दीनदयाल उपाध्याय के ‘समर्पण दिवस’ पर बोले अमित शाह, ‘गरीबी हटाना और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद हमारा उद्देश्य

Advertisements

NEWS IN HINDI

दीनदयाल उपाध्याय के ‘समर्पण दिवस’ पर बोले अमित शाह, ‘गरीबी हटाना और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद हमारा उद्देश्य

दिल्ली। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने दिल्ली में पं. दीनदयाल उपाध्याय जी के बलिदान दिवस पर आयोजित ‘समर्पण दिवस’ कार्यक्रम में कहा कि ‘पार्टी का काम करते करते आज ही के दिन पंडित जी ने अपना बलिदान दिया था. भाजपा इस दिन को समर्पण दिवस के रूप में मनाती है. आज दीनदयाल जी का बलिदान दिन है. देश में आजादी के बाद बहुत सारे लोगों को ऐसा लगता था कि अगर लोकतंत्र को सफल बनाना है तो पश्चिमी विचारों से दूर अपने देश की विचार वाली एक पार्टी का निर्माण किया जाना चाहिए. ऐसे में दीनदयाल जी ने एक ऐसी पार्टी की परिकल्पना की, जिस पार्टी का आधार नेता न हों, बल्कि कार्यकर्ता और संगठन हों.’

भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष ने आगे कहा कि ‘दीनदयाल ने पार्टी का जो बीज बोया था, वो आज एक विशाल वट वृक्ष के रूप में सामने है. खुद को प्रसिद्धि से दूर रखकर संगठन के माध्यम से चुनाव कराने का जो मंत्र दीनदयाल ने दिया था, वो आज भी हमारे लिए प्रेरणास्रोत है. हमारे ध्येय को प्राप्त करने का साधन भाजपा का संगठन है. हम सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और गरीब कल्याण के ध्येय को लेकर आगे बढ़े हैं.’ उन्होंने आगे कहा कि ‘हम विचारधारा की स्वीकृति और संगठन की शक्ति के आधार पर चुनाव जीतने का विचार रखते हैं न कि ओछी राजनीति करके.’

उन्होंने आगे कहा कि ‘सांस्कृति राष्ट्रवाद और गरीबी को हटाना ये हमारे दो ध्येय है. ऐसे में अगर हमें पार्टी को शुद्ध रखना है तो बिल्डर उद्योगपतियों से दूर रहना होगा. पूरा चुनाव पार्टी कार्यकर्ताओं के पैसे से लड़ लिया जाए ऐसा संभव नही है. ये एक सार्वजनिक बहस का विषय है. मोदी जी ने काले धन पर नकेल कसी है कि कोई भी पार्टी 2000 रुपये कैश में न ले सके. सात राज्य ऐसे हैं जिन्होंने कार्यकर्ताओं के सहयोग से इतना पैसा इकट्टा कर लिया है कि सारे कार्यालय का खर्च निकल जाता है. इतना पैसा होना चाहिए कि कार्यालय का खर्चा फिक्स डिपाज़िट के ब्याज से निकल जाये. हमारा लक्ष्य है कि हर बूथ से कम से कम एक या दो कार्यकर्ता मोदी एप के माध्यम से 1000 रुपये पार्टी को अनुदान दे या चैक के माध्यम से दे. ‘

सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि ‘मैं मानता हूं कि न केवल बीजेपी बल्कि सभी राजनीतिक पार्टियों को इसका अनुसरण करने की जरूरत है. देश में आज भ्रष्टाचार के खिलाफ एक बहुत बड़ी लड़ाई चल रही है. ये नकेल कसने का जो अभियान चलाया है कानूनों को इतना कड़ा कर दिया है कि अगर वो कानून के चौराहे से निकल भी जाए तो वो बच नही सकता. जो विदेश भी चला गया उसको पकड़कर लाया जाएगा. लोग देश से इसलिए भाग रहे हैं क्योंकि उनको जेल में डाला जा रहा है. नीरव मोदी और माल्या को क्यों भागना पड़ा, क्योंकि चौकीदार सख्त है. पहले लोग नहीं भागते थे क्योंकि उनके भागीदार यहां मौजूद थे.’

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके facebook page पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

NEWS IN ENGLISH

Amit Shah, speaking on Deendayal Upadhyay’s’ Dedication Day ‘,’ Poverty Reduction and cultural objective of nationalism

Delhi. BJP national president Amit Shah said in the ‘Surrender Day’ program organized on the sacrifice day of Pandit Deendayal Upadhyay ji in Delhi, “Today, on the day of the party’s work, Panditji gave his sacrifice. BJP celebrates this day as a surrender day. Today is the day of Deen Dayal’s sacrifice. After independence in the country, a lot of people felt that if democracy was to succeed, then a party with its own idea of ​​a country away from Western thought should be built. In such a way, Deendayal ji conceived a party which is not the basis of the party, but workers and organizations.

The BJP National President further said that ‘Deendayal had sown the seeds of the party, he is in front of a huge tree today. By keeping away from fame, by giving the election through the organization, Deendayal gave it, it is still a source of inspiration for us. The means of achieving our mission is the BJP organization. We have progressed towards the goal of cultural nationalism and poor welfare. ” He further said, ‘We have the idea of ​​winning elections on the basis of the acceptance of ideology and the power of the organization, not by doing politics.’

He further said that ‘culture is our goal of removing nationalism and poverty. It is our two goals. In such a situation, if we have to keep the party pure, then we have to stay away from the builder industrialists. It is not possible for the entire election to be fought with party workers money. This is the subject of a public debate. Modiji has misappropriated black money so that no party can take Rs.2000 in cache. There are seven states, who have gathered so much money in collaboration with the workers that all the expenses of the office are expired. There should be so much money that the expense of the office expires from the interest of the fixed deposit. Our goal is that at least one or two workers from every booth, through Modi’s app, give 1000 rupees to the party or give it through check. ‘

Addressing the gathering, he said, “I believe that not only BJP but all political parties need to follow it. There is a big fight against corruption today in the country. The campaign that has been tackling this crap has tightened the laws so that if he leaves the crossroads of law he can not escape. The person who went abroad also will be brought and captured. People are running away from the country because they are being put in jail. Why did Neerav Modi and Mallya have to run, because the janitor is strict. The first people did not run because their partners were present here. ‘

To get the latest updates, click on the link: facebook page Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: Content is protected !!
WhatsApp chat
%d bloggers like this: