निजी स्कूलों में निःशुल्क प्रवेश के लिए आधार पंजीयन आवश्यक

Advertisements

NEWS IN HINDI

 

निजी स्कूलों में निःशुल्क प्रवेश के लिए आधार पंजीयन आवश्यक

बैतूल। शिक्षा का अधिकार कानून के तहत प्रदेश के प्रायवेट स्कूलों की प्रथम कक्षा में निःशुल्क प्रवेश के लिए वर्ष 2018-19 के शैक्षणिक सत्र की प्रक्रिया शीघ्र प्रारंभ की जायेगी। इस संबंध में केंद्र सरकार ने आगामी सत्र में निःशुल्क प्रवेश के लिए अन्य दस्तावेजों के साथ आधार पंजीयन को भी अनिवार्य कर दिया है। मध्यप्रदेश में शिक्षा का अधिकार कानून के तहत प्रायवेट स्कूल की प्रथम कक्षा में निःशुल्क प्रवेश के लिए ऑनलाइन प्रक्रिया अपनायी जाती है। इसके लिए आवेदक की सुविधा के लिए आरटीई पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन-पत्र का प्रारूप उपलब्ध करवाया जाता है। इसके साथ ही प्रदेश के संबंधित जन-शिक्षा केंद्र, बीआरसी, बीईओ कार्यालय, जिला शिक्षाधिकारी कार्यालय और जिला शिक्षा केंद्र कार्यालय से भी आवेदन-पत्र निःशुल्क उपलब्ध करवाये जाते हैं। ऑनलाइन प्रक्रिया के तहत आवेदक स्वयं पोर्टल पर जाकर निर्धारित फार्म में ऑनलाइन पंजीयन करवा सकते हैं।

NEWS IN English

Basic registration required for free admission to private schools

Betul Under the Right to Education Act, the process of the academic session of the year 2018-19 will be started soon for free entrance to the first class of the state’s private schools. In this regard, the central government has made mandatory registration of registration with other documents for free admission in the upcoming session. Under Madhya Pradesh Right to Education Act, online procedure is adopted for admission to private schools in the first class. For this, the format of online application form is provided on the RTE portal for the applicant’s convenience. In addition, application forms are also provided free of cost from the concerned public education center, BRC, BEO office, district education office and district education center office in the state. Under the online process, applicants can visit the portal themselves and register online in the prescribed form.

Advertisements

 

 

Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.