बैतूल : सांईखेड़ा थाना क्षेत्र के ग्राम सेमरया में दलित विकलांग को सौतेले भाइयों ने जिंदा जलाया

Advertisements

NEWS IH HINDI

बैतूल : सांईखेड़ा थाना क्षेत्र के ग्राम सेमरया में दलित विकलांग को सौतेले भाइयों ने जिंदा जलाया

गजेंद्र सोनी
बैतूल। जिले के सांईखेड़ा थाना क्षेत्र के ग्राम सेमरया में एक विकलांग दलित वृद्ध को सौतेले भाईयों ने जिंदा जलाने का प्रयास किया है। पहले उसकी बेरहमी से पिटाई की और बेहोश हो जाने पर खोत में रखी घांस के नीचे दबाकर आग लगा दी। गंभीर रूप से घायल अवस्था में उसे परिजनों ने जिला अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती कराया है। सांईखेड़ा पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक सांईखेड़ा निवासी 65 वर्षीय दलित वृद्ध दसरू पिता तुका काटोलकर ग्राम सेमरया में स्थित खेत में सिंचाई करने के लिए गया था। शुक्रवार की रात्रि में उसके सौतेले भाई रघुनाथ, गोलू, पिठोल, ईशु पवन,राजेश एवं सुदामा वहां पहुचे और जमीन को लेकर विवाद करने लगे। उन्होंने बेरहमी के साथ दसरू की पिटाई की और खेत में घसीटा। मारपीट में दसरू के बेहोश हो जाने के बाद भी उनका मन नहीं भरा और सभी ने दसरू को घांस के ढेर में दबाकर उसमें आग लगा दी। दसरू के पुत्र रामचंद्र को घटना की जानकारी मिली तो वह तत्काल ही मौके पर पहुंचा और वहां से 108 को फोन कर बुलाया और रात्रि में ही गंभीर रूप से घायल अवस्था में उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया। पीड़ित दसरू ने बताया कि 20 साल पहले ही एक हादसे में उसके दोनों हाथों की ऊंगलियां कट चुकी हैं। उसके सौतेले भाईयों ने उसके फर्जी हस्ताक्षर कर जमीन बेच दी और अब बाकी बची जमीन पर उनकी नजर है। इसी बात को लेकर वे आए दिन विवाद करते रहते थे। शुक्रवार की रात्रि मंे वे पहुंचे और उसे बेरहमी से घसीटते हुए पीटा और बेहोश हो जाने के बाद घांस में दबाकर उसे आग के हवाले कर दिया। सांईखेड़ा पुलिस ने चार आरोपी रघ्ाुनाथ,गोलू, पिठोल और ईशु के खिलाफ धारा 307, 34, 436 के तहत मामला दर्ज कर लिया है।

 

NEWS IN English

Betul: Brothers burned alive to Dalit disabled in Village Semaraya of Sankheda police station area

Gajendra Soni
Betul A disabled Dalit elder in the village of Semaraya in Sankheda police station area of ​​the district has attempted to burn alive the brothers. Earlier, he was brutally beaten and set on fire after being unconscious and pressed under the thigh in the khot. In the seriously injured condition, his relatives have admitted to the district hospital for treatment. According to information received from the Sankheda Police, 65-year-old Dalit elderly resident of Sankheda went to Tarka Katolkar village to irrigate the farm situated in village Semaria. On Friday night, his half-brother Raghunath, Golu, Pithol, Ishu Pawan, Rajesh and Sudama reached there and started dispute over the land. They beat ruthlessly and dragged in the field. Despite the faintness of Dasru in the assault, his mind was not filled, and everyone pressed Dasru into a pile of fire and set fire to it. When Dasru’s son Ramchandra got information about the incident, he immediately reached the spot and called on 108 from there and admitted him to the district hospital in critical condition only at night. The sufferer told that the fingers of both his hands have been cut in an accident 20 years ago. His half-brothers sold his land and signed him with fake sign and now he has a look on the remaining land. They used to argue about the same day. On Friday night they arrived and dragged him brutally and dragged him into the fire after being unconscious and handed him over to the fire. The Sankheda police registered a case under Section 307, 34, 436 against four accused Raghunath, Golu, Pithol and Ishu.

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.