बैतूल जिला अस्पताल प्रबंधन की बड़ी लापरवाही,पैदल चल रही प्रसूता की हुई डिलेवरी,बच्चे की मौत

Advertisements

NEWS IN HINDI

बैतूल जिला अस्पताल प्रबंधन की बड़ी लापरवाही,पैदल चल रही प्रसूता की हुई डिलेवरी,बच्चे की मौत

हेमंत पवार
बैतूल। कुछ ही दिन पहले जिला अस्पताल पहुचे प्रदेश के स्वस्थ मंत्री रुस्तम सिंग ने जिला अस्पताल की व्यवस्था को लेकर तारीफ की थी। लेकिन मंत्री के जाने के कुछ दिनों बाद ही जिला अस्पताल की बड़ी और गंभीर लापरवाही सामने आई है। आज एक नव प्रसूता को जननी से उतार कर पैदल वार्ड में लेजाते समय ही डिलेवरी हो गई। और नवजात बच्चे की फर्श पर गिरकर मौत हो गई। मामला 12 बजे के आस-पास का है। जब नीलू वर्मा को घोड़ाडोंगरी सामुदायिक केंद्र से जिला अस्पताल रेफर किया गया था। जननी एक्सप्रेस से जैसे ही नीलू वर्मा को उसके ससुराल वाले जिला अस्पताल लेकर पहुचे तो आशा कार्यकर्ता ने अस्पताल में जाकर स्टाफ को बताया कि डिलेवरी के लिए उसने महिला को लाया है डिलेवरी का टाइम हो चुका है आप चलकर देख लीजिए। तभी स्वस्थ कर्मचारी जननी एक्सप्रेस पहुचे और प्रसूता नीलू वर्मा का चेकअप किया गया। और परिजनों को बोला गया कि डिलेवरी को अभी टाइम है आप लोग मरीज को पैदल वार्ड में भर्ती करवा दे। बिना स्ट्रेचर के पैदल चलते वक्त ही नीलू को डिलेवरी हो गई और बच्चा फर्श पर गिर गया और उसकी मौत हो गई। बताया गया कि नीलू को बेटा हुआ था। और यह उसका पहला बच्चा था। प्रसूता नीलू वर्मा के पति विकास वर्मा और ससुर धनराज वर्मा ने बच्चे की मौत के लिए जिला अस्पताल प्रबंधन को जिम्मेदार ठहराया है। उनका आरोप है कि स्वस्थ कर्मचारियों की गंभीर लापरवाही के कारण उनके घर मे आज खुशियो की जगह मातम छा गया है। उन्होंने आरोप लगाया कि जब वे जिला अस्पताल पहुचे और उनके साथ आई आशा कार्यकर्ता ने पहले ही स्टाफ को बतला दिया था। कि डिलेवरी का समय आ ही गया है बावजूद इसके स्ट्रेचर या विल चेयर के बिना पैदल चलने को मजबूर किया गया जिसके कारण उनके बच्चे की मौत हुई है। वही इस मामले को लेकर जिला अस्पताल के सिविल सर्जन अशोक बारंगा ने कहा है कि यह गंभीर लापरवाही का मामला है। प्रसूता को पैदल चलने के लिए मजबूर किया गया। जिसके करने बेबी की मौत हुई है। मैने ऑन ड्यूटी के नाम पता कर लिए है। और अस्पताल प्रबंधन लापरवाह कर्मचारी के खिलाफ कठोर कार्यवाही करेगा ।

 

NEWS IN English

Big negligence of Betul district hospital management, pedestrian delivery delivery, child death

Hemant Pawar
Betul Just a few days before the district hospital reached, Health Minister Rustom Singh of the state had praised the arrangements of the district hospital. But a few days after the minister’s departure, the district hospital’s major and serious negligence has emerged. Today, the delivery of a newborn baby has taken place from the mother and taken to the pedestal ward. And the newborn baby fell on the floor and died. The case is around 12 o’clock. When Neelu Verma was referred to Ghoddangari Community Center from the District Hospital. As soon as the Janani Express approached Neelu Verma with her in-laws’ district hospital, the Asha worker went to the hospital and told the staff that she has brought the woman for delivery. The time of delivery has been done. You should go and see. Only then the healthy employee reached the Janani Express and the Nayulu Verma was given checkup. And the families were told that the delivery time is now. You should be admitted to the pedestrians. Neelu was discharged without walking on the stretcher, and the child fell on the floor and died. It was told that Neelu had a son. And this was her first child. Nilu Verma’s husband Vikas Verma and father-in-law Dhanraj Verma have blamed the district hospital management for the death of the child. They have alleged that due to the serious negligence of the healthy workers, they have lost their place in the place of happiness in the house today. He alleged that when he reached the district hospital and the hope worker who had accompanied him had already told the staff. Even though the delivery time has arrived, despite the fact that it was forced to walk without its stretcher or will chair, due to which his child was killed. About the same, district surgeon Civil Surgeon Ashok Baranga has said that this is a matter of serious negligence. The grandfather was forced to walk on foot. To which baby has died. I have known the name of On Duty. And hospital management will take strict action against the caretaker employee.

Advertisements
Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.