बदलते मौसम में बंद नाक और गले की खराश से परेशान हैं तो आजमाएं ये आयुर्वेदिक नुस्खे

Advertisements

मौसम बदलने के साथ ही कई परेशानियां जोर पकड़ने लगती हैं। बदलते मौसम में सर्दी, जुकाम, बंद नाक और खांसी की परेशानी बेहद आम है। सर्दी- जुकाम और बंद नाक की वजह से सांस लेना तक दूभर हो जाता है। गर्मी में बरसात में भीगने से, ठंडे पानी और ठंडी चीजों का सेवन करने से सर्दी-खांसी, गले में खराश और बंद नाक की समस्या हो सकती है।

ये वायरल फ्लू बॉडी को पूरी तरह अपनी गिरफ्त में ले लेता है। इस मौसम में सर्दी जुकाम से बचाव करने के लिए आयुर्वेदिक नुस्खें बेहद असरदार साबित होते हैं। अगर आप अपने में कुछ लक्षणों का अनुभव कर रहे हैं, तो यहां हम आपको कुछ असरदार आयुर्वेदिक उपायों के बारे में बता रहे हैं जो आपको बंद नाक और गले की खराश से निजात दिलाएंगे।

किचन में मौजूद अजवाइन, पुदीना, मेथी दाना और हल्दी का इस्तेमाल करके आप सर्दी जुकाम और गले की खराश का घर में ही इलाज कर सकते हैं। इन मसालों का इस्तेमाल आप भांप लेने में, इनका काढ़ा बनाकर और गरारे करने में कर सकते हैं। ये जादुई आयुर्वेदिक मिश्रण हर तरह से सेहत पर प्रभावी है। गंभीर खांसी, जुकाम और सांस लेने में तकलीफ होने पर आप इसका इस्तेमाल 3 तरीकों से कर सकते हैं जिससे जल्दी आराम मिलता है। आइए जानते हैं कि किचन के इन मसालों का इस्तेमाल कैसे करें।

सामग्री

2 गिलास पानी
मुट्ठी भर – पुदीने के पत्ते
1 चम्मच- अजवायन
½ छोटा चम्मच – अजवायन
½ छोटा चम्मच – हल्दी

तरीका

सबसे पहले किसी पेन में 2 गिलास पानी लें। इस पैन में अजवाइन, पुदीना, मेथी दाना और हल्दी समेत सभी सामग्री को डालें। इसे मध्यम आंच पर 7 से 10 मिनट तक उबालें। जब पानी अच्छी तरह से उबल जाएं तो आप उसका इस्तेमाल काढ़े के रूप में कर सकते हैं। इस काढ़े का सेवन आप खाली पेट या फिर खाने से एक घंटे पहले कर सकते हैं। आप चाहें तो इस पानी से भांप ले सकते हैं। इस पानी से आप गरारे भी कर सकते हैं।

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.