आमला उत्कृष्ट विद्यालय के 22 शिक्षक बैतुल से रोजाना करते है अपडाउन

Advertisements

आमला उत्कृष्ट विद्यालय के 22 शिक्षक बैतुल से रोजाना करते है अपडाउन

कुल शिक्षक शिक्षिकाएं 35, छात्र छत्राओ की दर्ज सख्या 1100

जीटी के सहारे स्टाप अपडाउनर 22, परीक्षा के समय भी चल रहा अपडाउन


आमला, (दिलीप पाल)। कहते हैं कि माता पिता के पास गुरु को ही महत्व दी जाती है क्योंकि गुरु ही एक ऐसा माध्यम है जिससे शिक्षा दीक्षा के साथ साथ संस्कार भी ग्रहण करने को मिलते हैं अगर गुरुजी अपने कर्तव्य का निर्वहन नहीं कर पा रहे हैं तो ऐसे में अध्ययनरत छात्र छात्राएं कैसे अपने परीक्षा फल में अच्छे प्रतिशत ला पाएंगे क्योंकि आमला नगर के एकमात्र उत्कृष्ट विद्यालय में कुल 35 शिक्षक शिक्षिकाएं पदस्थ है। जिसमें से अधिकतर शिक्षक शिक्षिकाएं बैतूल से रोजाना अप डाउन करते हैं इस वजह से विद्यालय का परीक्षा फल गिरता जा रहा है इस ओर शिक्षा विभाग का भी कोई ध्यान नहीं है बताया जाता है कि उत्कृष्ट विद्यालय के अधिकतर शिक्षक बैतुल से अपडाउन करते है ट्रेन से अप डाउन करने की वजह से स्टाफ अपने समय अवधि के अंदर स्कूल नहीं पहुंच पाता है जिससे कि छात्र-छात्राओं की शिक्षा समय पर चालू नहीं हो पाती और तो और यहां का स्टॉप वापसी भी गोंडवाना एक्सप्रेस से रवानगी लेते हैं यहां अप डाउन की स्थिति को देखते हुए छात्र-छात्राएं भी स्कूल कम आती है, क्योंकि समय पर ना पहुंच पाने की वजह से छात्र कक्षा में बैठकर टाइमपास करने लगते हैं। शिक्षक शिक्षिकाएं समय पर नहीं पहुंचने के कारण छात्र-छात्राओं को कोचिंग या ट्यूशन का सहारा लेना पड़ रहा है। ऐसे में पलकों पर आर्थिक बोझ बढ़ रहा है और तो और बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है इसकी वजह से विद्यालय का परीक्षा फल पूरी तरह से गिरते जा रहा है। अधिकतर छात्र-छात्राएं निम्न वर्ग होने के वजह से शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय में प्रवेश लेते हैं लेकिन समय पर शिक्षक शिक्षिकाएं उपलब्ध नहीं होने के कारण उनका कोर्स समय अवधि के भीतर पूर्ण नहीं हो पाता है जिसकी वजह से वहां कोचिंग लगा कर तगड़ी फीस देकर कोर्स को पूरा करते हैं बताया जाता है कि प्राइवेट कोचिंग संस्थान में एक सब्जेक्ट का कोर्स पूर्ण करने पर ₹7000 लिए जाते हैं। ऐसे अधिकतर छात्र जिनका फिजिक्स केमेस्ट्री मैथ्स बायोलॉजी विषय है वहां कोचिंग लगाने पर मजबूर है जिसका बोझ पालको पर पड़ जाता है शासकीय विद्यालय में अध्ययन करने का छात्र-छात्राओं को कोई लाभ नहीं मिल पा रहा है विगत 3 या 4 वर्षों का दसवीं और बारहवीं कक्षा का उत्कृष्ट विद्यालय आमला का परीक्षाफल देखा जाए तो पहले की तुलना में पूरा गिर गया है। इस विषय में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के पूर्व जिला संयोजक निलेश राठौर ने बताया कि उत्कृष्ट विद्यालय में पढ़ाई का स्तर पूरी तरह से गिर चुका है इसका प्रमुख कारण यह है कि प्राचार्य सहित अधिकतर स्टॉप ट्रेन से बैतूल अप डाउन करता है। अगर विद्यालय का परिणाम वह समय पर कोर्स पूरा नहीं किया गया तो शिक्षा मंत्री का पुतला फूंक कर विरोध जताया जाएगा निलेश राठौर ने जिला कलेक्टर से मांग की है कि अप डाउन प्रथा को पूरी तरह से बंद किया जाए एवं स्थायी प्राचार्य की जल्द से जल्द उत्कृष्ट विद्यालय में नियुक्ति की जाए इनके निवास का मुख्यालय आमला की जाए।


प्राचार्य भी करते है बैतुल से अपडाउन


नगर के उत्कृष्ट विद्यालय के प्राचार्य भी बैतुल से अपडाउन करते है इस वजह से अन्य शिक्षक शिक्षिकाएं बी बैतूल से आना जाना करते हैं क्योंकि विद्यालय के प्रमुख प्राचार्य बी रोजाना बैतूल से ही आमला पहुंचते हैं प्राचार्य का भी आने जाने का कोई समय निश्चित नहीं है बताया जाता है कि प्राचार्य अधिकतर बैतूल में ही रहते हैं इस वजह से विद्यालय का परीक्षा फल आए दिन जीते ही जा रहा है छात्र संघ के छोटेलाल बामने ने बताया कि उत्कृष्ट विद्यालय अब नाम का रहे गया है पढ़ाई के नाम पर बच्चो को कोचिंग का सहारा लेना पड़ रहा है क्योंकि विद्यालय में पढ़ाई होती ही नही है । क्योंकि विद्यालय के स्टाप के आने जाने का कोई समय निश्चित नही है।

इनका कहना है
उत्कृष्ट विद्यालय का स्टाप अपडाउन करने की शिकायत मिली है जल्द ही अपडाउन करने वाले लोगो पर कार्यवाही की जाएगी प्राचार्य की नियुक्ति को लेकर शासन को पत्र भेजा गया है।
लखनलाल सुरनिया, जिला शिक्षा अधिकारी, बैतुल

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error:
WhatsApp chat
%d bloggers like this: