महासचिव बनने के बाद प्रियंका गांधी का पहला रोड शो, क्या यूपी में कांग्रेस को दे पाएगा संजीवनी?

Advertisements

NEWS IN HINDI

महासचिव बनने के बाद प्रियंका गांधी का पहला रोड शो, क्या यूपी में कांग्रेस को दे पाएगा संजीवनी?

लोकसभा चुनाव 2019 से पहले उत्तर प्रदेश में वेंटिलेटर पर पड़ी कांग्रेस में जान फूंकने की जिम्मेदारी प्रियंका गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया को सौंपी गई है. सूबे की सियासी नब्ज को टटोलने और कांग्रेस के नेता और कार्यकर्ताओं में जोश भरने के लिए प्रियंका गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ सोमवार को सूबे की राजधानी लखनऊ पहुंच रहे हैं और रोड शो के जरिए सियासी माहौल बनाने की कवायद करेंगे.

कांग्रेस महासचिव पद संभालने के बाद पहली बार आज प्रियंका गांधी सूबे की राजधानी लखनऊ में रोड शो करेंगी. उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राज बब्बर के मुताबिक यह कांग्रेस के राजनीतिक इतिहास का स्वर्णिम दिन होगा, लेकिन ऐसे में सवाल है कि सूबे में बुरे दौर से गुजर रही कांग्रेस को प्रियंका गांधी क्या संजीवनी दे पाएंगी?

प्रियंका का रोड शो

लखनऊ अमौसी एयरपोर्ट से लेकर कांग्रेस कार्यालय तक प्रियंका गांधी के स्वागत में सड़कें पोस्टरों और बैनर से पटी हुई नजर आ रही हैं. सुबह 11 बजे लखनऊ एयरपोर्ट मोड़ से प्रियंका-राहुल का रोड शो शुरू होगा और प्रदेश कांग्रेस दफ्तर तक पहुंचेगा. कानपुर, उन्नाव, सीतापुर, लखीमपुर, फैजाबाद, सुल्तानपुर, प्रतापगढ़, अमेठी, रायबरेली, बाराबंकी, फैजाबाद जैसे आसपास के जिलों के कार्यकर्ता प्रियंका और राहुल के स्वागत के लिए पहुंच रहे हैं.

कांग्रेस की खस्ता हालत

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के पास 2 सांसद और 6 विधायक और एक एमएलसी है. इसके अलावा सूबे में पार्टी का वोट प्रतिशत सिंगल डिजिट में है. सूबे में पार्टी संगठन में अध्यक्ष के नाम के सिवा किसी के बारे में लोगों को पता ही नहीं है. इससे पार्टी की खस्ता हालत का अंदाजा लगाया जा सकता है. वहीं, दूसरी ओर बीजेपी सूबे की सत्ता पर 311 विधायकों के संग प्रचंड बहुमत के साथ काबिज है और मौजूदा समय में 68 सांसद हैं. ऐसे चुनौती भरे दौर में कांग्रेस की कमान प्रियंका गांधी को सौंपी गई है.

प्रियंका के सामने चुनौतियां

उत्तर प्रदेश में प्रियंका गांधी के लिए सबसे बड़ी चुनौती यहां के संगठन को फिर से खड़ा करने की होगी. अब जबकि लोकसभा चुनाव करीब हैं तो इतने कम समय में संगठन को नए तरीके से खड़ा करना आसान बिल्कुल नजर नहीं आ रहा है. इतना ही नहीं कांग्रेस के पास अपना कोई मजबूत वोट बैंक भी नहीं है. यही वजह रही कि सपा-बसपा ने कांग्रेस को अपने गठबंधन में शामिल नहीं किया.

पूर्वांचल बीजेपी का गढ़

देश की सत्ता का रास्ता यूपी से होकर जाता है, इसके लिए पूर्वी उत्तर प्रदेश को जीतना सबसे जरूरी माना जाता है. पूर्वी उत्तर प्रदेश विशेषकर पूर्वांचल में ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वाराणसी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की गोरखपुर जैसी अहम सीटें हैं. मौजूदा समय में पूर्वांचल बीजेपी का गढ़ बना हुआ है, ऐसे में पूर्वांचल की जिम्मेदारी प्रियंका गांधी को सौंपकर कांग्रेस ने एक बड़ा दांव चल दिया है. हालांकि प्रियंका के राजनीति में कदम रखने के साथ पार्टी कार्यकर्ताओं में जोश नजर आ रहा है.

2009 में पूर्वांचल की 18 सीटें कांग्रेस के नाम

प्रियंका गांधी को सूबे की 80 लोकसभा सीटों में से 42 सीटों की जिम्मेदारी सौंपी गई हैं और बाकी 38 सीटें ज्योतिरादित्य सिंधिया को दी गई हैं. प्रियंका के जिम्मे जो 42 सीटें हैं, 2009 के लोकसभा चुनाव में इनमें से 18 सीटें कांग्रेस जीतने में सफल रही थी. यही वजह है कि कांग्रेस को प्रियंका से उम्मीदें है. प्रियंका गांधी जिस तरह से चार दिन लखनऊ में रुक कर पार्टी संगठन और नेताओं से मुलाकात कर सियासी नब्ज टटोलने का काम करेंगी. इससे माना जा रहा है कि सूबे की सियासत को वे गंभीरता से ले रही हैं.

पूर्वांचल के इन जिलों पर नजर

पूर्वी उत्तर प्रदेश यानी पूर्वांचल में वाराणसी, गोरखपुर, भदोही, इलाहाबाद, मिर्जापुर, प्रतापगढ़, जौनपुर, गाजीपुर, बलिया, चंदौली, कुशीनगर, मऊ, आजमगढ़, देवरिया, महराजगंज, बस्ती, सोनभद्र, संत कबीरनगर और सिद्धार्थनगर जैसे जिले आते हैं. इस इलाके में ब्राह्मण मतदाता भी अच्छे खासे हैं, जो एक दौर में कांग्रेस का मूल वोटबैंक रहा है. ऐसे में माना जा रहा है कि प्रियंका के सहारे कांग्रेस इन्हीं वोटों को साधने की रणनीति पर काम कर रही है.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके facebook page पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

NEWS IN ENGLISH

Priyanka Gandhi’s first roadshow after becoming a general secretary, will Sanjeevani be able to give Congress in UP?

Prior to the Lok Sabha elections in 2019, Priyanka Gandhi and Jyotiraditya Scindia have been entrusted with the responsibility of instigating Congress in the Ventilator in Uttar Pradesh. Priyanka Gandhi and Jyotiraditya Scindia, along with Congress President Rahul Gandhi, are reaching Lucknow in the capital of the state on Monday to break the political pulse of the state and enthusiasm among the Congress leaders and workers, and they will work to build a political atmosphere through roadshows.

Priyanka Gandhi will make a road show in Lucknow, the capital of the state for the first time after assuming office as the General Secretary. According to Uttar Pradesh Congress President Raj Babbar, this will be the golden day of political history of Congress, but there is a question that Priyanka Gandhi will be able to give Sanjeevani to Congress, who is going through a bad phase in the state.

Priyanka Roadshow

From the Lucknow Amausi airport to the Congress office, the streets are seen in the reception of Priyanka Gandhi by the posters and banners. At 11 am, Lucknow airport turn will start a road show of Priyanka-Rahul and the state Congress will reach the office. Workers from nearby districts like Kanpur, Unnao, Sitapur, Lakhimpur, Faizabad, Sultanpur, Pratapgarh, Amethi, Rae Bareli, Barabanki, Faizabad are reaching for Priyanka and Rahul.

Congress’s crisp condition

In Uttar Pradesh, the Congress has 2 MPs and 6 MLAs and one MLC. Apart from this, the vote percentage of the party in the province is in single digit. People in the party do not know about anybody other than the name of the president in party organization. This can be judged from the poor condition of the party. At the same time, on the other hand, BJP dominates with the majority of 311 legislators on the power of the state and at present 68 MPs are in power. In such challenging times Congress’s command has been handed over to Priyanka Gandhi.

Priyanka Challenges

In Uttar Pradesh, Priyanka Gandhi’s biggest challenge will be to raise the organization here again. Now that the Lok Sabha elections are close, it is not easy to make the organization stand out in a new way in such a short time. Not only that, the Congress does not even have a strong vote bank. The reason for this was that the SP-BSP did not include the Congress in its coalition.

Purvanchal BJP’s stronghold

The path of the country’s power goes through UP, for this it is considered the most necessary to win eastern Uttar Pradesh. Eastern Uttar Pradesh, especially in the Purvanchal, are important seats like Prime Minister Narendra Modi’s Varanasi and Chief Minister Yogi Adityanath’s Gorakhpur. At present, Purvanchal has become a BJP stronghold, in such a way the Congress has made a big bid by handing Priyanchal’s responsibility to Priyanka Gandhi. Though party workers are enthusiastic in stepping in Priyanka’s politics.

Purvanchal’s 18 seats in Congress in 2009

Priyanka Gandhi has been given the responsibility of 42 of the 80 Lok Sabha seats in the province and the remaining 38 seats have been given to Jyotiraditya Scindia. The 42 seats which Priyanka has got, 18 of these seats were successful in winning the 2009 Lok Sabha elections. This is the reason why the Congress has expectations from Priyanka. The way Priyanka Gandhi will stay in Lucknow for four days and meet the party organization and leaders will work to break the political pulse. It is believed that they are taking the politics of the province seriously.

Look at these districts of Purvanchal

Districts such as Varanasi, Gorakhpur, Bhadohi, Allahabad, Mirzapur, Pratapgarh, Jaunpur, Ghazipur, Ballia, Chandauli, Kushinagar, Mau, Azamgarh, Deoria, Maharajganj, Basti, Sonbhadra, Sant Kabirnagar and Siddharthnagar come in eastern Uttar Pradesh ie Purvanchal. Brahmin voters are also good in this area, which has been the main vote bank of the Congress in a round. It is believed that with the support of Priyanka, the Congress is working on the strategy of applying these votes.

To get the latest updates, click on the link: facebook page Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!
WhatsApp chat
%d bloggers like this: