बैतूल : उद्यानिकी विभाग द्वारा जयवंती हॉक्सर स्नातकोत्तर महाविद्यालय में मशरूम उत्पादन का प्रशिक्षण आयोजित किया गया

Advertisements

NEWS IN HINDI

बैतूल : उद्यानिकी विभाग द्वारा जयवंती हॉक्सर स्नातकोत्तर महाविद्यालय में मशरूम उत्पादन का प्रशिक्षण आयोजित किया गया

गजेन्द्र सोनी
बैतूल। उद्यानिकी विभाग द्वारा जयवंती हॉक्सर स्नातकोत्तर महाविद्यालय में आयोजित कैरियर अवसर मेले के दूसरे दिन 24 फरवरी को मशरूम उत्पादन का प्रशिक्षण आयोजित किया गया। यह प्रशिक्षण मशरूम विशेषज्ञ श्री विकास बनारे द्वारा विद्यार्थियों को दिया गया। प्रशिक्षण के दौरान उप संचालक उद्यान डॉ. आशा उपवंशी ने बताया कि मशरूम उत्पादन कम लागत में अधिक लाभ कमाने का अच्छा माध्यम है एवं शिक्षित-अशिक्षित, बेरोजगार युवक-युवती इसे अपनाकर अच्छा लाभ कमा सकते हैं। इच्छुक छात्र-छात्राएं पांच हजार रूपए की कम लागत से भी मशरूम उत्पादन की शुरुआत कर सकते हैं। इस लागत में मशरूम के 500 बैग तैयार होते हैं, जिनसे 45 दिनों में तीन फसल ली जाती है। प्रति बैग 500 ग्राम से 800 ग्राम तक मशरूम उत्पादित होता है। इस तरह कुल 500 बैग से 250 किलो से लेकर 400 किलो तक ताजा मशरूम प्राप्त होता है। ये मशरूम 60 रूपए से लेकर 120 रूपए तक स्थानीय बाजार में आसानी से बिक जाता है। इस प्रकार पांच हजार रूपए की लागत से 45 दिन बाद आसानी से 15 हजार से 40 हजार रूपए तक का कुल लाभ कमाया जा सकता है।  प्रशिक्षण के दौरान मशरूम विशेषज्ञ श्री विकास बनारे द्वारा उपस्थित छात्र-छात्राओं को मशरूम उत्पादन कैसे किया जाता है, का लाइव प्रदर्शन किया गया। उन्होंने बताया कि मशरूम उत्पादन के लिए गेहूं का भूसा, पॉलीथिन की थैली, मशरूम का बीज जो कि गेहूं पर उगाया जाता है एवं अन्य सामग्री की आवश्यकता होती है। श्री बनारे द्वारा विद्यार्थियों के साथ मिलकर मशरूम के बैग किस तरह से भरे जाते हैं, का प्रदर्शन किया गया एवं मशरूम उत्पादन से संबंधी अपने अनुभव भी छात्र-छात्राओं से साझा किए। लाइव प्रशिक्षण के पश्चात् उपस्थित छात्र-छात्राओं के मशरूम उत्पादन से संबंधी शंकाओं का समाधान भी डॉ. उपवंशी एवं श्री बनारे द्वारा किया गया। प्रशिक्षण के दौरान उप संचालक उद्यान ने उपस्थित छात्र-छात्राओं से कहा कि यदि वे मशरूम उत्पादन के क्षेत्र में आगे बढऩा चाहते हैं तो इच्छुक छात्र-छात्राओं को विभाग के माध्यम से विस्तृत प्रशिक्षण भी दिलाए जाने की व्यवस्था की जाएगी। प्रशिक्षण के दौरान उद्यानिकी विभाग के अधिकारी श्री बीके जावलकर, श्री पुनेश पहाड़े, श्री यादोराव दवण्डे, महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. राकेश तिवारी एवं कैरियर मार्गदर्शन एवं स्थानन प्रकोष्ठ की संयोजक डॉ. ज्योति शर्मा सहित स्टाफ एवं बड़ी संख्या में कॉलेज के छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।

हर ताज़ा अपडेट पाने के लिए लिंक पर क्लिक करके https://www.facebook.com/samacharokiduniya/ पेज को लाइक करें या वेब साईट पर FOLLOW बटन दबाकर ईमेल लिखकर ओके दबाये।

 

NEWS IN English

Betul: Training of Mushroom Production was organized by the Department of Horticulture Department at Jayavanti Hoxar Postgraduate College

Gajendra Soni
Betul The training of mushroom production was organized on February 24, the second day of the Career Opportunity Fair organized by the Department of Horticulture at Jayawanti Hoxar Postgraduate College. This training was given to the students by the Mushroom Specialist Mr. Vikas Banar. During the training, Dr. Ashha Dwanchi, Deputy Director, said that mushroom production is a good medium to earn more profit in lower cost and educated-uneducated, unemployed youths can earn good profit by adopting it. Interested students can start mushroom production at a cost of less than Rs. 5000. In this cost, 500 bags of mushroom are prepared, from which three crops are taken in 45 days. Mushrooms are produced from 500 grams to 800 grams per bag. In this way, fresh mushrooms are available from 500 kg to 250 kg to 400 kg. These mushrooms are easily sold in the local market from 60 to 120 rupees. Thus, after 45 days at the cost of five thousand rupees, it can be easily earned from 15 thousand to 40 thousand rupees.
During the training, mushroom specialist Mr. Vikas Banar how students are made to produce mushroom was performed live. He told that wheat wheat straw, polythene bag, mushroom seeds which are grown on wheat and other materials are needed for mushroom production. How are the bags of mushroom packed together with the students of Shri Banare, were displayed and shared their experiences related to mushroom production with the students. The questions related to mushroom production of students after live training were also addressed by Dr. Devshi and Shri Banare. During the training, the Deputy Operation Garden told the students present that if they want to go ahead in the field of mushroom production, then interested students will be provided with detailed training through department. During the training, officers of the Department of Horticulture Mr. B.K. Javalkar, Mr. Punesh Gharwade, Mr. Yadvorao Dwande, Principal of the college Dr. Rakesh Tiwari and the staff of Career Guidance and Placement Cell Dr. Jyoti Sharma and a large number of college students attended Were.

To get the latest updates, click on the link: https://www.facebook.com/samacharokiduniya/Like the page or press the FOLLOW button on the web site and press the OK

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.