बीजेपी नेता और खनन-शिक्षण संस्थाओं के संचालक शर्मा की कंपनी और अफसरों पर भी दर्ज होगी एफआईआर

Advertisements

NEWS IN HINDI

बीजेपी नेता और खनन-शिक्षण संस्थाओं के संचालक शर्मा की कंपनी और अफसरों पर भी दर्ज होगी एफआईआर

भोपाल। बीजेपी नेता और खनन-शिक्षण संस्थाओं के संचालक सुधीर शर्मा की कंपनी एसआर फेरो एलॉयस के खिलाफ सीबीआई अगले कुछ दिनों में प्राथमिक जांच पूरी कर एफआईआर दर्ज कर सकती है। एफआईआर में केवल रिश्वत नहीं, बल्कि खनन कंपनी की ओर खदान आवंटन के दौरान की गई गड़बड़ी करने वाले अफसरों को भी शामिल किया जा सकता है। सूत्रों के अनुसार सीबीआई को सुधीर शर्मा की कंपनी एसआर फेरो एलॉयस के खदान आवंटन के मामले संबंधी दस्तावेजों में कई गड़बड़ियों के साक्ष्य मिले हैं। इसलिए अब सीबीआई केवल आयकर विभाग से मिले रिश्वत संबंधी रिकॉर्ड ही नहीं, बल्कि झाबुआ स्थित खदान आवंटन के दस्तावेजों में की गई हेराफेरी की भी जांच कर रही है। इनमें एसआर फेरो एलॉयस कंपनी द्वारा खदान पाने के लिए कौन-कौन सी गड़बड़ी की गई, इसकी जांच सीबीआई ने शुरू कर दी है। सूत्र बताते हैं कि एसआर फेरो एलॉयस कंपनी को खदान आवंटन मामले की सीबीआई द्वारा जांच की भनक राज्य के खनिज विभाग के अफसरों को लग गई है। अफसरों ने झाबुआ स्थित खदान के आवंटन संबंधी फाइल की तलाश शुरू कर दी है जिससे मंत्रालय के खनिज विभाग में हड़कंप मच गया है। खदान के इस आवंटन में तकनीकी खामियों को तलाशा जा रहा है जिससे उनके जवाब तैयार किए जा सकें।
सूत्रों ने बताया कि एसआर फेरो एलॉयस कंपनी के पहले झाबुआ की खदान जिस जालान इस्पात कॉस्टिंग कंपनी के पास थी, उस पर सरकार की करीब दस करोड़ रुपए की देनदारियां थीं। इसमें केंद्र और राज्य सरकारों के करों की करीब तीन करोड़ राशि के अलावा मप्र की विद्युत कंपनी की लगभग सवा तीन करोड़ रुपए की राशि बकाया है।

 

NEWS IN English

BJP leader and mining-educational institutions director Sharma’s company and officers will also be booked on FIR

Bhopal. The CBI may file an FIR in the next few days by completing the preliminary inquiry against SR Pharro Alloys, a company leader of BJP leader and mining-learning institutions director Sudhir Sharma. Not only bribe in FIR, but officials who have made mischief during mine allocation towards mining company can also be included. According to sources, evidence of several disturbances in the documents related to the allocation of mine of mine of Sudher Sharma’s company SR Ferro Alloys has been found to the CBI. Therefore, the CBI is not only investigating the bribery records received from the Income Tax Department, but also the misappropriation of documents in allocation of quarry allotment in Jhabua. Among them, the CBI has started investigating what was done to get the quarry by the SR Ferro Alloys Company. Sources reveal that the officers of the Mineral Department of the state have been identified as investigating the quarry allocation case by the CBI to the SR Ferro Alloys Company. The officers have started looking for files related to the allotment of mines in Jhabua, which has stirred up the mineral department’s ministry. Technological flaws are being searched in this allocation of the mine so that their answers can be prepared.
Sources said that the government had about ten crore rupees of liability on the Jal Phrao Alloys Company’s Jhaban Steel Coaching Company, which had the mine of Jhabua before. In addition to the nearly three crore rupees of the taxes of the Central and State Governments, the amount of approximately Rs. 3 crores of the electricity company of MP is outstanding.

Advertisements
Advertisements
Advertisements

Related posts

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.