाए थे.
गुरु और भट्ट की अस्थियां वापस करने की मांग

संसद भवन पर हमले के मामले में अफजल गुरु को नौ फरवरी 2013 को फांसी दी गई थी और उसे तिहाड़ जेल के भीतर दफना दिया गया था. एक खुफिया अधिकारी की हत्या के मामले में जेकेएलएफ के संस्थापक मोहम्मद मकबूल भट्ट को भी 11 फरवरी 1984 को फांसी दी गई थी और तिहाड़ जेल में दफना दिया गया था. अफजल की फांसी का अलगाववादियों ने बहुत विरोध किया था. हर साल की तरह इस बार भी अलगाववादी विरोध प्रदर्शन करेंगे और कश्मीर बंद का आवाहन किया है. साथ ही गुरु और भट्ट की अस्थियां वापस करने की मांग की है.

सेना ने आतंकियों के खिलाफ चला रखा है अभियान

नए साल पर सेना ने आतंकियों के सफाए का अभियान चला रखा है. बीते दिनों करीब दर्जनभर आतंकियों को मुठभेड़ में मार गिराया गया है. इनमें अधिकतर जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी शामिल थे. बीते 6 फरवरी को सेना ने लश्कर के जिला कमांडर इरफान अहमद को ढेर कर दिया था.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके facebook page पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

NEWS IN ENGLISH

Terror in Kashmir, Kashmir alert for the major attack on Afzal Guru’s execution tonight

new Delhi. The attackers of Afzal Guru and JKLF founder Mohammed Maqbool Bhatt, who were convicted of attack on the Parliament building, have planned to attack the terrorists. Intelligence agencies issued a major alert saying that the terrorists can attack the security forces in Jammu and Kashmir and attack on IED on their way to the arrival. At the same time, separatists have called for demonstrations and closures in Kashmir on Monday.

It is said in the report of intelligence agencies present in ‘Aajtak’ that terrorists can attack a major attack on the camps and police camps of all the CAPF, on the night of 9 February (morning) and tomorrow (morning), so be careful of all the security forces. Simultaneously, do not go to duty in the area without uncensitizing the area.

The first grenade attack was alert

Before that, intelligence agencies had also issued an alert for the terrorist attack on the camps of the intelligence agencies. It was said in this alert that the terrorist army camps could be targeted by grenade attack. After this alert, there were also grenade attacks on many army camps in Jammu and Kashmir, in which half a dozen jawans were injured. However, because of the alert, the young men were in the custody. Because of this, terrorists were unable to execute any major accident.
Guru and Bhatt demanded to return bones

Afzal Guru was hanged on 9 February 2013 in the case of attack on Parliament House and he was buried inside Tihar Jail. In the case of the murder of an intelligence officer, JKLF founder Mohammed Maqbool Bhatt was hanged on February 11, 1984 and was buried in Tihar Jail. Afzal’s execution had been very opposed by the separatists. Like every year, this time too, will demonstrate separatist protests and call off Kashmir. Also, the demand for the return of the bones of Guru and Bhatt have been made.

Army has launched a campaign against terrorists

On the new year, the army has been campaigning for the elimination of terrorists. Nearly a dozen terrorists have been killed in the encounter in the past. Most of them were terrorists of Jaish-e-Mohammed. On February 6, the army had piled up Lashkar’s district commander Irfan Ahmed.

To get the latest updates, click on the link: facebook page Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!
WhatsApp chat
%d bloggers like this: