दबाव में इमरान खान, मसूद अजहर को UNSC में ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने का नहीं करेगा विरोध

Advertisements

News in Hindi 

दबाव में इमरान खान, मसूद अजहर को UNSC में ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करने का नहीं करेगा विरोध

पाकिस्तान के खिलाफ भारत द्वारा बनाया जा रहा चौतरफा दबाव काम आया है. भारत के साथ तनाव कम करने के लिए इमरान खान जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मौलाना मसूद अजहर पर एक्शन लेने को तैयार हो गए है. रिपोर्ट के मुताबिक अगर भारत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) में मौलाना मसूद अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित करवाने के लिए कदम उठाता है तो पाकिस्तान इसका विरोध नहीं करेगा.

‘‘सरकार ने सैद्धांतिक रूप से जेईएम (मौलाना मसूद अजहर) के नेतृत्व पर कार्रवाई करने का निर्णय किया है.’’उन्होंने बताया कि जेईएम के खिलाफ देश में कार्रवाई ‘‘जल्द ही किसी भी समय’’ हो सकती है.

सूत्रों के मुताबिक भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव कम करने के लिए इमरान खान सरकार ने JeM के खिलाफ अहम एक्शन ले सकता है. पाकिस्तान के अगले कदम और आतंकी मसूद अजहर के भविष्य पर एक विश्वसनीय सू्त्र ने बताया कि अभी वह यह नहीं कह सकते हैं कि उसे घर में नजरबंद किया जाएगा या हिरासत में लिया जाएगा.

पाकिस्तान द्वारा इंडियन पायलट विंग कमांडर अभिनंदन को वापस भेजने के बाद तनाव कम करने की कोशिश में इमरान खान सरकार का ये अहम फैसला है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एक सुरक्षा अधिकारी ने संकेत दिया कि पाकिस्तान जैश चीफ को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा वैश्विक आतंकी घोषित कराने के प्रस्ताव पर अपने विरोध को वापस ले सकता है.

पाकिस्तान के अखबार एक्सप्रेस ट्रिब्यून के मुताबिक जब अधिकारी से पूछा गया कि क्या पाकिस्तान अब जैश सरगना के खिलाफ सुरक्षा परिषद की कार्रवाई का और विरोध नहीं करेगा तो उन्होंने कहा, ‘‘देश को फैसला लेना होगा कि व्यक्ति महत्वपूर्ण है या देश का व्यापक राष्ट्रीय हित अहम है.’’

बता दें कि अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने 27 फरवरी को को पाकिस्तान में ठिकाना बना कर भारत के खिलाफ आतंकी गतिविधियां चलाने वाले मसूद अजहर को UNSC में वैश्विक आतंकी घोषित करने के लिए नए सिरे से प्रस्ताव रखा था. UNSC के पांच स्थायी सदस्यों में से अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित कराने के पक्ष में हैं, हालांकि चीन का इस मामले में अबतक रवैया साफ नहीं है. पहले भी चीन मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित कराने के भारत के प्रयासों का विरोध कर चुका है. अगर मसूद अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट कर दिया जाता है तो दुनिया में कहीं भी उसकी यात्रा पर प्रतिबंध लग जाएगा और उसकी संपत्तियां फ्रीज हो जाएंगी.

बता दें कि अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित कराने के लिए पिछले 10 साल में संयुक्त राष्ट्र में इस तरह का यह चौथा प्रयास है. भारत ने 2009 में जैश सरगना को अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करने के लिए प्रस्ताव रखा था.

इस बावत पाकिस्तान के सूचना मंत्री फवाद चौधरी से जब बात की गई तो उन्होंने कहा, “सरकार ने पहले भी जेईएम समेत प्रतिबंधित संगठनों के खिलाफ कार्रवाई की है और उनके खिलाफ भविष्य में कोई भी कार्रवाई राष्ट्रीय कार्य योजना और वित्तीय कार्रवाई कार्य बल के संबंध में हमारी प्रतिबद्धताओं के अनुसार की जाएगी.”

जब उनसे आगे यह पूछा गया कि क्या पाकिस्तान की सरकार जल्द जैश के खिलाफ कोई बड़ी कार्रवाई करने वाली है, तो अपने जवाब में उन्होंने इसके खारिज नहीं किया. उन्होंने कहा, “प्रतिबंधित संगठनों के खिलाफ कोई भी कार्रवाई नेशनल एक्शन प्लान के मुताबिक की जाएगी.” फवाद चौधरी ने कहा कि इसी सिलसिले में बहावलपुर में एक मदरसे और मस्जिद को अपने कंट्रोल में ले लिया है.+

News in English

Imran Khan, Masood Azhar against the pressure will not be declared as Global Terrorist in UNSC

All-round pressure being made by India against Pakistan has come under control. To ease the tension with India, Imran Khan has agreed to take action on the donor of Jaish-e-Mohammed Maulana Masood Azhar. According to the report, if India takes steps to declare Maulana Masood Azhar in the United Nations Security Council (UNSC) as a Global Terrorist, then Pakistan will not oppose it.

“The government has theoretically decided to act on the leadership of JEM (Maulana Masood Azhar)”. He said that action against the JEM in the country can be “any time soon”.

According to sources, to ease the tension between India and Pakistan, the Imran Khan government can take important action against JeM. A reliable source on the future of Pakistan and the future of terrorist Masood Azhar informed that he can not say that he will now be detained in the house or detained in custody.

Imran Khan is the key decision of the government in trying to ease the tension after sending back the Indian Pilot Wing Commander congratulations by Pakistan. According to the media report, a security official indicated that Pakistan could withdraw its opposition to the proposal by the United Nations Security Council to declare a global terrorist.

According to Pakistan’s newspaper Express Tribune, when the officer was asked whether Pakistan will not protest the action of the Security Council against the Jairgunge, then he said, “The country will have to decide whether the person is important or the country’s wider national interest It is important. “

Explain that the US, Britain and France had made a fresh proposal to declare Masood Azhar, who had made terrorist activities against India on February 27, declaring to be a global terrorist in the UNSC, in the UNSC. Of the five permanent members of the UNSC, the United States, Britain and France are in favor of declaring Masood Azhar as a global terrorist, though China’s attitude is not clear in this case yet. Earlier, China has also opposed India’s efforts to declare Masood Azhar as a global terrorist. If Masood Azhar is given global terrorism, his journey anywhere in the world will be banned and his properties will be freeze.

In the last 10 years, this is the fourth such attempt in the United Nations to declare Azhar as a global terrorist. India had proposed to declare jaish gangster as an international terrorist in 2009.

When talked to Pakistan’s Information Minister Fawad Chaudhary, he said, “The government has already taken action against the banned organizations including the JEM and any action in the future against them regarding the National Action Plan and the Financial Action Task Force Will be done according to our commitments. “

When it was asked further to him whether the Government of Pakistan will soon take any major action against Jaish, then in his reply they did not dismiss it. He said, “Any action against the banned organizations will be done according to the National Action Plan.” Favad Chaudhary said that in this connection, a madrasa and mosque in Bahawalpur have been taken in their control.

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error:
WhatsApp chat
%d bloggers like this: