कोयला श्रमिक यूनियनो ने श्रम विरोधी नीतियों के विरोध में कोल सेकेट्ररी के नाम मुख्य महाप्रबंधक को सौपा ज्ञापन

Advertisements

श्रम विरोधीनीतियों का किया विरोध

Advertisements

सारनी, (शंकर साहू)। कोल इंडिया एव इसकी अनुषंगी कंपनियों के विनिदेश विघटन एवं इसके विभिन्न संस्थानो के बंद करने के खिलाफ विरोध प्रदर्शन भारत सरकार कोल इंडिया के शेयर बेचने के लिए आमदा है जिसका तीव्र विरोध करते है। क्योंकि भारत सरकार का यह कदम मजदूर विरोधी जनविरोधी एवं देश विरोधी है, कोयला कंपनी को अलग अलग करने एवं सीएमपीडीआई को कोल इंडिया से अलग करने से कोयले का उत्पादन घटेगा एवं देश के कोयला उद्योग पर देशी विदेशी पूंजीपतियो का कब्जा हो जाएगा। सरकार के इस कदम का विरोध करते है हम सीआईएल की अनुषंगी कंपनीयो मे विभिन्न संस्थानो को बंद करने का एक तरफा फैसले का विरोध करते है।

हम भारत सरकार से कोल इंडिया विनिवेश एवं कोल इंडिया का विघटन करने के निर्णय को वापस लेने का एवं कोल इंडिया की सभी कंपनीयो को मिला कर एक कंपनी बनाने की मांग एटक यूनियन एचएमएस सीटू करती है।

Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.