खुशियों की दास्तां – हृदय रोग से पीडि़त हिमांशु की हुई नि:शुल्क सर्जरी राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम से घर में वापस लौटीं खुशियां

Advertisements

खुशियों की दास्तां – हृदय रोग से पीडि़त हिमांशु की हुई नि:शुल्क सर्जरी राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम से घर में वापस लौटीं खुशियां

बैतूल। जिले के विकासखण्ड भैंसदेही के ग्राम सीताढाना (धामनगांव) निवासी 5 वर्षीय हिमंाशु मर्सकोले अक्सर बीमार रहता था। लम्बे समय तक बीमार रहने के कारण हिमांशु के माता-पिता अत्यंत चिंतित रहने लगे थे। हिमांशु छोटे बच्चों के साथ खेलने का आनंद नहीं उठा पाता था। हिमांशु के एक भाई एवं दो बहनें हैं जिसमें हिमांशु सबसे छोटा है। जिसके कारण हिमांशु के माता-पिता बीमारी के उपचार के लिए किसी बड़े अस्पताल में दिखाने का प्रयास नहीं कर पाये। इस दौरान सीताढाना धामनगांव में राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य की टीम द्वारा हिमांशु का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया। परीक्षण के बाद हिमांशु के परिजनों को हृदय रोग की सम्भावना की जानकारी दी गई। मप्र शासन द्वारा इंदौर में आयोजित राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम हृदय रोग जांच शिविर में इको जांच कराने हेतु सलाह दी गयी। राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम टीम द्वारा 21 सितंबर 2019 को सत्य सांई विद्यालय इंदौर में ले जाकर हिमांशु की इको जांच करवायी गई।

सत्य सांई विद्यालय इंदौर में इको जांच कराने के बाद हिमांशु की रिपोर्ट सकारात्मक दर्ज की गई तथा हृदय रोग की पुष्टि हुई। शासन द्वारा प्रकरण स्वीकृत कर हिमांशु को हृदय के ऑपरेशन हेतु 03 अक्टूबर 2019 को सत्य सांई अस्पताल अहमदाबाद (गुजरात) में भर्ती कराया गया। दूरबीन पद्धति से 03 अक्टूबर 2019 को हिमांशु के हृदय का सफलतापूर्वक ऑपरेशन किया गया। हृदय के ऑपरेशन के पश्चात् हिमांशु अब स्वस्थ है और अपने दोस्तों के साथ मजे से खेलता है।

मर्सकोले दंम्पत्ति ने चर्चा में बताया कि आरबीएसके टीम एवं खण्ड चिकित्सा अधिकारी के प्रयास से हमारे आंगन में खुशियां वापस आई हैं। हिमांशु के परिजन शासन की राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के अंतर्गत बाल हृदय उपचार योजना का आभार व्यक्त करते हैं।

Advertisements

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.