नीति आयोग बना रहा है निजीकरण के लिए इन कंपनियों की नई सूची

Advertisements

NEWS IN HINDI

नीति आयोग बना रहा है निजीकरण के लिए इन कंपनियों की नई सूची

नई दिल्ली। नीति आयोग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सी.ई.ओ.) अमिताभ कांत ने कहा कि खस्ताहाल सरकारी कंपनियों की एक और सूची तैयार की जा रही है जिनका निजीकरण किया जा सकता है।

प्रधानमंत्री कार्यालय ने नीति आयोग से खस्ताहाल सरकारी कंपनियों की व्यावहारिकता परखने को कहा था। आयोग पहले ही 40 खस्ताहाल सार्वजनिक कंपनियों में रणनीतिक विनिवेश की सलाह केंद्र को दे चुका है। उन्होंने कहा, ‘‘हम खस्ताहाल कंपनियों की 4 सूचियां पहले ही भेज चुके हैं। हम 5वीं सूची पर काम कर रहे हैं। हम छठी और सातवीं सूची भी तैयार करेंगे।’’

भारत में तेजी से उभर रही हैं महिला उद्यमी
भारत में सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्रों में महिला उद्यमी काफी तेजी से बढ़ रही हैं। नीति आयोग के एक शीर्ष सदस्य ने कल यहां यह बात कही। आयोग की सदस्या अन्ना रॉय ने फिक्की द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि महिला उद्यमी सार्वजनिक एवं निजी दोनों क्षेत्रों में तेजी से आगे आ रही हैं। उन्होंने कहा, ‘‘जिन चीजों की जरूरत है वे हैं जागरूकता लाना, मौजूदा मुहिमों में पारदर्शिता लाना, सांझेदार संपर्क स्थापित करना तथा इन प्रयासों को सुदृढ़ कर उनका फायदा उठाना।’’

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करकेhttps://www.facebook.com/samacharokiduniya/ पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये।

 

NEWS IN ENGLISH

Policy commission is making new list of these companies for privatization

new Delhi. Chief Executive Officer (CEO) of the Policy Commission, Amitabh Kant said that another list of bad government companies is being prepared which can be privatized.

The Prime Minister’s Office had asked the Policy Commission to test the practicality of the downtrodden government companies. The commission has already given strategic disinvestment advice to 40 centers in 40 dismal public companies. He said, “We have already sent 4 lists of the companies that have failed. We are working on the 5th list. We will also prepare the sixth and seventh list. “

Women entrepreneurs are growing rapidly in India
Women entrepreneurs are growing rapidly in public and private sectors in India. A top member of the Policy Commission said this here yesterday. In a program organized by FICCI member Anna Roy, the woman entrepreneurs said that women entrepreneurs are coming forward fast in both public and private sectors. He said, “The things that are needed are awareness, bring transparency in existing campaigns, establish partnership contacts and strengthen these efforts and take advantage of them.”

 

To get the latest updates, click on the link: https://www.facebook.com/samacharokiduniya/Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK

Advertisements

 

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.