भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ा अमृत सरोवर तालाब

Advertisements

भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ा अमृत सरोवर तालाब


घोड़ाडोंगरी, (विशाल घोड़की)। आजादी का अमृत महोत्सव की संख्या में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश में तालाबों के निर्माण सरोवर मिशन प्रारंभ किया है। जिसके तहत घोड़ाडोंगरी जनपद पंचायत के अंतर्गत अमृत सरोवर योजना से 12 तालाब बनाए जा रहे हैं। जिसमें मनरेगा के अंतर्गत ग्रामीणों को रोजगार मिलना था जिसमें जनपद के अधिकारी कर्मचारी पलीता लगाते हुए दिखाई दे रहे हैं।इनके द्वारा बरसात का हवाला देते हुए इन तालाबों को बरसात के पहले समय सीमा में पूर्ण करने के लिए से जेसीबी का उपयोग किया गया है जिसके कारण मनरेगा के अंतर्गत 60% राशि से मजदूर वर्ग को रोजगार मिलना है था जो शायद ही मिल पाए।

अमृत सरोवर भ्रष्टाचार का तालाब

घोड़ाडोंगरी जनपद क्षेत्र में अमृत सरोवर योजना से 12 तालाब बन रहे हैं जिसमे दुधावानी ग्राम पंचायत में बन रहे अमृत सरोवर तालाब को भ्रष्टाचार का तालाब माना जा रहाहैं प्राप्त जानकारी के अनुसार दुधावानी ग्राम पंचायत में 20 लाख,15 लाख की राशि से 2 तालाब बनाये जा रहे जिनमें जेसीबी का पूर्ण उपयोग किया जा रहा है। जिसे सही कहते हैं हुए घोड़ाडोंगरी जनपद के एसडीओ पाटकर द्वारा वीडियो जारी करते हुए कहा जा रहा है की जिला पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी द्वारा इन योजनाओं में 15 वित्त कंजर्वेशन राशि का उपयोग किया गया है। जिसमें मशीनों से काम किया जाना है जिसके कारण दुधावानी ग्राम पंचायत के तालाबों में जेसीबी चलाना सही माना गया है। सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार दुधावानी के अमृत सरोवर तालाब में 15 वे वित्त की राशि का उपयोग नहीं किया गया है।

जिसमें 15.23 लाख के तालाब में मनरेगा मजदूरी 9 .15 लाख, मनरेगा सामग्री 6.08 एवं 20 लाख के तालाब में मनरेगा मजदूरी 12.24 लाख मनरेगा सामग्री 7.76 लाख की राशि स्वीकृत हुई है।

वहीं मनरेगा राशि में जेसीबी चलने के कारण ग्रामीणों को ज्यादा दिन का रोजगार नहीं मिल पाएगा क्योंकि इन तालाबों में शुरू से ही जेसीबी का उपयोग किया गया है। वही यह तालाब गुणवंता हिन बनते हुए दिखाई दे रहे हैं जिससे इन तालाबों में कॉम्पेक्शन कम है साइड सलोप का भी का ध्यान नहीं रखा गया हैं। लेवल के अनुसार भी काम नहीं हुआ है वही पिचिंग के लिए उपयोग हो रहा मटेरियल भी मानक अनुसार दिखाई नहीं दिए यह तालाब जनपद से दूर जंगल से लगी हुई ग्राम पंचायत में बनने के कारण भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ते हुए नजर आ रहे हैं। वही जनपद के उच्च अधिकारी अमृत सरोवर के पक्ष में कुछ भी कहने से बचते नजर आए।

घोड़ाडोंगरी भाजपा मंडल अध्यक्ष राजेश महतो ने कहा प्रधान प्रधानमंत्री की अमृत सरोवर योजना को भ्रष्टाचार की भेंट नहीं चढ़ने दिया जाएगा। मनरेगा के अंतर्गत मजदूरों का हक मारते हुए जेसीबी का उपयोग करने वाले कर्मचारी पर कार्रवाई एव शासकीय पैसों का दुरुपयोग करने वालो पर वसूली की मांग की जाएंगी।

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.