31 Jan 2020

राष्ट्रपति के अभिभाषण के दौरान विपक्षी सांसदों ने पहनी काली पट्टी, जाने राष्ट्रपति के भाषण की बड़ी बातें

Advertisements

राष्ट्रपति के अभिभाषण के दौरान विपक्षी सांसदों ने पहनी काली पट्टी, जाने राष्ट्रपति के भाषण की बड़ी बातें

नई दिल्ली। संसद का बजट सत्र शुक्रवार से शुरू हो गया है। सबसे पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने संसद के दोनों सदनों को संबोधित कर रहे हैं। इसके बाद 1 फरवरी को पेश होने वाले आम बजट से पहले आज केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन आर्थिक सर्वेक्षण ( Economic Survey) पेश करेंगी। Economic Survey के जरिए सरकार बताएगी कि देश की आर्थिक स्थिति कैसी है। राष्ट्रपति के भाषण के दौरान विपक्ष दलों के सांसद काली पट्टियां बांध कर बैठ रहे। ये नागरिकता संशोधन कानून का विरोध कर रहे हैं।

राष्ट्रपति के भाषण की बड़ी बातें

भारत का संविधान हमारे सभी सपनों को पूर्ण करने में हमारा मार्गदर्शक है। अभी कुछ दिन पहले 26 नवंबर को संविधान के 70 वर्ष पूरे हुए, उस दिन देश के 12 करोड़ नागरिकों ने सार्वजनिक रूप संविधान की उद्देशिका को पढ़कर संविधान के पार्टी अपनी प्रतिबद्धता का संकल्प लिया।

– यह दशक भारत के लिए बहुत महत्वपूर्ण है, इस दशक में हमारी स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूर्ण होंगे। इस दशक में हम सभी को मिलकर नयी ऊर्जा के साथ नए भारत के निर्माण को गति देनी है।

– दिल्ली में रहने वाले 40 लाख से ज्यादा लोग, वर्षों से इस अपेक्षा में जी रहे थे कि एक दिन उन्हें अपने घर का मालिकाना हक और गरिमापूर्ण जीवन जीने का अधिकार मिलेगा। दिल्ली की 1,700 से अधिक कॉलोनियों में रहने वाले लोगों की इस अपेक्षा को भी सरकार ने पूरा किया है।

– सरकार द्वारा पिछले 5 वर्षों में जमीनी स्तर पर किए गए सुधारों का ही परिणाम है कि अनेक क्षेत्रों में भारत की अंतरराष्ट्रीय रैंकिंग में अभूतपूर्व सुधार आया है। वर्ल्ड बैंक की Ease of Doing Business की रैंकिंग में भारत आज 63वें स्थान पर पहुंच गया है।

– सुप्रीम कोर्ट द्वारा रामजन्मभूमि पर फैसले के बाद देशवासियों द्वारा जिस तरह परिपक्वता से व्यवहार किया गया, वह भी प्रशंसनीय है। मेरी सरकार का स्पष्ट मत है कि पारस्परिक चर्चा-परिचर्चा तथा वाद-विवाद लोकतंत्र को और सशक्त बनाते हैं।

संसद का बजट सत्र शुक्रवार से शुरू हो गया है। सबसे पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने संसद के दोनों सदनों को संबोधित कर रहे हैं। इसके बाद 1 फरवरी को पेश होने वाले आम बजट से पहले आज केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन आर्थिक सर्वेक्षण ( Economic Survey) पेश करेंगी। Economic Survey के जरिए सरकार बताएगी कि देश की आर्थिक स्थिति कैसी है। राष्ट्रपति के भाषण के दौरान विपक्ष दलों के सांसद काली पट्टियां बांध कर बैठ रहे। ये नागरिकता संशोधन कानून का विरोध कर रहे हैं।

राष्ट्रपति के भाषण की बड़ी बातें

भारत का संविधान हमारे सभी सपनों को पूर्ण करने में हमारा मार्गदर्शक है। अभी कुछ दिन पहले 26 नवंबर को संविधान के 70 वर्ष पूरे हुए, उस दिन देश के 12 करोड़ नागरिकों ने सार्वजनिक रूप संविधान की उद्देशिका को पढ़कर संविधान के पार्टी अपनी प्रतिबद्धता का संकल्प लिया।

– यह दशक भारत के लिए बहुत महत्वपूर्ण है, इस दशक में हमारी स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूर्ण होंगे। इस दशक में हम सभी को मिलकर नयी ऊर्जा के साथ नए भारत के निर्माण को गति देनी है।

– दिल्ली में रहने वाले 40 लाख से ज्यादा लोग, वर्षों से इस अपेक्षा में जी रहे थे कि एक दिन उन्हें अपने घर का मालिकाना हक और गरिमापूर्ण जीवन जीने का अधिकार मिलेगा। दिल्ली की 1,700 से अधिक कॉलोनियों में रहने वाले लोगों की इस अपेक्षा को भी सरकार ने पूरा किया है।

– सरकार द्वारा पिछले 5 वर्षों में जमीनी स्तर पर किए गए सुधारों का ही परिणाम है कि अनेक क्षेत्रों में भारत की अंतरराष्ट्रीय रैंकिंग में अभूतपूर्व सुधार आया है। वर्ल्ड बैंक की Ease of Doing Business की रैंकिंग में भारत आज 63वें स्थान पर पहुंच गया है।

– सुप्रीम कोर्ट द्वारा रामजन्मभूमि पर फैसले के बाद देशवासियों द्वारा जिस तरह परिपक्वता से व्यवहार किया गया, वह भी प्रशंसनीय है। मेरी सरकार का स्पष्ट मत है कि पारस्परिक चर्चा-परिचर्चा तथा वाद-विवाद लोकतंत्र को और सशक्त बनाते हैं।

Budget 2020: कॉरपोरेट टैक्स को लेकर बजट से उम्मीद, इस तरह निवेश को बढ़ावा दे सकती है सरकार
Budget 2020: कॉरपोरेट टैक्स को लेकर बजट से उम्मीद, इस तरह निवेश को बढ़ावा दे सकती है सरकार
यह भी पढ़ें

– संसद के दोनों सदनों द्वारा दो तिहाई बहुमत से संविधान के अनुच्छेद 370 और अनुच्छेद 35A को हटाया जाना, न सिर्फ ऐतिहासिक है बल्कि इससे जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के समान विकास का भी मार्ग प्रशस्त हुआ है।

– मुझे प्रसन्नता है कि पिछले 7 महीनों में संसद ने काम करने के नए कीर्तिमान स्थापित किए हैं। इस लोकसभा के पहले सत्र में, सदन द्वारा कार्य निष्पादन, पिछले सात दशकों में एक नया रिकॉर्ड रहा है।

– मैं इस सदन के माध्यम से जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लोगों को विकास की मुख्यधारा से जुड़ने के लिए बहुत बहुत बधाई देता हूं। जम्मू-कश्मीर और लद्दाख का तेज विकास, वहां की संस्कृति और परंपराओं की रक्षा, पारदर्शी व ईमानदार प्रशासन और लोकतंत्र का सशक्तीकरण, सरकार की प्राथमिकताओं में हैं। वहां के लोगों को अब केंद्र सरकार की सभी योजनाओं का लाभ पारदर्शी तरीके से मिल रहा है। प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत जहां मार्च 2018 तक जम्मू-कश्मीर में लगभग 3,500 घर बनाए गए थे, वहीं दो साल से भी कम समय में 24,000 से ज्यादा घरों का निर्माण पूरा किया गया है।

पीएम मोदी बोले – सरकार पर मुद्दे पर चर्चा के लिए राजी

राष्ट्रपति के अभिभाषण से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मीडिया को संबोधित किया। पीएम ने कहा, यह दशक का पहला

संसद परिसर में विपक्ष ने किया प्रदर्शन

संसद की कार्रवाई शुरू होने से पहले सोनिया गांधी की अगुवाई में विपक्षी दलों ने सीएए और एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शन किया। इन नेताओं ने हाथों पर काली पट्टी बांध रखी थी और नारेबाजी कर रहे थे।

यूरोपीय संसद में वोटिंग से पहले मोदी जाएंगे ब्रसेल्स

यूरोपीय संसद में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ संयुक्त प्रस्ताव पर मतदान टलने को अपनी बड़ी कूटनीतिक जीत मान रही भारत सरकार फिलहाल चुप नहीं बैठने वाली। यूरोपीय संसद में सीएए के खिलाफ यह वोटिंग मार्च तक टल गई है। ऐसे में ठीक उससे पहले फरवरी में न सिर्फ विदेश मंत्री एस जयशंकर यूरोपीय संघ के देशों की यात्रा पर जाएंगे बल्कि उसके तुरंत बाद मार्च के मध्य में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी ब्रसेल्स की यात्रा पर जाएंगे। बेल्जियम की राजधानी ब्रसेल्स शहर में ही यूरोपीय संसद है और पीएम मोदी वहां भारत-यूरोपीय संघ की 15वीं बैठक में हिस्सा लेंगे। इस बैठक का उद्देश्य भारत और यूरोपीय संघ के आर्थिक तथा कूटनीतिक रिश्तों को आगे बढ़ाना है, लेकिन कहने की जरूरत नहीं कि इस दौरान भारत की तरफ से सीएए पर अपना पक्ष मजबूती से रखने में कोई कोताही नहीं होगी।

Advertisements
No tags for this post.

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error:
WhatsApp chat