लू से बचाव के लिए विशेष सावधानी बरतें

Advertisements
लू से बचाव के लिए विशेष सावधानी बरतें

बैतूल, (ब्यूरो)। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जी.सी. चौरसिया ने बताया कि लू या तापघात सभी उम्र के लोगों को होने की आशंका रहती है, लू जानलेवा भी हो सकता है, अत: लू से बचाव के लिये विशेष सावधानी बरतना चाहिये। इसमें शिशु व बच्चे 65 वर्ष से अधिक आयु के महिला पुरूषों घर के बाहर काम करने वाले मानसिक रोगियों, उच्च रक्तचाप वाले मरीजों का विशेष ध्यान रखने की जरूरत होती है। 


लू से बचने के उपाय


डॉ. चौरसिया ने बताया कि लू से बचने के उपाय करना अत्यंत आवश्यक हैं, जिनमें धूप से बचें, घर के अंदर हवादार ठंडे स्थान पर रहें, धूप में जाने से पहले सिर को छाते, कपड़े या टोपी से ढक़ें, हल्के रंग के ढीले व पतले वस्त्रों को इस्तेमाल में लायें, कूलर व ए.सी. से निकलकर एकदम बाहर न जायें, खाली पेट बाहर जाने से परहेज करें, भोजन करके व पानी पीकर ही बाहर निकले, अधिक से अधिक पेय पदार्थ जैसे- नींबू पानी, लस्सी, छाछ, जलजीरा, आम का पना, दही, नारियल, इत्यादि का सेवन करें। एल्कोहल युक्त नशीले पेय पदार्थों के सेवन से बचें, सीधी धूप से बचें, जूते चप्पल तथा नजर के काले चश्मे का प्रयोग करें, फल तथा सब्जी जिसमें पानी की मात्रा अधिक होती है का सेवन करें, जैसे- तरबूज, खरबूज, खीरा, संतरा, अंगूर आदि। उन्होंने बताया कि बंद गाड़ी के अंदर का तापमान बाहर से अधिक होता है, अत: कभी भी किसी को बंद एवं पार्किंग में रखी गाड़ी में बच्चों या बुजुर्गों को अकेला न छोड़ें, अत्यधिक शारीरिक श्रम वाली गतिविधियां दिन के अधिकतम तापमान वाले घंटों में न करें एवं बहुत अधिक भीड़, गर्म घुटन वाले कमरों, रेल, बस आदि की यात्रा गर्मी के मौसम में अत्यावश्यक होने पर ही करें। लू से पीडि़त व्यक्ति का तुरंत प्राथमिक उपचार करें, शरीर का तापमान कम करने के लिये ठंड़े पानी से स्नान करायें, शरीर पर ठंडे पानी की पट्ट्यिां रखें, आरंभिक उपचार से यदि मरीज ठीक नहीं होता है तो उसे तत्काल निकट के शासकीय चिकित्सालय में ले जाकर नि:शुल्क उपचार करवाएं।
Advertisements

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error:
WhatsApp chat
%d bloggers like this: