विद्यार्थियों की सफलता के लिए वरदान है, गायत्री मंत्र

Advertisements

विद्यार्थियों की सफलता के लिए वरदान है, गायत्री मंत्र


सारनी, (ब्यूरो)। स्थानीय गायत्री प्रज्ञापीठ में देवालय प्रबंधन समिति तथा गायत्री परिवार सारनी के सभी सहयोगी कार्यकर्ता भाई-बहिनो के द्वारा सामूहिक गायत्री मंत्र अनुष्ठान एवं नियमित यज्ञ का क्रम जारी है। गायत्री मंत्र के सम्बन्ध में जानकारी देते हुए देवालय प्रबंध समिति समन्वयक प्रमिला पांसे ने बताया कि गायत्री मंत्र ऐसा मंत्र है, इसकी विधिपूर्वक उपासना साधना एवं आराधना से सभी की भौतिक एवं आध्यात्मिक उन्नति होती है। यह भयनाशक है, तथा सभी को सुसंस्कारी बनाता हैं। विद्यार्थियों के लिए तो यह किसी वरदान से कम नही है, क्योकि इसकी सहायता से उनमें एकाग्रता व बुध्दि का विकास ही नही बल्कि बुद्धि को तीव्र करने के साथ-साथ इसके माध्यम से बच्चे स्वयं ही मन लगाकर पढ़ने लगते है। अतः पढ़ाई में विशेष सफलता पाने के इच्छुक विद्यार्थियों को तो अवश्य ही इसका नियमित जप करना चाहिए। महामना पंडित मदनमोहन मालवीय जी में भी इस महामंत्र की महत्ता को ध्यान में रखते हुए काशी हिन्दू विश्वविद्यालय की स्थापना के समय प्रयाग में त्रिवेणी तट पर एक करोड़ गायत्री मंत्र का बड़ा पुरश्चरण कराया था। अनेक ऋषियों एवं महापुरुषों ने गायत्री महामंत्र का आश्रय लेकर अपने जीवन को महान बनाया।

Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error:
WhatsApp chat
%d bloggers like this: