-15 डिग्री तापमान, बर्फ का पहाड़ और 5 जवानों की जिंदगी के लिए जंग जारी

Advertisements

NEWS IN HINDI

-15 डिग्री तापमान, बर्फ का पहाड़ और 5 जवानों की जिंदगी के लिए जंग जारी

हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले में हिमस्खलन होने के कारण सेना के कई जवान फंस गए हैं. बुधवार को हुए इस हादसे में कुल फंसे 6 जवानों में से एक जवान शहीद हो गया. जबकि बाकी फंसे 5 जवान अभी भी मौत से जंग लड़ रहे हैं जिन्हें निकालने के लिए गुरुवार को एक बार फिर रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जाएगा. ये सभी जवान भारत-चीन सीमा पर तैनात थे.

गुरुवार को एक बार फिर रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जाएगा. हालांकि, ये इतना आसान भी नहीं है क्योंकि इस समय किन्नौर जिले का तापमान -15 डिग्री पहुंच गया है. जबकि, लगातार हो रही बर्फबारी से वहां कई इंच तक बर्फ जमा हो गई है.

जिसकी वजह से रेस्क्यू ऑपरेशन में मशक्कत करनी पड़ रही है. रेस्क्यू ऑपरेशन में सेना, ITBP और BRO की मशीनें लगी हुई हैं, कुल 250 जवान इन जवानों को निकालने में मदद कर रहे हैं.
जवान रमेश कुमार हुए शहीद

बुधवार को हादसे के बाद किन्नौर के उपायुक्त गोपालचंद ने बताया कि एक जवान का शव बरामद हुआ है जबकि पांच अन्य का अब तक पता नहीं चला है. जिस जवान का शव मिला है, उसकी पहचान हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर जिले के घुमारपुर गांव के रमेश कुमार (41) के रूप में हुई है. वह सेना की जम्मू कश्मीर राइफल्स में थे.

कुल 16 जवान थे मौजूद

यहां ग्लेशियर गिरने के कारण शिपकाला में देर रात हिमस्खलन आया, जिस वजह से जवान फंस गए. सेना के अधिकारी के मुताबिक, भारत तिब्बत सीमा पुलिस के कई जवान भी हिमस्खलन में फंस गये थे. उन्हें सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया.

सेना के सूत्रों के अनुसार, 16 जवान एक क्षतिग्रस्त जलापूर्ति लाईन की मरम्मत के लिए नामागया से शिपकाला सीमा चौकी की ओर गए थे, उसी बीच हिमस्खलन हुआ एवं उनमें से छह उसमें दब गए थे.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके facebook page पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

NEWS IN ENGLISH

Continuation of war for life of 15 degree temperature, snow mountain and 5 jawans

Many army personnel have been trapped due to Avalanche in Kinnaur district of Himachal Pradesh. One of the six jawans trapped in the tragedy took place on Wednesday. While five others still stranded are still fighting with death, to remove the rescue operation on Thursday once again to remove them. All these soldiers were stationed on the Indo-China border.

Rescue operations will be run once again on Thursday. However, this is not so easy as the temperature of Kinnaur district has reached -15 degrees at this time. Whereas, with continuous snowfall, the snow has accumulated up to several inches.

Due to which the rescue operation has to be difficult. Army, ITBP and BRO machines are engaged in the rescue operation, a total of 250 jawans are helping to remove these jawans.
Jawan ramesh kumar hu martyr

After the accident on Wednesday, Kinnaur Deputy Commissioner Gopal Chand said that the body of a young man has been recovered, while five others have not yet been found. The body of a young man found is in the form of Ramesh Kumar (41) of Ghumarpur village in Bilaspur district of Himachal Pradesh. He was in the Army’s Jammu Kashmir Rifles.

There were 16 young people present

Due to the fall of the glacier, the avalanche came late at Shipkala late night due to which the soldiers were trapped. According to the army officer, many jawans of the Indian Tibetan Border Police were also trapped in avalanches. They were safely taken out.

According to army sources, 16 jawans had gone from Naumagaya to Shipakara border post in order to repair a damaged water supply, in the meanwhile, avalanches occurred and six of them were buried under it.

To get the latest updates, click on the link: facebook page Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error:
WhatsApp chat
%d bloggers like this: