370 को खत्म किया गया तो भारत का जम्मू-कश्मीर से रिश्ता भी खत्म हो जाएगा: महबूबा

Advertisements

NEWS IN HINDI

370 को खत्म किया गया तो भारत का जम्मू-कश्मीर से रिश्ता भी खत्म हो जाएगा: महबूबा

जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने अनुच्छेद 370 को लेकर बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि अगर अनुच्छेद 370 को खत्म किया गया तो जम्मू कश्मीर से भारत का रिश्ता खत्म हो जाएगा. बता दें कि अनुच्छेद 370 जम्मू-कश्मीर राज्य को विशेष दर्जा प्रदान करता है.

पीडीपी प्रमुख ने आगे कहा कि अगर अनुच्छेद 370 को खत्म किया जाता है तो मुस्लिम बहुल राज्य भारत का हिस्सा बनना पसंद नहीं करेगा. उन्होंने कहा कि यदि आप उस पुल (अनुच्छेद 370) को तोड़ते हैं … तो आपको भारत-जम्मू और कश्मीर के बीच संबंधों को फिर से संगठित करना होगा, जिसमें कई शर्तें होंगी. क्या मुस्लिम बहुल राज्य, आपके साथ रहना चाहेगा? अगर आप अनुच्छेद 370 को खत्म करते हैं तो जम्मू कश्मीर से आपका रिश्ता खत्म हो जाएगा.

बता दें कि महबूबा मुफ्ती समय-समय पर संविधान के अनुच्छेद 35ए के साथ अनुच्छेद 370 के मुद्दे पर बयान देती रहती हैं. हाल ही में पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा था कि अनुच्छेद 35ए पर हमला किया गया तो उन्हें नहीं पता कि कश्मीर के लोग तिरंगे के बजाय कौन सा झंडा उठा लेंगे.
महबूबा मुफ्ती ने कहा कि आग से मत खेलें, 35ए का बाजा न बजाएं. अगर ऐसा हुआ तो आप वो देखेंगे जो 1947 से अब तक नहीं हुआ है. अगर इस पर हमला किया जाता है तो मैं नहीं जानती कि जम्मू कश्मीर के लोग तिरंगे की जगह कौन सा झंडा पकड़ने को मजबूर हो जाएंगे.

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 35ए की वैधानिक मान्यता को चुनौती देने वाली कई याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है. लेकिन 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद बाद एक बार फिर अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35ए को हटाने की मांग ने जोर पकड़ा. हालांकि जम्मू-कश्मीर प्रशासन साफ कर चुका है कि अनुच्छेद 35ए पर सिर्फ चुनी हुई सरकार ही फैसला ले सकती है.

क्‍या है अनुच्‍छेद-370

1. संविधान का अनुच्छेद 370 अस्‍थायी प्रबंध के जरिए जम्मू और कश्मीर को एक विशेष स्वायत्ता वाले राज्य का दर्जा देता है.

2. संविधान के अनुच्छेद 370 के प्रावधानों के अनुसार संसद को जम्मू-कश्मीर के बारे में रक्षा, विदेश मामले और संचार के विषय में कानून बनाने का अधिकार है. लेकिन अन्य विषय से संबंधित कानून को लागू कराने के लिए केंद्र को राज्य का अनुमोदन चाहिए.

3. इसी विशेष दर्जे के कारण जम्मू-कश्मीर पर संविधान का अनुच्छेद 356 लागू नहीं होता. राष्ट्रपति के पास राज्य के संविधान को बर्खास्त करने का अधिकार नहीं है.

4. भारत के दूसरे राज्यों के लोग जम्मू-कश्मीर में जमीन नहीं खरीद सकते हैं. यहां के नागरिकों के पास दोहरी नागरिकता होती है. एक नागरिकता जम्मू-कश्मीर की और दूसरी भारत की होती है.

5. यहां दूसरे राज्य के नागरिक सरकारी नौकरी नहीं कर सकते.

6. भारतीय संविधान के अनुच्छेद 360 जिसमें देश में वित्तीय आपातकाल लगाने का प्रावधान है, वह भी जम्मू-कश्मीर पर लागू नहीं होता.

7. अनुच्छेद 370 की वजह से ही जम्मू-कश्मीर का अपना अलग झंडा और प्रतीक चिन्ह भी है.

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके facebook page पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये। वीडियो न्यूज़ देखने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करे। Youtube

NEWS IN ENGLISH

India’s relations with Jammu and Kashmir will end if 370 is over: Mehbooba

Former Jammu and Kashmir Chief Minister and PDP chief Mehbooba Mufti has given a big statement about Article 370. He said that if Article 370 was eliminated then India’s relationship with Jammu and Kashmir would be over. Explain that Article 370 provides special status to the state of Jammu and Kashmir.

The PDP chief further said that if Article 370 is eliminated then the Muslim majority state would not like to be part of India. He said that if you break that bridge (Article 370) … then you have to reconstruct the relations between Indo-Jammu and Kashmir, which will have many conditions. Would a Muslim-dominated state, want to be with you? If you end Article 370, your relationship with Jammu Kashmir will be over.

Please tell Mehbooba Mufti from time to time, keeping the statement on Article 370 with Article 370 of the Constitution. Recently, the former Chief Minister had said that Article 35A was attacked when he did not know what Kashmiris would pick up the flag instead of the Tricolor.
Mehbooba Mufti said that do not play with fire, do not play the ball of 35A. If that happens then you will see that which has not happened since 1947. If this is attacked, then I do not know which people of Jammu and Kashmir will be forced to capture the flag instead of the Tricolor.

It is worth noting that the hearing is going on in the Supreme Court on several petitions challenging the statutory validity of Article 35A in Jammu and Kashmir. But after the attack on Pulwama on February 14, the demand for the removal of Article 370 and Article 35 A once again took hold. Although the Jammu and Kashmir administration has clarified that only elected government can take the decision on Article 35A.

What is paragraph -370

1. Article 370 of the Constitution gives Jammu and Kashmir status to a special autonomous state through temporary arrangement.

2. According to the provisions of Article 370 of the Constitution, Parliament has the right to make laws concerning Jammu, Kashmir, about matters related to defense, foreign affairs and communication. But to implement the law related to the other subject, the center needs state approval.

3. Article 356 of the Constitution on J & K due to this special status does not apply. The President does not have the right to sack the state’s constitution.

4. People from other states of India can not purchase land in Jammu and Kashmir. The citizens here have dual citizenship. A citizen is of Jammu and Kashmir and the other is from India.

5. The citizens of another state can not do government jobs here.

6. Article 360 ​​of the Indian Constitution, which provides for imposing financial emergency in the country also does not apply to Jammu and Kashmir.

7. J & K has its own flag and symbol of itself because of Article 370.

To get the latest updates, click on the link: facebook page Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK Subscribe to our YouTube channel to see the video news. Youtube

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error:
WhatsApp chat
%d bloggers like this: